समाचार
|| कोरोना प्रभारी मंत्री एवं राज्यसभा सांसद ने किया वैक्सीनेशन महा अभियान का शुभारंभ || केंट विधायक ने किया टीकाकरण केंद्रों का अवलोकन || रेडक्रॉस सोसायटी द्वारा लगाये गये शिविर में 808 व्यक्तियों को लगे कोरोना के टीके || आधारताल में आयोजित टीकाकरण शिविर में 350 व्यक्तियों को लगा टीका || जिले में 60 हजार लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य पूरा || स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने के लिये लोगों में दिखा उत्साह || मध्यप्रदेश ने एक दिन में वैक्सीनेशन का नया रिकार्ड बनाया || वेलनेस और स्पिरिचुअल टूरिज्म डेस्टिनेशन बनेगा मध्यप्रदेश- मुख्यमंत्री श्री चौहान || जिले अब तक 3 लाख 37 हजार 188 वैक्‍सीनेशन डोज लगाये गये (टीकाकरण महा-अभियान) || वैक्सीन लग गई तो बाजार भी खुले रहेंगे और मेहनत-मजदूरी भी चलती रहेगी - मुख्यमंत्री श्री चौहान
अन्य ख़बरें
लॉकडाउन में सरकारी अनुदान के संसाधन किसानों के लिए बने वरदान "सफलता कि कहानी"
लॉकडाउन में भी किसान तरबूज एवं खरबूजे के उत्पादन से कमा रहे हैं लाखों
अनुपपुर | 28-अप्रैल-2021
     उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देकर किसानों को मालामाल बनाने के लिए मध्यप्रदेश सरकार द्वारा दिए गए संसाधन इस समय कोरोना संक्रमण के चलते जिले में जारी लॉकडाउन के दौरान किसानों के लिए वरदान बने हुए हैं। इस संकटकाल में भी उनकी रोजी-रोटी अच्छी चल रही है।
     कोरोना काल के पूर्व राज्य सरकार द्वारा उद्यानिकी फसलों के जरिए आमदनी बढ़ाने के लिए किसानों को अनुदान बतौर ड्रिप, मलचिंग शीट, वीडर, पावर ट्रिलर जैसे उपकरण दिए गए थे, जिससे शुरू की गई उद्यानिकी फसलों की खेती के अच्छे नतीजे अब सामने आने लगे हैं। लॉकडाउन के चलते जब रोजगार की लगभग सभी गतिविधियां बंद हैं, वहीं काश्तकार सरकारी संसाधनों के माध्यम से तरबूज एवं खरबूजे का उत्पादन कर स्वयं के परिवार के साथ अन्य लोगों की भी आजीविका चलाने में सफल हो रहे हैं। जिले के अन्यानेक किसानों के साथ साथ ऐसा ही कमाल कर दिखाया है ग्राम सारंगगढ़ के काश्तकार कौशल प्रसाद प्रजापति ने, जो अपने खेतों में तरबूज एवं खरबूजे की खेती कर 17000 से 18000 प्रतिदिन कमा रहे हैं। किसानों में चाइना के नाम से मशहूर इस तरबूज की प्रसिद्धि का आलम यह है कि छत्तीसगढ़ के मनेंद्रगढ़ एवं किल्हारी तक के व्यवसाई यहां आकर इस तरबूज की मांग कर रहे हैं। कौशल प्रसाद ने इस साल अपने यहां बाहुबली, आरोही, शक्ति चाइना तरबूज की तीन प्रजातियों का बड़े पैमाने पर उत्पादन किया है।
    कोयले की खानों के लिए दुनियाभर में मषहूर अनूपपुर जिले के ग्राम सारंगगढ़ के रहने वाले कौशल प्रसाद ने धान उगाने से खेती का सफर शुरू किया था। मगर अधिक मुनाफा ना होने की वजह से उद्यानिकी विभाग की सलाह और तकनीकी मार्गदर्षन लेकर अनुदान बतौर ड्रिप, मलचिंग, वीडर, कैरेट जैसे संसाधनों की बदौलत तरबूज, खरबूजे एवं खीरे की खेती शुरू कर दी। कौशल प्रसाद को सपने में भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि सरकारी संसाधनों से आरंभ तरबूज एवं खरबूजे का उत्पादन उन्हें लखपति बना देगा। कौशल प्रसाद ने अपनी लगन, परिश्रम और निष्ठा के बलबूते ना सिर्फ तरबूज एवं खरबूजे उत्पादन का व्यवसाय स्थापित कर लिया, बल्कि इससे हुई कमाई से मकान बनवा लिया, एक ट्रैक्टर खरीद लिया और एक मोटरसाइकिल भी खरीद ली।
    महज 3 साल पहले तक उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। सिर्फ धान की खेती पर आजीविका चल रही थी। उसी दौरान उद्यान विभाग के मैदानी अमले ने उन्हें और कई काश्तकारों को इकट्ठा कर तरबूज एवं खरबूजे की खेती करने के लिए प्रेरित किया। उन्हें तरबूज- खरबूजे की खेती करने के गुर सिखाए। कौशल प्रसाद कहते हैं, ‘‘तरबूज एवं खरबूजे की खेती ने अब सारी टेंशन खत्म कर दी। पहले गृहस्थी चलाने और बच्चों की परवरिश को लेकर बहुत चिंता रहती थी। लॉकडाउन में भी इनकी फसलें भरपूर मुनाफा दे रही हैं‘‘। उद्यानिकी विभाग के सहायक संचालक वी.डी. नायर ने बताया कि जिले में काश्तकारों की माली हालत सुधारने एवं उनकी आय बढ़ाने के लिए उद्यानिकी फसलों की उत्पादकता और उत्पादन को कई गुना बढ़ाने का लक्ष्य रखा गया है। किसानों को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना अंतर्गत ड्रिप सिंचाई पद्धति, संरक्षित खेती योजना अंतर्गत मलचिंग शीट तथा यंत्रीकरण के अंतर्गत पावर टिलर जैसे संसाधन अनुदान पर दिए गए हैं। यही वजह है कि लॉक डाउन के दौरान भी किसान उद्यानिकी फसलों से मुनाफे के साथ आजीविका चला रहा हैं।
    जिले में इस साल तरबूज, खरबूजे की अच्छी पैदावार हुई है और कई गांवों के किसान इसकी खेती करके अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। जिले में कुल करीब 235 हेक्टेयर में तरबूज एवं कुल 205 हेक्टेयर में खरबूजे की खेती हो रही है। इसमें से उद्यान विभाग की प्रेरणा एवं मदद से किसान लगभग 56 हेक्टेयर में तरबूज एवं 21 हेक्टेयर में खरबूजे की खेती कर रहे हैं, जिनमें आधे आदिवासी हैं। तरबूज एवं खरबूजे के उत्पादन से कई हजार लोगों को रोजगार मिल रहा है और तमाम काश्तकार लखपति बन गए हैं। मजे की बात यह है कि लॉकडाउन में भी इनकी आजीविका प्रभावित नहीं हो पाई।
(55 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2021जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer