समाचार
|| कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिये सभी को एकजुटता के साथ कार्य करना होगा – मुख्यमंत्री श्री चौहान || अपर कलेक्‍टर एवं अतिरिक्‍त पुलिस अधीक्षक ने ग्रामीणों को कोरोना वैक्‍सीन का टीकाकरण करवाने हेतु किए जागरूक || विधायक सिंगरौली ने गरीब परिवारों को खाद्य सामग्री वितरण किये || कलेक्‍टर ने चितरंगी उपखण्‍ड में भ्रमण कर किल कोरोना सर्वे का लिया जायजा || कलेक्टर श्री लवानिया ने रेमडेसिवर की कालाबाजारी करने वाले तीन अपराधियों पर रासुका लगाई || संभागायुक्त ने किल कोरोना-3 अभियान के प्रभावी क्रियान्वयन के दिए निर्देश || आम-जन मानस का संबल बने जन-अभियान परिषद - मंत्री सुश्री ठाकुर || प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत किसान से आवेदन आमंत्रित || किल-कोरोना अभियान को मिल रहे जन-समर्थन से संक्रमण की चेन तोड़ने में मिल रही है सफलता - मुख्यमंत्री श्री चौहान || कोरोना वायरस के संक्रमण से अब तक 9295 व्यक्ति स्वस्थ हुये
अन्य ख़बरें
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्मार्ट उद्यान में सप्तपर्णी का पौधा रोपा
-
दतिया | 02-अप्रैल-2021
     मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज स्मार्ट उद्यान में सप्तपर्णी का पौधा रोपा। इस अवसर पर सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने भी पौध-रोपण किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान अपने संकल्प के साथ प्रतिदिन एक पौधा लगा रहे हैं। मध्यप्रदेश से बाहर प्रवास पर रहने पर भी वे पौधा लगा रहे हैं।
 मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस वर्ष नर्मदा जयंती से अब तक निरंतर प्रतिदिन एक पौधा लगाने का कार्य किया है। मुख्यमंत्री ने आम नागरिकों से भी पौधे लगाने की अपील की है।
सप्तपर्णी का महत्व
     सप्तपर्णी को आयुर्वेद में उन औषधियों में से एक माना जाता है, जो कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ को समाहित किए हुए हैं। यह एक सदाबहार वृक्ष है। दिसंबर से मार्च माह के दौरान इसमें छोटे-छोटे हरे और सफेद रंग के फूल लगते हैं, जिनमें  विशिष्ट सुगंध रहती है। हिमालय के क्षेत्रों और उसके आसपास के हिस्सों में यह पौधा ज्यादातर उगता है। पौधे की छाल ग्रे-कलर की होती है। यह  ऐसा पौधा है जिसका उपयोग आयुर्वेदिक, सिद्ध और यूनानी चिकित्सा पद्धति में कई तरह की बीमारियों के इलाज में किया जाता है। दुर्बलता को दूर करने से लेकर खुले घावों को ठीक करने और  कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज में सप्तपर्णी प्रभावी औषधि है। वैसे तो पौधे के ज्यादातर हिस्से औषधीय गुणों से युक्त होते हैं, लेकिन इसकी छाल को मलेरिया के लक्षण ठीक करने के लिए बहुत सालों से प्रयोग में लाया जाता रहा है। चिकित्सा विशेषज्ञों का मानना है कि इसका किसी भी रूप में इस्तेमाल करने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श अवश्य ले लेना चाहिए।

 
(44 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2021जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
262728293012
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer