समाचार
|| संभागायुक्त श्री शुक्ला ने ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में भ्रमण कर किल कोरोना अभियान का जायजा लिया || आज इन 9 केन्द्रों पर होगा 18 से 44 वर्ष आयुवर्ग के लोंगो का कोविड टीकाकरण || मैहर विधायक ने सिविल हास्पिटल मैहर को सौंपे शेष ऑक्सीजन कंसंट्रेटर || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शहीद सुखदेव के चित्र पर किया माल्यार्पण || ग्वालियर में 500 बिस्तर का अस्पताल बनेगा || ब्लैक फंगस के प्रकरणों की जल्द पहचान सुनिश्चित की जाए - मुख्यमंत्री श्री चौहान || प्रभारी मंत्री श्री पटेल ने रामनगर में ली कोरोना नियंत्रण की बैठक || ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण को प्रभावी ढंग से रोकें - मुख्यमंत्री श्री चौहान || मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा "फैसेलिटी बेस्ड पीडिएट्रिक केयर ड्यूरिंग कोविड-19" पुस्तक का विमोचन || जल-संसाधन मंत्री श्री सिलावट ने ग्रामीण क्षेत्रों के कोविड केयर सेंटर का किया निरीक्षण
अन्य ख़बरें
जिले में कोविड-19 से निपटने की पूरी तैयारी रखें, ऑक्सीजन सिलेण्डर की पर्याप्त उपलब्धता रहें
कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जागरूकता एवं सतर्कता जरूरी, - राज्यमंत्री श्री परमार, मरीजों में आत्मविष्वास पैदा करें, उन्हें कोविड सेंटरों में अच्छा वातावरण मिलें, राज्यमंत्री श्री इंदरसिंह परमार ने जिले में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक ली
आगर-मालवा | 15-अप्रैल-2021
   आगर-मालवा जिला कोविड-19 प्रभारी एवं राज्यमंत्री स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) एवं सामान्य प्रशासन विभाग मध्यप्रदेश शासन श्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण को रोकना अत्यंत आवष्यक है। कोरोना संक्रमण की गति रोकने के लिए लोगों से कोविड-19 गाईडलाईन का पालन कराने के साथ ही 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी व्यक्तियों में टीकाकरण के लिए जागरूकता लाने के साथ उन्हें प्रेरित किया जाए। टीकाकरण का शत-प्रतिशत लक्ष्य पूरा करें। वर्तमान में मास्क, सोशल डिस्टेसिंग कारगर है, सभी नागरिक इसका अनिवार्यत: पालन करें। वायरस से बचाव के लिए सतर्कता एवं जागरूकता सभी के लिए जरूरी है। राज्यमंत्री श्री इन्दर सिंह परमार आज गुरूवार को कलेक्टर सभाकक्ष आगर में क्राईसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक ले रहे थे। मंत्री श्री परमार ने कहा कि जिला अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर की उपलब्धता बढ़ाई जाए। सरकार की गाईड लाइन के अनुसार कार्य किया जाए। कोविड सेंटर में डॉक्टर, नर्सिंग स्टॉप की नियुक्ति भी की जाए।
    मंत्री श्री परमार ने कहा कि कोविड केयर सेंटर पर नियुक्त स्टॉफ को संवेदनशील होकर कार्य करने की जरूरत है। उत्साह से परिपूर्ण होकर मानवीय पहलू को आगे रखकर कार्य करे।  मरीजो को अच्छा वातावरण दे जिससे कि वे जल्द से जल्द ठीक हो सके। उन्होंनं कहा कि यह संकट का समय है। हमसभी को मिलकर इससे लड़ना होगा। अस्पतालों में मरीजो की भावनात्मक रूप से सेवा करे, उनमे निराशा उत्पन्न न हो, आत्मीय व्यवहार बनाते हुए अपने तंत्र को मजबूत बनाए।
     बैठक में विधायक विधानसभा क्षेत्र आगर विपीन वानखेडे, जिलाध्यक्ष गोविन्द सिंह बरखेडी, पूर्व विधायक आगर श्रीमती रेखा रत्नाकर, एसपी श्री राकेश कुमार सगर, सीईओ जिला पंचायत दीतू सिंह रणदा, एडीएम अशफाक अली, सीएमएचओ  एसएस मालवीय, एसडीएम आगर श्री राजेन्द्र सिंह रघुवंशी आदि उपस्थित रहें।
   राज्यमंत्री श्री परमार ने कहा कि जिले के कोविड केयर सेंटर में भर्ती मरीजों एवं होम आईसोलेषन में रहने वाले मरीजों में आत्मविष्वास पैदा करना आवष्यक है। मरीजों को योग, व्यायाम इत्यादि के लिए प्रेरित करते हुए सकारात्मक वातावरण निर्मित करें। भर्ती मरीजों को बेहतर से बेहतर चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराएं। संकट के समय में लोगों में विष्वास पैदा करे कि सरकार के पास सभी सुविधाएं उपलब्ध है। मरीजों के उपचार में किसी प्रकार की कोई कमी न होने दी जाएगी। बस आवष्यकता है कि व्यक्ति इस बीमारी को छुपाए नहीं, लक्षण दिखाई देने पर अपनी जांच करवाएं, ताकि वायरस को संक्रमण में अन्य लोगों में फैलने से रोका जा सकें।
    राज्यमंत्री श्री परमार ने अधिकारियों से कहा कि जिले में प्रतिदिन बढ़ते हुए मरीजों की आवष्यकता के दृष्टिगत ऑक्सीजन सिलेण्डर की उपलब्धता रखी जाए। मरीजों के लिए बेड आदि पर्याप्त मात्रा में कोविड सेंटर में उपलब्ध रहें। उन्होंने कहा कि गंभीर एवं अति गंभीर मरीजों की अच्छी देख-रेख करें। रेमीडीसिवर इंजेक्शन तभी दिया जाये, जब रोगी को उसकी आवश्यकता हो। जो मरीज गंभीर नहीं है, उन्हें वैकल्पिक अन्य दवाईयों से ठीक किया जा सकता है, तो उनका उपयोग भी करे ताकि सभी मरीजो की जान बचाई जा सकें। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण से मरने वाले व्यक्तियों की अंत्येष्टि सम्मान जनक स्थिति में कोरोना प्रोटोकॉल के तहत हो यह सुनिश्चित करें।
   राज्यमंत्री श्री परमार ने कहा कि महाराष्ट्र एवं अन्य राज्यों से आने वाले लोगों की जाँच एवं क्वारेन्टाईन की व्यवस्था सुनिश्चित करें। बाहर राज्यों से आने वाले मरीज बिना जांच के अपने निवास स्थल पर न जाएं। जिस परिवार में कोरोना का मरीज है, उसके पूरे परिवार के सभी सदस्यों की टेसिं्टग और क्वारेन्टाईन की व्यवस्था करे, ताकि संक्रमण के फैलाव को कम किया जा सकें। ग्राम पंचायत स्तर के अमले को कोरोना टेसिं्टग के लिए प्रशिक्षित करे और टेसिं्टग कीट उपलब्ध करवाये ताकि तत्काल जाँच हो सके। जिस घर में मरीज है, उसे कन्टेनमेन्ट एरिया चिन्हित कर, उस घर की सतत् निगरानी रखे और परिवार के सभी सदस्यों को अन्य लोगो के संपर्क में आने से सख्ती से रोके।
   वैक्सीनेशन की समीक्षा के दौरान मंत्री श्री परमार ने सभी जनप्रतिनिधियों से कहा कि जन-जागरण कर लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करे, ताकि 45 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के सभी लोगों का वैक्सीनेषन हो सके। यही बचाव का उपाय है।
(31 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2021जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
262728293012
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer