समाचार
|| मुख्यमंत्री आज आयेंगे, अन्त्योदय मेले मे होंगे शामिल || जिले मे अब तक 41.6 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज || जिले के 1 लाख 84 हजार किसानो को मिले किसान क्रेडिट कार्ड || नशीले पर्दाथों के दुरूपयोग को रोकने के लिये होगें सप्ताह भर आयोजन || उचित मूल्य दुकानों से वितरण के लिए 7 हजार मे. टन प्याज पुनरावंटित || प्रधानमंत्री जनधन योजना मे खोले गये 2 लाख 88 हजार बैंक खाते || नवोदय विद्यालय मे हिन्दी कार्यशाला 27 जून को || किसान अपनी फसल का बीमा अनिर्वाय रूप से कराये:- उपसंचालक || कलेक्टर श्री सिंह ने अधिकारियों की ली परिचायत्मक बैठक || बिना अनुमति मुख्यालय नहीं छोड़ने के आदेश
अन्य ख़बरें
नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा में सभी वर्ग-धर्म के लोग भाग ले रहे है, बढ़-चढ़कर
-
बड़वानी | 16-फरवरी-2017
 
   मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा 11 दिसम्बर को अमरकंटक से प्रारंभ ‘‘नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा‘‘ का मूल उद्देश्य दिनो-दिन स्पष्ट होता जा रहा है। यात्रा प्रारंभ होने के 68 वें दिन बड़वानी जिले के ग्राम गोलाटा की 7 वर्षीय बालिका कुमारी नाजनीन खांन ने अपने सिर पर भी कलश लेकर सेवा यात्रा के साथ चलने की इच्छा को रोकर पूर्ण कराकर सिद्ध कर दिया है कि मॉ नर्मदा की सेवा एवं उसे सदा निर्मल एवं गतिमान बनाये रखने का कार्य धर्म, वर्ग, जाति के उपर है।
कलश के लिए मचल गई नाजनीन खांन को दिलवाना पड़ा नया कलश
   बड़वानी जिले के ग्राम गोलाटा में ‘‘नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा‘‘ के साथ चल रहे श्रद्धालु उस वक्त आश्चर्य में पड़ गये जब उन्होने अपने स्वागत एवं सत्कार हेतु ग्रामीणो द्वारा दिये गये फल एवं मिठाई को एक छोटी बच्ची को देकर चुप कराने का प्रयास किया, और बच्ची ने उसे लेने से इंकार कर दिया। कारण जानने पर ज्ञात हुआ कि बच्ची का नाम नाजनीन खांन है और वह अपने घर से कलश लेकर श्रद्धालुओ के स्वागत के लिए आई थी। किन्तु किसी अन्य बालिका ने उसका कलश लेकर अपने सिर पर रख लिया। जिसके कारण वह बिना कलश के हो गई।
   इस पर नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा के साथ चल रहे क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता श्री सुखदेव यादव ने तत्काल ग्राम के घर से एक कलश बुलाकर कुमारी नाजनीन खांन को ससम्मान दिया। जिससे नाजनीन खुशी-खुशी सेवा यात्रा में कलश लेकर शामिल हुई।
नर्मदा जल कलश को रखा गया पालकी में
   नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा जब ग्राम गोलाटा पहुंची तो नवाचार देखने को मिला। साधारणतः अभी तक ग्रामो मे नर्मदा जल कलश को एक ग्रामवासी अपने सिर पर धारण करके ग्राम में ले जाते थे परन्तु जब यात्रा ग्राम गोलाटा पहुंची तो ग्रामवासियो ने नर्मदा जल कलश को पालकी में रखकर चारो तरफ से चार अलग-अलग ग्रामवासियो ने कलश को उठाकर प्रसन्नता व आनंद का अनुभव किया।
(128 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2017जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2930311234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293012
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer