समाचार
|| बहोरीबंद पहुंचकर कलेक्टर ने कोरोना कर्फ्यू की व्यवस्थाओं का लिया जायजा || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप्स के सदस्यों से की चर्चा || कोविड-19 के संक्रमण के दृष्टिगत आंगनबाड़ी केन्द्रों में हितग्राही बच्चों व गर्भवती एवं धात्री माताओं को नहीं बुलाने के निर्देश || शनिवार को 916 लाभार्थियों को लगाया गया कोविड-19 वैक्सीन || (कोविड-19 समाचार) 11 अप्रैल को अंजुमन स्कूल में होगा कोविड-19 का टीकाकरण || वन विहार राष्ट्रीय उद्यान प्रत्येक शनिवार-रविवार को बंद रहेगा || सरकार और समाज मिलकर लड़ें कोरोना से कोरोना संक्रमित रोगियों को ऑक्सीजन आपूर्ति सर्वोच्च प्राथमिकता || स्वास्थ्य कर्मी जान जोखिम में डालकर लोगों की जान बचा रहे हैं- मुख्यमंत्री श्री चौहान || कोरोना उपचार के लिए बिस्तरों, ऑक्सीजन आदि की पर्याप्त व्यवस्था अपने-अपने क्षेत्रों में युद्ध स्तर पर जुट जाएँ सभी मंत्री || आज दिनांक तक 87178 व्यक्तियों का लिया गया सैंपल
अन्य ख़बरें
दो संभागों में 601 करोड़ रूपये की लागत से जलापूर्ति के कार्य जारी
-
होशंगाबाद | 08-अप्रैल-2021
    राष्ट्रीय जल जीवन मिशन के अन्तर्गत ग्रामीण आबादी को शुद्ध पेयजल की समुचित व्यवस्था किए जाने की दिशा में राज्य सरकार के प्रयास तेजी से जारी हैं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा भोपाल-नर्मदापुरम संभाग में 1225 जलप्रदाय योजनाओं का कार्य जारी है। इन जलप्रदाय योजनाओं की लागत 601 करोड़ 19 लाख 35 हजार रूपये है। विभाग के मैदानी कार्यालयों द्वारा जल जीवन मिशन के मापदण्डों के अनुसार कार्य प्रारम्भ कर दिये गए हैं।
     प्रदेश की समग्र ग्रामीण आबादी को घरेलू नल कनेक्शन से पेयजल की आपूर्ति किए जाने के लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा जल संरचनाओं की स्थापना एवं विस्तार के कार्य किए जा रहे हैं। इनमें भोपाल जिले की 63, विदिशा 163, रायसेन 162, सीहोर 214, राजगढ 108, होशंगाबाद 124, हरदा 141 तथा बैतूल की 250 जलसंरचनायें शामिल हैं। इन जिलों के विभिन्न ग्रामों में पूर्व से निर्मित पेयजल अधोसंरचनाओं को नये सिरे से तैयार कर रेट्रोफिटिंग के अन्तर्गत भी कार्य किया जा़ रहा है।
      इसके अतिरिक्त जल निगम भी भोपाल संभाग के 1566 ग्रामों में नल कनेक्शन के जरिये जल उपलब्ध कराने का कार्य कर रहा है। रायसेन, विदिशा, राजगढ तथा सीहोर जिलों के ग्रामों में एक लाख 96 हजार 984 नल कनेक्शन दिए जायेंगे। इन जलप्रदाय योजनाओं के पूर्ण होने पर 13 लाख 36 हजार से अधिक ग्रामीण आबादी को लाभ पहुँचेगा।
      इन जलप्रदाय योजनाओं में जहाँ जलस्त्रोत हैं, वहाँ उनका समुचित उपयोग कर आसपास के ग्रामीण रहवासियों को पेयजल प्रदाय किया जायेगा। जिन ग्रामीण क्षेत्रों में जलस्त्रोत नहीं हैं वहाँ जल स्त्रोत निर्मित किए जायेंगे। समूची ग्रामीण आबादी के लिए यह व्यवस्था चरणबद्ध तरीके से अगले तीन सालों (2023 तक) में पूरा करने का लक्ष्य है।
 
(2 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2021मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2930311234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293012
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer