समाचार
|| विशिष्ट शैक्षणिक संस्थाओ में प्रवेश के लिए ऑनलाईन होंगे आवेदन || पीड़ित महिलाओं को देंगे व्यवसायिक प्रशिक्षण || पार्षद एवं जिला पंचायत सदस्यों के लिए की गई मतो की गणना || कलेक्टर द्वारा राज्य प्रशासनिक संवर्ग अधिकारियों के मध्य नये सिरे से कार्य विभाजन || दाखाबाई खटीक सरपंच पद पर निर्वाचित || गणतंत्र दिवस पर बच्चों को मिलेगा विशेष भोज "मध्यान्ह भोजन योजना" || अवैध रेत उत्खनन पर पंचायत कर सकेंगी कार्यवाही || केंट विधायक की स्वेच्छानुदान निधि से 3.83 लाख रूपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत || दो दिवसीय रोज शो एवं कृषक प्रशिक्षण आज से || पाटन विधायक ने 47 लोगों को आर्थिक सहायता स्वीकृत की
अन्य ख़बरें
चार वर्षों पश्चात गुमशुदा को मिला परिवार
-
अनुपपुर | 10-जुलाई-2017
 
   
    वर्ष 2013 में अनूपपुर रेलवे स्टेशन में लगभग 8 वर्षीय एक गुमशुदा बालक जी.आर.पी को प्राप्त हुआ, जो स्पष्ट बोलने में असमर्थ था। जी.आर.पी द्वारा इस बालक को जिला बाल संरक्षण अधिकारी एवं बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत किया गया। बाल कल्याण समिति ने अपने आदेश के द्वारा बालक को अनूपपुर में स्थित ममता बाल गृह में प्रवेशित कराया। ममता बाल गृह में बालक को शिक्षा प्रदान किए जाने हेतु विद्यालय में प्रवेशित कराया गया एवं स्वास्थ्य देखभाल की गई। बालक अपने अभिभावको का नाम, पता बताने में असमर्थ था परंतु जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी एवं जिला बाल संरक्षण अधिकारी श्रीमती मंजूशा शर्मा के नेतृत्व में समेकित बाल संरक्षण योजना के अंतर्गत पदस्थ कर्मचारियों के द्वारा निरंतर बालक के निवास का पता करने का प्रयास किया जा रहा था, परंतु सफलता प्राप्त नही हो रही थीं। तत्पश्चात गुमशुदा बालक का आधार कार्ड बनवाने हेतु आधार कार्ड सेंटर ले जाया गया जहां जानकारी प्राप्त हुई की बालक का पूर्व में भी आधार कार्ड बनवाया जा चुका है, किन्तु पूर्व में निर्मित आधार कार्ड की जानकारी प्राप्त नही हो पा रही थीं। उक्त जानकारी महिला सशक्तिकरण विभाग में पदस्थ श्री समीर खान के द्वारा तत्काल जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी एवं जिला बाल संरक्षण अधिकारी जिला अनूपपुर श्रीमती मंजूषा शर्मा को प्रदान की गई। प्राप्त सूचना पर तत्काल कार्यवाही करते हुए जिला बाल संरक्षण अधिकारी ने कलेक्टर श्री अजय शर्मा को सूचना से अवगत कराया। कलेक्टर श्री अजय शर्मा द्वारा भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण से संपर्क कर बालक के संबंध में जानकारी प्राप्त करने का प्रयास किया गया, जिसमें पूर्व में निर्मित आधार कार्ड के आधार पर भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण द्वारा कलेक्टर श्री शर्मा को बालक के पिता का नाम व पता की जानकारी दूरभाष पर प्रदान की गई, जिसके अनुसार ज्ञात हुआ की बालक जिला रायगढ़ छत्तीसगढ़ का निवासी है एवं उनके पिता का नाम श्री कृष्णा निसाद है। प्राप्त पते के अनुसार बालक के परिवार की खोज व पते का सत्यापन करने हेतु  पुलिस अधीक्षक श्री सुनील जैन के द्वारा कार्यवाही की गई, जिसके उपरांत बालक के पिता से संपर्क हो सका। 10 जुलाई 2017 को चौकी जूटमील थाना कोतवाली रायगढ़ जिला रायगढ छत्तीसगढ में पदस्थ प्रधान आरक्षक श्री हेमसागर पटेल एवं आरक्षक श्री प्रकाश तिवारी के साथ बालक के पिता अपने गुमशुदा बालक सोनू को लेने जिला बाल संरक्षण अधिकारी श्रीमती मंजूषा शर्मा के समक्ष प्रस्तुत हुए। तदुपरांत  बाल कल्याण समिति के आदेश पर बालक को उसके पिता के सुपुर्द कर दिया गया। बालक के मिलने पर बालक के पिता के द्वारा अत्यंत प्रसन्नता व्यक्त की गई, वहीं बालक भी अपने बिछडे़ हुए पिता से मिल कर भावुक हो गया।
(194 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2018फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer