समाचार
|| अस्पताल अधीक्षक जिला चिकित्सालय शाजापुर से प्रभार डॉ. शुभम गुप्ता को || चिकित्सकों व स्टॉफ की कड़ी मेहनत और मनोबल से कोरोना पॉजीटिव गंभीर मरीज स्वस्थ्य होकर घर पहुंचने (सफलता की कहानी) || जिले के खरीदी केन्द्रों में गेहूं की खरीदी जारी || मैं कोरोना वॉलेंटियर - देवास जिले में कोरोना वॉलेंटियर द्वारा चलाया जा रहा है जन-जागरूकता अभियान (कहानी सच्ची है) || अच्छी पहल - कोरोना की इस संकट की घड़ी समाजसेवी आ रहे हैं आगे || देवास जिले मे 17 अप्रैल 2021 तक कोरोना से सुरक्षा हेतु 1 लाख 43 हजार 196 टीके लगाये गये || देवास के नर्सिंग होम संचालक मरीजों को इलाज अच्छे से करें, उन्हें बेवजह परेशान करके इलाज नहीं करें -कलेक्टर श्री शुक्ला || देवास जिले के लिए अच्छी खबर 48 मरीज हुए कोरोना से मुक्‍त (खुशियों की दास्तां) || देवास जिले में आज प्राप्त 584 सैम्पल की रिपोर्ट में से 519 सैम्पल की रिपोर्ट नेगेटिव || होम आयसोलेशन में हर मरीज को दें मेडिकल किट
अन्य ख़बरें
भैंसो के समूह ने बाघिन के मुख से अपने पालक के जान की रक्षा की "खुशियों की दास्तां"
-
उमरिया | 07-अप्रैल-2021
    जिले में बांधवगढ टाईगर नेशनल पार्क के पनपथा रेंज में  बाघ के चंगुल से भैसों र्ने  अपने मालिक की जान बचाई। बाघ के हमले से आहत जख्मी लल्लू यादव के मवेशियों ने अपने मालिक को बाघ का शिकार होने से जिस तरह बचाया वह  पालतू पशुओ के वफादारी का एक नायाब नमूना है।  ऐसी हिम्मत तो इंसान भी शायद ही कर पाता।
    दरअसल पूरा वाकया बाघों के गढ़ टाईगर रिजर्व नेशनल पार्क बांधवगढ का है। जब जंगल मे दिनभर अपनी भैसों को चराने के बाद पशुपालक लल्लू यादव शाम को मवेशियों को लेकर अपने घर कोठिया गांव लौट रहा था कि अचानक झाड़ियों में छिपा बाघ हमला बोल दिया,मालिक को बाघ के चंगुल में फंसा देख भैसों ने वफादारी दिखाई और अपने जान की परवाह न करते हुए मालिक को बचाने मुकाबले के लिए डटी रही जिससे मजबूरन बाघ को अपना शिकार छोड़कर जाना पड़ा,आहत लल्लू के पास मोबाइल था जिसके जरिये घर और वन विभाग को सूचना  दी गई जिसके बाद पीड़ित को अस्पताल में भर्ती कराया गया जंहा उसके जख्मो का इलाज किया जा रहा है।
   घायल लल्लू यादव ने बताया कि मैं इसके पहले भी मवेशी लेकर कोठिया के इस कच्चे मार्ग से आ चुका था। कभी भी बाघ की आहट नहीं मिली। दोपहर करीब 3.30 बजे थे। भैंसों को समीप ही सौसर(वाटर होल) में पानी पिलाकर घर लौट रहा था। तभी अचानक पीछे से बाघिन ने झपट्टा मारा। मैं जमीन में गिर पड़ा। पंजा मुंह के पास गाल व कंधे में लगा था। खून की धार बहने लगी। आंखे खुली तो सामने बाघिन खड़ी थी। दहाड़ते हुए वह गर्दन में पंजा मारकर मुझे मुंह में दबाने का प्रयास कर रही थी। एक पल के लिए लगा मेरी मौत सामने है।  तभी मेरी भैंसे तेज अवाज करते हुए बीच में आ गई। 5-6 का समूह बाघिन को घेरने लगी थी। 5-10 मिनट यह घटनाक्रम चला। आखिरकार बाघिन को मुझे छोडकर खाली हाथ जंगल लौटना पड़ा। जैसा कि जंगल में घायल कोठिया निवासी लल्लू यादव पिता रामकिशोर यादव (26) ने बाघिन के साथ घटी यह घटना रेंजर पनपथा पराग सेनानी को बताया। वन विभाग अब युवक को वाहन से मानपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाकर इलाज करवा रहा है। मुंह में दो जगह टांके लगे। कंधे में भी नाखून से चोट आई है। डॉक्टरों ने जांच कर युवक को खतरे से बाहर बताया। घायल खेती किसानी कर दूध बेचकर अपनी जीविकोपार्जन करता है।
    बांधवगढ़ टाईगर रिजर्व में यह घटनाक्रम सोमवार को पनपथा कोर रेंज के चुंसरा बीट आरएफ ४४६ का है। लल्लू यादव पिता रामकिशोर यादव (26) निवासी कोठिया पनपथा घर से सुबह भैंस चराने जंगल गया हुआ था। वन विभाग अनुसार कोठिया गांव से लगे पनपथा कोर के जंगल में इस समय एक बाघिन ने भी डेरा डाला है। दोपहर में पानी पिलाकर वह मवेशियों को वापस लेकर लौट रहा था। इसी दौरान झाडियों में छिपी बाघिन ने उस पर हमला बोल दिया। एक पल तो किसान लल्लू ने बाघिन को सामने देख अपनी मौत स्वीकार कर ली थीं। इसी दौरान उसकी 5-6 भैंसों का झुंड बीच में रक्षा कवच बनकर बाघ से अड़ गई। अपने मालिक को नया जीवन प्रदान कर दिया।
 
(10 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2021मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2930311234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293012
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer