समाचार
|| रेमेडीशिविर इंजेक्शन के कालाबाजारी के मामले में कमिश्नर ने की कड़ी कार्यवाही || कार्यपालिक दण्डाधिकारियों की ड्यूटी लगाने के आदेश || सिया देवी की कोरोना से मृत्यु होने पर कोविड प्रोटोकॉल के तहत नगरपालिका पाली के सहयोग से पति ने किया अंतिम संस्कार || जिले में कोरोना संक्रमण रोकने की कार्यवाही जारी || जनपद स्तरीय उडनदस्ता दल गठित || उपभोक्ता अपनी खाद्यान्न पात्रता पर्ची की जानकारी खुद जाँच कर सकेंगे || प्रदेश में निरंतर नियंत्रण में आ रहा है कोरोना - मुख्यमंत्री श्री चौहान || कलेक्टर की अध्यक्षता में जिला स्तरीय उडनदस्ता दल गठित || जिले में 11 मई को 75 कोरोना पाजीटिव मरीज हुए स्वस्थ्य || युवाओं द्वारा नर्स डे पर किया नर्सों का सम्मान
अन्य ख़बरें
कलेक्टर द्वारा लॉकडाउन के संबंध में नवीन दिशा निर्देश जारी
-
विदिशा | 09-अप्रैल-2021
    कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ पंकज जैन ने गृह विभाग द्वारा लॉकडाउन के संबंध में जारी निर्देशो के अनुपालन में तथा क्राइसेस मैनेजमेंट समिति की बैठक में सर्वसम्मति से लिए गए निर्णयों के अनुपालन में धारा 144 के अंतर्गत नवीन दिशा निर्देश प्रसारित कर आदेश जारी कर दिया है।
    जिला दण्डाधिकारी डॉ जैन के द्वारा जारी आदेश में उल्लेख है कि राज्य शासन के दिशा निर्देशानुसार विदिशा जिले के समस्त नगरीय क्षेत्रों (विदिशा, बासौदा, कुरवाई, सिरोंज, लटेरी तथा शमशाबाद) में लॉकडाउन शुक्रवार सायं छह बजे से सोमवार प्रातः छह बजे तक प्रभावी रहेगा।
    जिला स्तरीय क्राईसेस मैनेजमेंट कमेटी में निर्णय अनुसार जिले के पांच हजार से अधिक जनसंख्या वाले ग्रामो यथा नटेरन तहसील के ग्राम सेऊ, तहसील लटेरी का ग्राम आनंदपुर, तहसील कुरवाई का ग्राम सिहोरा, तहसील बासौदा के ग्राम बेहलोट, स्वरूपनगर, उदयपुर, तहसील शमशाबाद के ग्राम वर्धा, तहसील सिरोंज के ग्राम बामोरीशाला, तहसील ग्यारसपुर का ग्राम हैदरगढ़ तथा तहसील मुख्यालय नटेरन, ग्यारसपुर, गुलाबगंज, पठारी एवं त्योंदा में शनिवार रात्रि दस बजे से सोमवार प्रातः छह बजे तक लॉकडाउन प्रभावी रहेगा।
    लॉकडाउन का उल्लघंन करने की दशा में संबंधित के विरूद्व अन्य प्रावधानो के अतिरिक्त एक सौ रूपए का अर्थदण्ड भी अधिरोपित किया जायेगा, भले ही संबंधित व्यक्ति द्वारा मास्क ही क्यों न धारण किया गया हो। 
    जिन ग्रामों में लॉकडाउन प्रभावशील रहेगा। लॉकडाउन अवधि के दौरान ग्रामो में लॉकडाउन के दौरान सभी धर्मो के धर्मस्थल पूर्ण बंद रहेंगे तथा श्रद्धालुओं एवं आमजनों का इनमें प्रवेश वर्जित रहेगा। इन धर्मस्थलों के अन्दर परम्परागत रूप से दैनिक धार्मिक रीति-रिवाज, संबंधित धार्मिक व्यक्तियों, गुरूओं द्वारा संपादित किए जा सकेंगे, किन्तु इन गतिविधियों के दौरान भी श्रद्धालुओं  की उपस्थिति प्रतिबंधित रहेगी।
    लॉकडाउन अवधि में संबंधित लॉकडाउन क्षेत्रों की समस्त स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक संस्थान विभागीय निर्देशो के अनुरूप बंद रहेंगे इसी प्रकार लॉकडाउन अवधि में आगामी त्यौहारो के दौरान कोई भी धार्मिक, सामाजिक त्यौहार सार्वजनिक रूप से ना मनाया जाकर अपने-अपने घरो में मात्र संकेतिक रूप से मनाए जा सकेंगे।
    जिले में आयोजित शादी समारोह में पचास तथा शवयात्र में बीस से अधिक व्यक्ति सम्मिलित नही होंगे। विवाह समारोह की लिखित सूचना सम्मिलित होने वाले अतिथियों की सूचित सहित संबंधित क्षेत्र के अनुविभागीय राजस्व अधिकारी को प्रस्तुत करना अनिवार्य होगा। बंद हाल के कार्यक्रमों में पचास प्रतिशत हाल की क्षमता (अधिकतम सौ व्यक्ति) सम्मिलित हो सकेंगे इसके लिए भी आयोजन पूर्व उल्लेखितों से अनुमति प्राप्त करना अनिवार्य होगा।
    कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ पंकज जैन के द्वारा जारी उक्त आदेश में उल्लेख है कि जिम, स्वीमिंग पूल, सिनेमाघर बंद रहेंगे। उठावना, मृत्यु भोज कार्यक्रम में पचास से अधिक व्यक्ति सम्मिलित नही होंगे। रेस्टोरेन्ट में बैठकर खाने पर प्रतिबंध रहेगा परन्तु वे टेक-वे भोजन प्रदाय कर सकेंगे। जिले में समस्त सामाजिक एवं धार्मिक त्यौहारो में निकलने वाले जुलूस मेले तथा सार्वजनिक रूप से लोगो का एकत्रीकरण होना प्रतिबंधित रहेगा।
    कोरोना के बढते संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए प्रशासन, पुलिस, नगरपालिका के अमले द्वारा निरंतर प्रचार-प्रसार किया जाये। नगरपालिका के वाहनो द्वारा लाउडस्पीकर के माध्यम से शहरो में नागरिकों को मास्क लगाने व सोशल डिस्टेन्सिग बनाए रखने हेतु जागरूक किया जाए व पुलिस द्वारा चौराहे पर लाउडस्पीकर से उदघोषणा की जाए, साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में सचिव, कोटवारो के माध्यम से सभी ग्रामो में डोंडी पिटवाकर रोको-टोको अभियान चलाय जाए। कोविड मरीज चिन्हित होने पर उनके निवास को माइक्रो कन्टेनमेंट जोन बनाया जाने संबंधी समस्त कार्यवाहियां की जाए। कोविड मरीज के चिन्हित होने पर स्थानीय निकायो द्वारा सेनेटाईजेशन का कार्य प्रभावी रूप से कराया जाये।
    चिन्हित कोरोना मरीज द्वारा यदि होम आइसोलेशन के विकल्प का चयन किया जाता है, तो ऐसी दशा में मरीज को स्वघोषणापत्र निर्धारित प्रारूप में प्रस्तुत करना अनिवार्य होगा कि वह चिकित्सीय अवधि में घर में ही निवास करेगा तथा मरीज के परिवार के प्रत्येक सदस्य को भी निर्धारित प्रारूप में यह स्वघोषणापत्र प्रस्तुत करना होगा, कि वह माइक्रो कंटेनमेंट जोन के बाहर कही भी आवागमन नही करेंगे। ततसंबंध में निरंतर प्रचार-प्रसार किया जाए, उल्लघंन की दशा में संबंधितों के विरूद्व आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के अंतर्गत दाण्डिक कार्यवाही संपादित की जाये।
    जिले में नगरीय क्षेत्रों में स्थित समस्त दुकाने, व्यवसायिक प्रतिष्ठान लॉकडाउन अवधि के दुकान, शासकीय, औद्योगिक इकाईयों, निजी चिकित्सालय, पेट्रोल पंप, मीडिया हाउस, आकस्मिक सेवा प्रदत्त संस्थान पर यह प्रतिबंध लागू नही होगा। रात्रि दस बजे से प्रातः छह बजे तक समस्त गैर आवश्यक आवागमन बंद रहेंगे। केवल मरीज, आवश्यक सेवाएं, अस्पताल, रेल्वे स्टेशन, बस स्टेण्ड, औद्योगिक इकाईयों में कार्यरत अधिकारियों, कर्मचारियों के आने-जानें के लिए आवागमन की अनुमति रहेगी। इसके लिए संबंधित व्यक्तियों को परिचय पत्र या पहचान संबंधी दस्तावेंज साथ रखना अनिवार्य होगा। रात्रि दस बजे से प्रातः छह बजे तक अकारण आमजन का आवागमन ना हो इसके लिए पुलिस द्वारा नियमित रूप से पेट्रोलिंग व्यवस्था की जायेगी।    
    सभी दुकानो, व्यावसायिक प्रतिष्ठानो, सार्वजनिक स्थानो और शासकीय, अर्द्धशासकीय, निजी कार्य स्थलों पर और परिवहन के दौरान फेसकवर, मास्क पहनना अनिवार्य है। व्यक्तियों द्वारा सार्वजनिक स्थानो, व्यवसायिक प्रतिष्ठानो पर कम से कम छह फीट की दूरी (दो गज की दूरी) रखी जाएगी। उक्त नियम का पालन रस्सी आदि बांधकर दुकानो मे दुकानदार और ग्राहको के मध्य भी सुनिश्चित किया जावे। उक्त स्थलो पर कोविड गाईडलाईन का पालन किया जाना अनिवार्य होगा।
    समस्त दुकानदारो/प्रतिष्ठान संचालको, को केन्द्र एवं राज्य शासन की गाईडलाईन का पालन करना अनिवार्य होगा। संबंधित दुकान संचालक अपनी-अपनी सामग्री का विक्रय, दुकान की सीमा में रखकर ही करेगे तथा रोड/रास्ता पर अतिक्रमण नही करेगे। उल्लंघन की दषा में संबंधित के विरूद्व वैधानिक कार्यवाही संपादित की जावे।
    राजस्व/पुलिस/नगरपालिका के अमले द्वारा नियमित रूप से भ्रमण कर मॉस्क न पहनने वाले/सोषल डिस्टेंसिग का पालन न करने वाले व्यक्तियो के विरूद्व स्पॉट फाईन (अर्थदण्ड) की कार्यवाही जावे। इस हेतु निम्नानुसार अधिकारी अधिकृत रहेगे :-
सर्वसंबंधित इंसीडेन्ट कमाण्डर अपने क्षेत्राधिकार में
नगरीय निकायो में नगरपालिका अधिकारी अथवा अधिकृत वार्ड प्रभारी (जो राजस्व निरीक्षक से अन्यून न हो) पुलिस अधीक्षक द्वारा अधिकृत अधिकारी (उपनिरीक्षक से अन्यून न हो)
    स्पॉट फाईन नहीं दिए जाने अथवा विवाद किए जाने की दषा में संबंधित का वीडियो तैयार कर शासकीय कार्य में बाधा तथा अन्य प्रावधानो में कार्यवाही संपादित की जावे।
    मॉस्क नही पहनने पर रूपये 100/- तथा विभिन्न दुकानो/व्यावसायिक संस्थानो पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने पर 500/- का अर्थदण्ड संबंधित नगरीय निकाय, सीईओ-जनपद अधिरोपित कर सकेगे। इस हेतु तत्काल सख्ती से कार्यवाही प्रांरभ की जावे, तथा कोविड प्रोटोकॉल का पालन न करने पर संबंधित प्रतिष्ठान अधिकतम 04.00 घंटे के लिए बंद कराये जा सकेगे। 
    कोविड-19 के प्रबंधन हेतु प्रसारित राष्ट्रीय/राज्यस्तरीय दिषा-निर्देशो का उल्लंघन करने वाले यथा मॉस्क/फेस कवरिंग का उपयोग एवं सोषल डिस्टेंसिग का पालन न करने वालो के विरूद्व आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 की धारा 51 से 60 के प्रावधानो के अलावा, भादवि की धारा 188 एवं अन्य उपयुक्त कानूनी प्रावधानो के अन्तर्गत जुर्माने सहित दाण्डिक कार्यवाही की जाए। पुलिस अधीक्षक विदिषा तथा समस्त इन्सीडेन्ट कमान्डर उपरोक्त आदेश का सख्ती से पालन कराएगे।
    जिला दण्डाधिकारी डॉ पंकज जैन के द्वारा धारा 144 के तहत जारी लॉकडाउन के परिपेक्ष्य आदेश में जिन प्रतिबंधो एवं गतिविधियों को शिथिल होगी उनमेंलॉकडाउन से आवश्यक वस्तुओं का परिवहन तथा अन्य राज्यों से माल, सेवाओं का आवागमन, केमिस्ट उचित मूल्य दुकान,  शासकीय, निजी चिकित्सालय, पेट्रोल पम्प, बैंक एवं एटीएम, दूध पार्लर, दूध प्रदाय करने वाले वाहन, समाचार पत्र हाकर्स, सब्जी दुकाने तथा मीडिया हाउस लॉकडाउन से मुक्त होंगे। औद्योगिक ईकाईयों के श्रमिक, कर्मियो, औद्योगिक कच्चे माल तथा उत्पाद का परिवहन प्रतिबंध से मुक्त होगा। किन्तु उक्त श्रमिक, कर्मियों को अपने साथ वैध पहचान पत्र रखना अनिवार्य होगा। केन्द्र सरकार, राज्य सरकार एवं स्थानीय निकाय की सेवाओं में संलग्न अधिकारी, कर्मचारियों का आवागमन। उक्त कर्मचारियों को अपने साथ वैध पहचान पत्र रखना अनिवार्य होगा। समस्त प्रकार की परीक्षाएं जिनमें प्रतियोगी परीक्षा सम्मिलित है, पूर्व से निर्धारित कार्यक्रम अनुसार ही आयोजित होगी। परीक्षार्थी एवं परीक्षा के कार्य में संलग्न अधिकारी, कर्मचारियों को आवागमन में कोई अवरोध नही रहेगा, किन्तु पहचान पत्र रखना अनिवार्य होगा। एम्बुलेंस फायर बिग्रेड कोरोना उपचार, टीकाकरण में संलग्न अधिकारी, कर्मचारी एवं नागरिकों का आवागमन। मरीजो का आवागमन एवं रेल्वे स्टेशन से आने-जाने वाले यात्रियों का आवागमन इत्यादि जारी शिथिल श्रेणी में शामिल है। 
    उक्त आदेश सर्वसाधारण को संबोधित है और चूंकि वर्तमान मे मेरे समक्ष ऐसी परिस्थितियॉ नही है और न ही यह संभव है इस आदेश की पूर्व सूचना प्रत्येक व्यक्ति को दी जाये। अतः यह आदेश एक पक्षीय रूप से पारित किया जाता है।
    यह आदेश आज दिनांक से आगामी आदेश पर्यन्त तक की अवधि के लिए प्रभावशील होगा।
 
(33 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2021जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
262728293012
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer