समाचार
|| विधवा पेंशन के लिए महिला का गरीब होना जरूरी नहीं || सामान्य प्रशासन समिति की बैठक 29 मई को || आर्थिक सहायता स्वीकृत || ऋण समाधान योजना की अंतिम तिथि 15 जून || सामान्य प्रशासन समिति की बैठक 29 मई को || सभी जिला अस्पतालों में डायलिसिस की सुविधा उपलब्ध कराने वाला || जिला मूल्यांकन समिति की बैठक आयोजित || पंजीकृत असंगठित श्रमिकों की गंभीर बीमारियों का होगा इलाज || पर्यटन से जुड़ी नौकरियों के लिए रोजगार मेला आज आयोजित होगा || मुख्यंत्री युवा उद्यमी एवं विभिन्न योजनाओं में जिले को लक्ष्य प्राप्त
अन्य ख़बरें
गर्मी में खान-पान का रखें विशेष ध्यान
-
मण्डला | 16-मई-2018
 
 
   गर्मी का प्रकोप बढ़ने के कारण ग्रीष्म जनित बीमारियों के प्रकोप की संभावना अधिक रहती है, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. श्रीनाथ सिंह ने आम जनता को गर्मी में खानपान से होने वाली बीमारियों से बचाव की सलाह दी है, आम जनता खानपान पर विशेष ध्यान रखें। गर्मी के मौसम में बाहरी तापमान बढ़ने से हमारे शरीर का ताप भी बढ़ जाता है, जिससे शरीर डी-हाईड्रेड हो जाता है, यानी पानी की कमी होने लगती है इसलिए हमें ऐसा खानपान रखना चाहिए जो शरीर को ठण्डा रखे। गर्मियों में हमारा पाचन-तंत्र भी कमजोर पड़ जाता है, इसलिये जरूरी है कि ताजा और हल्का भोजन किया जाए। दूषित एवं खुले में रखे भोजन का सेवन ना करें देर से पचने वाले भोज्य पदार्थं का भी सेवन ना करें, गर्मी में टमाटर, खरबूज, खीरा ककड़ी और प्याज का उपयोग करते रहना चाहिए इन चीजों से पेट की सफाई होती है और अंदरूनी गर्मी शांत होती है तथा गर्मी में दूषित भोजन तथा दूषित जल पीने से उल्टी दस्त का प्रकोप होता है इस हेतु पीने के लिए साफ पानी का उपयोग करें। कुऐं हेंडपम्प तथा अन्य पेयजल स्त्रोतों के पानी की नियमित जांच कराये इनमें ब्लीचिंग पावडर तथा अन्य जल शोधक से पानी शुद्ध करें।
   इस मौसम में दही, मट्ठा पिऐं क्योंकि इसमें प्रचूर मात्रा में पौटेशियम और सोडियम होता है जो शरीर को डी-हाईड्रेड होने से बचाता है, गर्मी में बाहर निकलने के पहले 2 गिलास पानी जरूर पी लेना चाहिए। गर्मी में तापमान बढ़ने के कारण शरीर से लगातार पसीने के रूप में पानी बाहर निकलता रहता है, इसकी पूर्ति के लिए नियमित अंतराल से ठंडा पानी, शर्बत, सिंकजी, लस्सी तथा अन्य परम्परागत शीतल पेय पदार्थं का उपयोग करें।
   गर्मी तथा लू से बचने के लिए कच्चे आम के पने का उपयोग करें घर से बाहर निकलते समय धूप से बचाव के लिए छाते, गमछे, रंगीन चश्में का उपयोग करें।
   बढ़ता तापमान संक्रमण का खतरा भी बढ़ा देता है इसलिए इस मौसम में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें, घरों के आस-पास खुले में पानी एकत्रित ना होने दें, कूलर तथा अनुपयोगी सामग्री में पानी एकत्रित ना होने दें। इनमें पानी भरा रहने से मच्छर पनपते हैं जिनके कारण मलेरिया तथा डेंगू का प्रकोप होता है एवं सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें।  
 
(7 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2018जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
30123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer