समाचार
|| आईआरएडी एप का उपयोग म.प्र. के 41 जिलों में - एडीजी श्री सागर || 10वीं और 12वीं के प्रवेश-पत्रों में 10 मई तक करा सकेंगे संशोधन || कक्षा 9वीं एवं 11वीं की वार्षिक परीक्षा निरस्त || स्वयंसेवी के रूप में कोविड 19 में दे सकते है अपनी सेवाएं || कोरोना वायरस से निपटने में खर्च हो सकेगी विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र विकास योजना की राशि || परीक्षा संबंधी जानकारियों के लिए हेल्पलाइन सेवा प्रारंभ || मल्हारगढ़ विकासखण्ड में पेयजल समस्या के निवारण के लिए कंट्रोल रूम स्थापित || अस्पताल गुणवत्तापूर्ण बेहतर सेवाएँ कम खर्च पर देगा || जिला जेल में कोरोना कर्फ्यू की अवधि में बंदियों से सामान्य मुलाकात प्रतिबंधित रहेगी || कोरोना संक्रमण सम्बन्धी जानकारी एकत्रित करने हेतु दल गठित
अन्य ख़बरें
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष - जिद और जुनून ने भावना डेहरिया को बनाया प्रेरक पर्वतारोही (कहानी सच्ची है)
मेहनत और लगन से तामिया से हिमालय व किलिमंजारो तक का सफर तय कर प्रदेश और छिन्दवाड़ा का नाम किया रोशन
छिन्दवाड़ा | 07-मार्च-2021
      कहते हैं कि अगर पूरी शिद्दत से प्रयास किया जाए तो सपने बेशक सच में तब्दील होते हैं, फिर चाहे हालात जैसे भी हो। छिंदवाड़ा जिले के प्रसिध्द स्थल पातालकोट से महज़ 17 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्राम तामिया की बेटी भावना का पर्वतारोही बनने का सपना भी कुछ ऐसे हालातों के बाद साकार हो सका है। भावना विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट फतह करने वाली मध्यप्रदेश की बेटियों में शामिल हो गई हैं और उसने अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो पर पिछली दीवाली पर तिरंगा लहराकर दीवाली मनाते हुये छिंदवाड़ा जिले के साथ ही प्रदेश और देश को गौरवान्वित किया है। भावना डेहरिया की जिद और जुनून ने उसके हौसलों को साहस और हिम्मत दी है, जिससे वह आज नन्हे पर्वतारोहियों के लिये एक प्रेरक पर्वतारोही भी बन गई है ।
     गांव की बेटी भावना के लिए पातालकोट की पहाड़ियों से हिमालय तक का सफर इतना आसान नहीं था। ग्राम तामिया में 12 नवंबर 1991 को जन्मी भावना डेहरिया ग्रामीण परिवेश में रहने वाली चार बहन और एक भाई के बीच तीसरे नंबर की बहन है । पिता श्री मुन्ना लाल डेहरिया शिक्षक और माता श्रीमती उमा देवी डेहरिया गृहणी है। बचपन से ही प्रकृति से प्रेम रखने वाली भावना खेलकूद में हमेशा अव्वल रही। पढाई और खेल-कूद के साथ ही घर में पशुपालन में भी सहयोग करती थीं। स्कूल से घर आकर पहाड़ों से पालतू पशुओं को लौटा कर घर लाना भावना का काम था। इस दायित्व को निभाने के दौरान उपजे पहाड़ों के प्रति प्रेम से ही शायद उन्हें पर्वतारोही बनने की प्रेरणा मिली और उन्होंने यह मुकाम पाया है। भावना से चर्चा करने पर उन्होंने बताया कि वर्ष 2009 में तत्कालीन कलेक्टर श्री निकुंज कुमार श्रीवास्तव द्वारा पातालकोट में एडवेंचर्स प्रोग्राम का आयोजन उनके जीवन का टर्निंग प्वाइंट साबित हुआ। उसके पहले तक भावना को यह नहीं पता था कि पर्वतारोहण भी कोई गतिविधि है और इसके लिए किसी कोर्स की जरूरत पड़ती है। भावना ने स्कूल के दौरान बास्केट बॉल और साइकल पोलो में नेशनल खेला है। खेलकूद में अव्वल रहने के कारण भावना को तामिया के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय से एक हफ्ते के लिए इस एडवेंचरस प्रोग्राम में शामिल होने का मौका मिला, जहां उसने सभी गतिविधियों में अच्छा प्रदर्शन किया, लेकिन उसका असली हुनर तब सामने आया जब उसने बड़ी ही आसानी से रॉक क्लाइंबिंग की । इसे देखकर कार्यक्रम के आयोजक भी भावना से बहुत प्रभावित हुए और उनसे ही भावना को पर्वतारोहण गतिविधि और उसके लिए किए जाने वाले कोर्सेज की जानकारी मिली। कैंप खत्म हो गया था, लेकिन अब भावना के मन में पर्वतारोही बनने का सपना घर कर गया था। शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय तामिया से 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद भावना को उच्च शिक्षा के लिए उनकी बडी बहिन भोपाल ले गई। उच्च शिक्षा के दौरान भोपाल में भी भावना को कई एडवेंचरस गतिविधियों में शामिल होने का अवसर मिला, लेकिन पर्वतारोहण संस्थानों की जानकारी नहीं मिल पा रही थी। गूगल से सर्च करने पर उसे उत्तरकाशी स्थित एशिया के बेस्ट संस्थान नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग की जानकारी मिली। तत्काल उसने अपना आवेदन दे दिया, लेकिन आवेदन देने के दो साल बाद उसका नंबर आया। तभी उसे पता चला कि कोर्स की फीस 7 हजार 500 रूपये है। सामान्य आर्थिक परिवार की भावना के लिए उच्च शिक्षा के खर्चे के साथ-साथ यह अतिरिक्त राशि कम राशि नहीं थी। इस दौरान वे भोपाल में अपने छोटे
भाई - बहन की पढाई का पूरा जिम्मा भी एक पेरेन्ट की तरह उठा रही थीं । इन सब जिम्मेदारियों के बाद भी उसने माता-पिता से फीस के लिये नहीं कहा, बल्कि एडवेंचर्स गतिविधियों से प्राप्त प्रोत्साहन राशि को ही इसमें लगा दिया। बेसिक माउंटेनियरिंग कोर्स को ए-ग्रेड से क्वालीफाई करने के बाद ही एडवांस कोर्स की ट्रेनिंग मिलती है। भावना की लगन और मेहनत से उसने ए-ग्रेड के साथ बेसिक माउंटेनियरिंग कोर्स क्वालीफाई किया। उसके बाद एडवांस कोर्स और एम.ओ.आई. कोर्स किया। कोर्स के साथ पहली बार उसने गढ़वाल हिमालय की डी.के.डी. चोटी चढ़ी जिसके बाद भावना में अब आत्मविश्वास आ चुका था, माउंटेनियरिंग से जुडे सारे कंसेप्ट क्लियर हो चुके थे।
     इंडियन माउंटेनियरिंग फाउंडेशन दिल्ली की तरफ से मध्यप्रदेश से भावना को चुना गया और उसने 6 हजार मीटर की चोटी मनीरंग पार की। अब माउंट एवरेस्ट चढ़ने का सपना पूरा करने की बारी थी। उत्साह से भरी भावना 2 अप्रैल को भोपाल से काठमांडू के लिए निकली और 6 अप्रैल से उसकी यादगार यात्रा की शुरुआत हुई और अंततः भावना ने 22 मई 2019 को विश्व की सबसे उंची चोटी पर पहुंच कर देश का तिरंगा लहराया। इसके बाद आत्मविश्वास से लबरेज भावना ने अफ्रीका के किलिमंजारो में दीवाली के दिन 27 अक्टूबर 2019 को भारत का तिरंगा लहराकर प्रदेश और छिंदवाडा जिले को गौरवान्वित किया है। उन्होंने यह साबित कर दिया है कि बेटियां किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं।
 
(41 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2021मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2930311234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293012
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer