समाचार
|| राज्य खाद्य आयोग के अध्यक्ष श्री स्वाई आज करेंगे योजनाओं एवं कार्यक्रमों की संभाग स्तरीय समीक्षा || कलेक्टर ने ली अधिकारियों एवं महाविद्यालयों के प्राचार्यों की बैठक "छात्रसंघ चुनाव" || देवांश पाण्डे की मृत्यु की दण्डाधिकारी जांच के तहत साक्ष्य आमंत्रित || केन्द्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती का आगमन आज || देश की टेक्सटाइल इंडस्ट्री का हब बना मध्यप्रदेश || जैतहरी में संचालित शिशु स्कूल में मुख्यमंत्री को पा कर हर्षित हुए नवनिहाल || मुख्यमंत्री श्री चौहान का हेलीपैड में किया गया स्वागत || मुख्यमंत्री ने किया कन्या पूजन || अन्त्योदय मेले में दी गई हितग्राहीमूलक योजनाओं की जानकारी || जैतहरी में आयोजित विकास यात्रा कार्यक्रम के दौरान 35 सौ हितग्राहियों को 15 करोड़ के मिले हितलाभ
अन्य ख़बरें
सोयाबीन उत्पादन करने वाले कृषकों को उपयोगी सलाह
-
शिवपुरी | 04-सितम्बर-2017
 
   सोयाबीन अनुसंधान निदेशालय इंदौर द्वारा सोयाबीन उत्पादन करने वाले कृषकों को सोयाबीन फसल में लगने वाले कीट एवं रोगों से बचाव हेतु उपयोगी सलाह दी गई है। जिसको अपनाकर किसान भाई फसलों को सुरक्षित रख सकते है।
   किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उपसंचालक श्री आर.एस.शाक्यवार ने बताया कि कहीं-कहीं सोयाबीन फसल में सफेद सुण्डी का प्रकोप देखा गया है जिसके कारण फसल सूख रही है। इसके नियंत्रण हेतु प्रभावित स्थानों पर (जड़ो के पास) क्लोरोपायरीफोंस 20 ई.सी. 1500 मिली./हेक्ट का पर्याप्त पानी के साथ छिड़काव करें। जिससे कीटनाशक का घोल जमीन में 2-3 इंच तक पहुंच सके। क्लोरोपायरीफॉस के छिड़काव के स्थान पर इस दवाई का दानेदार 10जी की 20 कि.ग्रा. मात्रा प्रति/हेक्टेयर की दर से डालें एवं सिंचाई का दें। कुछ क्षेत्रों में पत्ति खाने वाली इल्लियों का प्रकोप देखा जाता है, ऐसे स्थानों पर तुरंत क्विनालफोंस 1500 मिली./हेक्ट. या इण्डोक्साकार्ब 333 मिली./हेक्ट. का 500 ली.पानी के साथ छिड़काव करें।
   जिस स्थानों पर पत्ति खाने वाली इल्लियों के साथ-साथ रस चूसने वाले कीट जैसे सफेद मक्खी, हरा जैसिड आदि का प्रकोप है। वहां फसल पर थायमिथोक्स+लैम्बडा सायहेलोथिन 125 मिली./हैक्ट. का छिड़काव करें। जिन स्थानों पर फसल में गर्डल बीटल का प्रकोप प्रारंभ हो चुका है, वहां थायकलोप्रिड 21.7, एस.सी. (650 मिली/हेक्ट.) या प्रोफेनोफोंस 50 ई.सी.(1250 मिली.) या ट्रायजोफोंस (800 मिली./हेक्ट) या बीटासायफ्लूथ्रीन+इमिडाक्लोप्रिड 350 मिली./हेक्ट. का 500 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें। जहां पर सोयाबीन में मोजाइक/पीली मोजाइक बीमारी का प्रकोप प्रारंभ हो, वहां इससे ग्रसित पौधों को अपने खेत से उखाड़कर गढ्ढे में गाड़ दें तथा इसको अन्य पौधो पर फैलाने वाले रोगवाहक कीटों के नियंत्रण हेतु थायमिथोक्स+लैम्बड़ा सायहेलोथ्रिन 125 मिली./हेक्ट. अथवा बीटा सायफ्लूथ्रीन+इमिडाक्लोप्रिड 350 मिली/हेक्ट. का 500 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें। कुछ क्षेत्रों में सोयाबीन फसल पर पत्ति धब्बा तथा ऐन्थ्रेक्नोज नामक बीमारियों के प्रकोप की संभावना है। इसके नियंत्रण हेतु टेबूकोनाझोल या टेबूकोनाझोल+सल्फर(पूर्व मिश्रित फफूंदनाशक) (2 किग्रा/लीटर पानी) या थायनोफिनेट मिथाइल या कार्बिण्डाजिम (1 ग्राम/लीटर पानी) का छिड़काव करें।

(81 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2017दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer