समाचार
|| आज का अधिकतम तापमान 37.6 डि.से. || मध्यप्रदेश ने देश में बनाया टीकाकरण का नया रिकार्ड || वेलनेस और स्पिरिचुअल टूरिज्म डेस्टिनेशन बनेगा मध्यप्रदेश- मुख्यमंत्री श्री चौहान || वैक्सीनेशन महाअभियान के पहले दिन देश में सर्वाधिक 15 लाख टीके मध्यप्रदेश में लगाए गए || योग वर्तमान चुनौतियों का सामना करने का सबसे कारगर तरीका || कोविड-19 की गाईडलाईन के तहत लोक अदालत का आयोजन 10 जुलाई को || जिला स्तरीय कॉल सेंटर के संचालन हेतु आवेदन आमंत्रित || जिला सहकारी बैंक प्रशासक ने लापरवाही बरतने बाले शाखा प्रबंधकों के विरूद्ध की कठोर कार्यवाही || वैज्ञानिको द्वारा पुरैनिया में तिल फसल एवं कोरोना टीकाकरण पर संगोष्ठी || सीएमओ बल्देवगढ़ ने घर-घर जाकर हमारा परिवार सुरक्षित परिवार के पैंफ्लेट बांटे (खुशियों की दास्तां)
अन्य ख़बरें
अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्रों के लिए भोपाल में 1050 सीटों का छात्रावास स्वीकृत
अनुसूचित जाति की छात्राओं के लिए 10 जिलों में छात्रावास स्वीकृत
मन्दसौर | 05-मई-2021
    भारत सरकार द्वारा अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्रों के शैक्षणिक सशक्तिकरण के लिये भोपाल में 1050 सीटों के छात्रावास और अनुसूचित जाति वर्ग की छात्राओं के शैक्षणिक सशक्तिकरण के लिये प्रदेश के 10 जिलों में कुल 1750 सीटों के छात्रावास स्वीकृत किये गये हैं। सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्गों, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों से संबंधित विद्यार्थियों को माध्यमिक और उच्चतर शिक्षा प्राप्त करने के लिये सक्षम बनाये जाने के लिये सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार की छात्रावास निर्माण की योजना है। इस योजनांतर्गत वित्तीय वर्ष 2021 में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइन्स एजुकेशन एण्ड रिसर्च, भोपाल के लिये 1050 सीट के बालक छात्रावास निर्माण की स्वीकृति सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा दी गई है। इसकी कुल लागत 44.72 करोड़ है जिसमें केंद्राश की राशि 28.35 करोड़ है। भारत सरकार द्वारा प्रथम किश्त की राशि रूपये 14.18 करोड़ में से 6.13 करोड़ रुपये संस्थान को प्रदान किये गये हैं। इसी प्रकार वित्तीय वर्ष 2017 में स्वीकृत जबलपुर में निर्माणाधीन 500 सीट बालिका छात्रावास के लिये दूसरी किश्त की राशि रूपये 607.50 लाख जारी की गई है।
    अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं के लिये छात्रावास निर्माण की केन्द्र द्वारा प्रायोजित योजना को अन्य पिछड़ा वर्ग में शैक्षिक पिछड़ेपन की समस्या से निपटने के लिये वर्ष 1998-99 से कार्यान्वित किया जा रहा है। सामान्यत: ग्रामीण क्षेत्रों से विशेष रूप से कमजोर वर्गों से संबंधित विद्यार्थी निकटवर्ती क्षेत्रों में माध्यमिक विद्यालय और महाविद्यालय की कमी के कारण तथा उचित लागत पर छात्रावास की पर्याप्त सुविधा शैक्षिक संस्थानों में उपलब्ध न होने के कारण अपनी पढ़ाई बीच में छोड़ देते हैं। इसलिये इस योजना को अन्य पिछड़ा वर्ग के, विशेष रूप से ग्रामीण तथा दूर-दराज के क्षेत्रों तथा गरीब परिवारों से आने वाले विद्यार्थियों द्वारा शिक्षा को जारी रखने के लिये सुदृढ़ बनाने की दृष्टि से आरंभ किया गया था। इसी प्रकार माध्यमिक विद्यालयों, कॉलेजों, उच्च विश्वविद्यालयों में पढ़ रहे अनुसूचित जाति वर्ग के छात्र-छात्राओं को छात्रावास सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से राज्य सरकार, संघ राज्य क्षेत्र प्रशासकीय केन्द्रीय विश्वविद्यालय/संस्थान और गैर सरकारी संगठन/मानित विश्वविद्यालयों को भारत सरकार की बाबू जगजीवन राम छात्रावास योजनांतर्गत केन्द्रीय सहायता प्रदान की जाती है। इस योजनांतर्गत भारत सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष 2020-21 में प्रदेश के 10 जिलों में कुल 1750 सीट के छात्रावास स्वीकृत किये गये हैं। इनमें केन्द्रांश राशि 52 करोड़ 50 लाख रूपये स्वीकृत कर प्रथम किश्त के रूप में राशि 26 करोड़ 25 लाख रूपये जारी की गई है।

 
(48 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2021जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer