समाचार
|| कर्मियों के साथ रचनात्मक कार्यों को भी अखबारों में स्थान मिले || एम.पी. हाउसिंग बोर्ड का विश्वकर्मा अवार्ड-2017 के लिये चयन || प्रदेश की जनता के कल्याण की कामना || झुक जाना नहीं || शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर अल्पावधि कृषि ऋण देने की योजना || सवा तीन लाख से अधिक उपभोक्ता ने समाधान से जुड़कर घरों को रोशन किया || आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को मिलेगा अवकाश का लाभ || शल्पियों को राज्य स्तरीय विश्वकर्मा पुरूस्कार योजना, आवेदन आमंत्रित || मदरसा बोर्ड की कक्षा 10 एवं 12 के परीक्षा आवेदन || लेखा प्रशिक्षण सत्र 1 अप्रैल से 30 जून तक
अन्य ख़बरें
नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा में सभी वर्ग-धर्म के लोग भाग ले रहे है, बढ़-चढ़कर
-
बड़वानी | 16-फरवरी-2017
 
   मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा 11 दिसम्बर को अमरकंटक से प्रारंभ ‘‘नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा‘‘ का मूल उद्देश्य दिनो-दिन स्पष्ट होता जा रहा है। यात्रा प्रारंभ होने के 68 वें दिन बड़वानी जिले के ग्राम गोलाटा की 7 वर्षीय बालिका कुमारी नाजनीन खांन ने अपने सिर पर भी कलश लेकर सेवा यात्रा के साथ चलने की इच्छा को रोकर पूर्ण कराकर सिद्ध कर दिया है कि मॉ नर्मदा की सेवा एवं उसे सदा निर्मल एवं गतिमान बनाये रखने का कार्य धर्म, वर्ग, जाति के उपर है।
कलश के लिए मचल गई नाजनीन खांन को दिलवाना पड़ा नया कलश
   बड़वानी जिले के ग्राम गोलाटा में ‘‘नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा‘‘ के साथ चल रहे श्रद्धालु उस वक्त आश्चर्य में पड़ गये जब उन्होने अपने स्वागत एवं सत्कार हेतु ग्रामीणो द्वारा दिये गये फल एवं मिठाई को एक छोटी बच्ची को देकर चुप कराने का प्रयास किया, और बच्ची ने उसे लेने से इंकार कर दिया। कारण जानने पर ज्ञात हुआ कि बच्ची का नाम नाजनीन खांन है और वह अपने घर से कलश लेकर श्रद्धालुओ के स्वागत के लिए आई थी। किन्तु किसी अन्य बालिका ने उसका कलश लेकर अपने सिर पर रख लिया। जिसके कारण वह बिना कलश के हो गई।
   इस पर नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा के साथ चल रहे क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता श्री सुखदेव यादव ने तत्काल ग्राम के घर से एक कलश बुलाकर कुमारी नाजनीन खांन को ससम्मान दिया। जिससे नाजनीन खुशी-खुशी सेवा यात्रा में कलश लेकर शामिल हुई।
नर्मदा जल कलश को रखा गया पालकी में
   नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा जब ग्राम गोलाटा पहुंची तो नवाचार देखने को मिला। साधारणतः अभी तक ग्रामो मे नर्मदा जल कलश को एक ग्रामवासी अपने सिर पर धारण करके ग्राम में ले जाते थे परन्तु जब यात्रा ग्राम गोलाटा पहुंची तो ग्रामवासियो ने नर्मदा जल कलश को पालकी में रखकर चारो तरफ से चार अलग-अलग ग्रामवासियो ने कलश को उठाकर प्रसन्नता व आनंद का अनुभव किया।
(10 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2017मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272812345
6789101112

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer