समाचार
|| जिले के गैर डिफॉल्टर किसानों को ऋण मुहैया कराने के निर्देश || 378 स्थानों पर किसान बाजार बनेगें || सबका यही हो सपना, स्मार्ट सिटी हो उज्जैन अपना || कलेक्टर के निर्देश पर मगाए 50 ट्रांसफार्मर व 200 खंबे || जनसंपर्क मंत्री रोजा अफ्तार में सम्मिलित हुए || जनसंपर्क मंत्री ने पब्लिक स्कूल का फीता काटकर शुभारंभ किया || रथ दोज पर भगवान जगन्नाथ का वित्तमंत्री श्री मलैया ने किया पूजन || रेडक्रास ने बहुत उल्लेखनीय कार्य किये हैं, चाहे वृद्धाश्रम का काम हो, दीनदयाल रसोई का काम हो-वित्तमंत्री जयंत मलैया || ग्राम कछौआ में किसान सम्मेलन || सच्ची लगन, मेहनत और मार्गदर्शन से प्रतिभायें उभरती हैं – श्री पवैया
अन्य ख़बरें
"धरोहर की बात धरोहर के साथ" की थीम पर होगा बुरहानपुर सिंहावलोकन
विश्व धरोहर दिवस पर बुरहानपुर में दो दिवसीय संगोष्ठी और हैरिटेज वॉक का आयोजन 18 अप्रैल से
इन्दौर | 16-अप्रैल-2017
 
   
          विश्व धरोहर दिवस पर 18 अप्रैल से इन्दौर संभाग के बुरहानपुर जिले में दो दिवसीय बुरहानपुर सिंहावलोकन कार्यक्रम आरंभ किया जा रहा है। महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस ने बुरहानपुर में बताया कि यहाँ की मध्यकालीन विरासत के साथ-साथ पुरातत्वीय तथा प्राचीन भारतीय इतिहास की महत्वपूर्ण धरोहरों को सामने लाने के उददेश्य से यह कार्यक्रम संचालनालय पुरातत्व अभिलेखागार एवं संग्रहालय के सहयोग से किया जायेगा।
          श्रीमती चिटनीस ने बताया कि बुरहानपुर में प्राप्त कॉपर होर्ड कल्चर की कुल्हाड़ी, अनुश्रुतियों में आता महर्षि नारद और अश्वत्थामा का उल्लेख, प्राचीन साहित्यिक ग्रंथ ताप्ती महात्म्य के आठ अध्यायों में यहाँ का वर्णन, समस्त ऐतिहासिक कालों में बुरहानपुर के महत्व को स्थापित करता है। इन विषयों पर चर्चा, विषय विशेषज्ञों के विचार सुनने और क्षेत्र की धरोहरों के संरक्षण और संवर्धन में जन-सामान्य को जोड़ने के लिये ''''धरोहर की बात धरोहर के साथ'''' की थीम पर 18 और 19 अप्रैल को संगोष्ठी, हेरिटेज वॉक, हेरिटेज ड्राइव तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे।
          बुरहानपुर में 18 अप्रैल को संगोष्ठी में प्रागैतिहासिक काल, पुरैतिहासिक काल में बुरहानपुर तथा 19 अप्रैल को यहाँ के कला एवं स्थापत्य, ऐतिहासिक पुरातत्व, मध्यकालीन इतिहास तथा पर्यटन अभिरुचि पर विचार-विमर्श होगा। दोनों दिवस हेरिटेज वॉक तथा ड्राइव में गुप्तेश्वर मंदिर, दरगाह-ए-हकीमी, कुण्डी भंडारा, गुरुद्वारा और जैन मंदिर सहित सहभागियों को ऐतिहासिक महत्व के 22 स्थानों को देखने-समझने का मौका मिलेगा। पुरातात्विक दृष्टि से बुरहानपुर जिले का विशेष महत्व है। बुरहानपुर स्थित 150 भवनों को यूनेस्को भारत सरकार और मध्यप्रदेश शासन द्वारा विश्व धरोहर या संरक्षित स्मारक घोषित किया गया है।
          संगोष्ठी और हेरिटेज वॉक में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण नई दिल्ली के संयुक्त निर्देशक श्री एस.बी. ओटा, बैंगलुरू के पुरातत्वविद् प्रो. रवि कोरिसेट्टर, दिल्ली की हेरिटेज प्लानर डॉ. निशा टंडन, मुद्रा शास्त्री प्रो. एस.के. भट्ट सहित इंटेक,वाकणकर शोध संस्थान, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर, विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन, बरकतुल्लाह विश्वविद्यालय भोपाल तथा जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर के पुरातत्ववेत्ता और इतिहासकार भाग लेंगे।
(71 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2017जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2930311234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293012
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer