समाचार
|| जनसुनवाई में 175 आवेदन प्राप्त हुए || पौधा रोपण के लिए उद्यान विभाग की संभाग स्तरीय कार्यशाला सम्पन्न || विकलांगजनों के लिए विशिष्ट पहचान पत्र || कर्मचारी चयन आयोग रायपुर की परीक्षा निरस्त || समग्र आईडी में आधार नम्बर दर्ज कराएं || रियल एस्टेट रेगुलेटरी एक्ट सम्बन्धी बैठक आज || संभाग आयुक्त ने किया जयारोग्य चिकित्सालय के शवगृह का आकस्मिक निरीक्षण || दिव्यांग प्रतिभागियों से राष्ट्रीय आई.टी.चैलेंज प्रतियोगिता के लिये नाम आमंत्रित || दिव्यांग विद्यार्थियों को शासकीय आईटीआई में मिलेगा प्रवेश || आईएफएमआईएस द्वारा स्थानांतरण आवेदन प्रस्तुत करने व पे- रोल का दिया प्रशिक्षण
अन्य ख़बरें
नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा में सभी वर्ग-धर्म के लोग भाग ले रहे है, बढ़-चढ़कर
-
बड़वानी | 16-फरवरी-2017
 
   मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा 11 दिसम्बर को अमरकंटक से प्रारंभ ‘‘नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा‘‘ का मूल उद्देश्य दिनो-दिन स्पष्ट होता जा रहा है। यात्रा प्रारंभ होने के 68 वें दिन बड़वानी जिले के ग्राम गोलाटा की 7 वर्षीय बालिका कुमारी नाजनीन खांन ने अपने सिर पर भी कलश लेकर सेवा यात्रा के साथ चलने की इच्छा को रोकर पूर्ण कराकर सिद्ध कर दिया है कि मॉ नर्मदा की सेवा एवं उसे सदा निर्मल एवं गतिमान बनाये रखने का कार्य धर्म, वर्ग, जाति के उपर है।
कलश के लिए मचल गई नाजनीन खांन को दिलवाना पड़ा नया कलश
   बड़वानी जिले के ग्राम गोलाटा में ‘‘नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा‘‘ के साथ चल रहे श्रद्धालु उस वक्त आश्चर्य में पड़ गये जब उन्होने अपने स्वागत एवं सत्कार हेतु ग्रामीणो द्वारा दिये गये फल एवं मिठाई को एक छोटी बच्ची को देकर चुप कराने का प्रयास किया, और बच्ची ने उसे लेने से इंकार कर दिया। कारण जानने पर ज्ञात हुआ कि बच्ची का नाम नाजनीन खांन है और वह अपने घर से कलश लेकर श्रद्धालुओ के स्वागत के लिए आई थी। किन्तु किसी अन्य बालिका ने उसका कलश लेकर अपने सिर पर रख लिया। जिसके कारण वह बिना कलश के हो गई।
   इस पर नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा के साथ चल रहे क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता श्री सुखदेव यादव ने तत्काल ग्राम के घर से एक कलश बुलाकर कुमारी नाजनीन खांन को ससम्मान दिया। जिससे नाजनीन खुशी-खुशी सेवा यात्रा में कलश लेकर शामिल हुई।
नर्मदा जल कलश को रखा गया पालकी में
   नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा जब ग्राम गोलाटा पहुंची तो नवाचार देखने को मिला। साधारणतः अभी तक ग्रामो मे नर्मदा जल कलश को एक ग्रामवासी अपने सिर पर धारण करके ग्राम में ले जाते थे परन्तु जब यात्रा ग्राम गोलाटा पहुंची तो ग्रामवासियो ने नर्मदा जल कलश को पालकी में रखकर चारो तरफ से चार अलग-अलग ग्रामवासियो ने कलश को उठाकर प्रसन्नता व आनंद का अनुभव किया।
(97 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2017जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
24252627282930
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer