समाचार
|| वैक्सीनेशन महाअभियान में मुस्लिम समुदाय की भागीदारी सुनिश्चित करने अपील || महाविद्यालयीन छात्रों और उनके अभिभावकों को लगवायें टीका || कोविड-19 वैक्सीन महा अभियान || प्राचार्य ने टीकाकरण कराने की अपील की || पीले चावल का मान रखे दे रहे निमंत्रण टीकाकरण कराने का || कोरोना वैक्सीनेशन महाअभिया में भागादारी निभाने || एक संक्रमित डिस्चार्ज || कृषि उपज मंडी के शेड क्रमांक तेरह के अतिक्रमण हटाये गये || 21 जून - कोविड टीकाकरण महाअभियान || कोविड-19 वैक्सीनेशन महाअभियान, 21 जून को प्रात: 10 बजे आरंभ होगा अभियान
अन्य ख़बरें
खरीफ मौसम में फसलों की उत्पादकता बढ़ाने हेतु किसान भाईयों को कृषि वैज्ञानिकों की सलाह और महत्वपूर्ण सुझाव
-
सागर | 29-मई-2021
 
    कृषि विज्ञान केन्द, सागर के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ. के.एस. यादव ने जिले के समस्त किसान भाईयों को खरीफ मौसम में फसलों की उत्पादकता बढ़ाने सहित फसलों को सुरक्षित रखने के लिए कृषि वैज्ञानिकों की सलाह और महत्वपूर्ण सुझाव दिए है।
    डॉ. यादव ने बताया कि रबी की फसल कटाई के बाद खाली खेतों की ग्रीष्म कालीन गहरी जुताई कर जमीन को खुला छोड़ दें ताकि सूर्य की तेज धूप के कारण इसमें छुपे विभिन्न हानिकारक कीटों के अंडे तथा नींदा के बीज व कंद नष्ट हो जाएंगे साथ ही मृदा में वायु संचार व जलधारण क्षमता में वृद्धि होगी।
    रबी फसलों की कटाई के बाद मानसून से पहले विभिन्न खेतों से मृदा नमूना एकत्र कर जांच हेतु प्रयोगशाला भेजें व मृदा स्वास्थ्य पत्रक में दी गई अनुशंसा अनुसार खाद व संतुलित मात्रा में उर्वरकों का प्रयोग कर टिकाऊ तथा वैज्ञानिक खेती करें।
    ग्रीष्मकालीन उड़द, मूंग एवं सब्जियो में सफेद मक्खी एवं अन्य रस चूसक कीटों के नियंत्रण हेतु एस्टीमीपरीड 20 (एसिटामप्रीड 20 एस पी) एक ग्राम प्रति लीटर अथवा बीटासाईफ्लूथ्रीन, इमिडाक्लोप्रीड 300 ओडी 0.5 मिली लीटर प्रति लीटर की दर से छिड़काव करें।
    अरहर उत्पादन की कम लागत एवं जल संरक्षण के साथ भरपूर पैदावार देने वाली पद्धति   अरहर सघनीकरण प्रणाली  हेतू नर्सरी पहले से तैयार करे। मृदा उर्वरता में वृद्धि करने हेतू हरी खाद - सनई या ढेंचा या लोबिया या उर्दध्मूंग की बुबाई  मई माह के अंत तक करें। खेत से दीमक को पूरी तरह से नष्ट करने हेतू खेत की मेंढो या आस-पास बने बमीठों  को नष्ट करें । खेत की तैयारी करते समय ध्यान दे की खेत के ढाल की विपरीत दिशा में जुताई एवं बखरनी करें। खरीफ फसलों की बुबाई के पुर्व निम्न बातों का ध्यान दे- सही फसल का चुनाव, उन्नत किस्म का चयन, बीजोपचार, दवाओं, जैव उर्वरक, उपयुक्त नींदानाशक  एवं  मृदा स्वास्थ्य पत्रक आधारित उर्वरक आदि की व्यवस्था बुबाई के कम से कम एक सप्ताह पूर्व अवश्य कर लें। खडी फसल में (बुबाई या रोपाई के बाद ) डी.ए.पी., सिंगल सुपर फास्फेट, म्यूरेट आफ पोटाश, जिंक सल्फेट का प्रयोग कदापि नहीं करें। इन उर्वरकों का प्रयोग बुबाई के पहले या बुबाई के साथ या रोपाई के पहले आधार रूप में किया जाता है।
1. मानसून की समान्य स्थिति
1.    सोयाबीन की बुवाई 25 जून से 05 जुलाई के बीच मानसून आने पर सोयाबीन की उन्नत किस्मे जे.एस.2069, जे.एस.2098, आर.वी.एस. 2004-1, आदि की बुवाई पहले करें बाद में 05 जुलाई से 10 जुलाई के बीच जे.एस 93 05, जे. एस 2029, जे.एस. 2034, जे.एस. 9560, आदि की बुवाई करें।
2.    सेयाबीन मे मृदा परीक्षण परिणाम के आधार पर संतुलित उर्वरक २०ः ६०ः ४०ः २० एनः पीः केः एसः किलो/हेक्टेयर $ बीज को राइजोबियम और पी एस बी कल्चर 10 ग्राम/किग्रा बीज का प्रयोग करना चाहिए।
3.    मिश्रित फफूंद नाशक थायरम $ कार्बोक्सिन 2 ग्राम/किग्रा बीज या थायरम $ कार्बेन्डाजिम (2ः 1) 3 ग्राम/किग्रा बीज या ट्राइकोडर्मा विरिडे 10 ग्राम/किग्रा बीज के साथ बीजोपचार करें।
4.    थाइमेथोक्साम 30 डब्ल्यूपी 10 ग्राम/किग्रा बीज के साथ बीज उपचार जहां स्टेम मक्खी, सफेद मक्खी और पीला मोजेक वर्ष दर वर्ष होता है।

2. विलंबित मानसून की स्थिति
-कूड एवं नाली विधि से बुवाई, करें तथा फफूदँनाषक 02 ग्राम अथवा ट्राइकोडर्मा विरिडी 10 ग्राम प्रति कि. ग्रा. बीज की दर से उपचारित करना चाहिये। उपचारित बीज को राइजोबियम व पी. एस. बी. कल्चर की 10 ग्राम प्रति किग्रा. बीज के मान से निवेशित (उपचारित) करना चाहिए। मृदा परीक्षण परिणाम के आधार पर संतुलित उर्वरक (२०ः ६०ः ४०ः २० एनः पीः केः एस कि.ग्रा. प्रति हे.) का प्रयोग, जल उपलब्धता पर हल्की सिंचाई एवं कर्षण विधि (डोरा, कुल्फा, बक्खर) खरपतवार प्रबंधन करना चाहिए।
कूड एवं नाली विधि - उन्नत किस्म के साथ (जे.एस - 2034, जे.एस -9560, जे.एस "9305, जे.एस -2034) कूड एवं नाली विधि से बुवाई, फफूदँनाषक 02 ग्राम अथवा ट्राइकोडर्मा विरिडी 10 ग्राम प्रति कि. ग्रा. बीज की दर से उपचारित करना चाहिये। उपचारित बीज को राइजोबियम व पी. एस. बी. कल्चर की 8-10 ग्राम प्रति किग्रा. बीज के मान से निवेशित (उपचारित) करना चाहिए। मृदा परीक्षण परिणाम के आधार पर संतुलित उर्वरक (20: 60:20 न.फ.पो. कि.ग्रा. प्रति हे.) का प्रयोग, जल उपलब्धता पर हल्की सिंचाई एवं कर्षण विधि (डोरा, कुल्फा, बक्खर) खरपतवार प्रबंधन करना चाहिये।

3. नमी संरक्षण के लिए इंटरकल्चरल ऑपरेशन

सूखे की स्थिति में - फसल की वृद्धि की अवधि के दौरान यदि आवश्यक हो तो सिंचाई करें साथ ही  मिट्टी में नमी संरक्षण के लिए इंटरकल्चरल ऑपरेशन करना चाहिए।
4. देर से मानसून की स्थिति में उर्द और मूंग की बुवाई
उर्द - एवं मूंग की बुवाई समान्यतः 05 जुलाई के बाद 20 से 25 जुलाई तक करना चाहिये। उन्नत किस्म जेयू-86, पीयू-31, पीयू-19, पीयू-1 एवं आईपीयू-94-1 के साथ कूड एवं नाली विधि से बुवाई, फफूदँनाषक 02 ग्राम अथवा ट्राइकोडर्मा विरिडी 10 ग्राम प्रति कि. ग्रा. बीज की दर से उपचारित करना चाहिये। उपचारित बीज को राइजोबियम व पी. एस. बी. कल्चर की 10 ग्राम प्रति किग्रा. बीज के मान से निवेशित (उपचारित) करना चाहिए। मृदा परीक्षण परिणाम के आधार पर संतुलित उर्वरक (20ः 60ः20 न.फ.पो. कि.ग्रा. प्रति हे.) का प्रयोग, जल उपलब्धता पर हल्की सिंचाई एवं कर्षण विधि (डोरा, कुल्फा, बक्खर) खरपतवार प्रबंधन करना चाहिये।

मूंग - उन्नत किस्म पीडीएम-139, टीजेएम-3, जेएम-721, विराट, सीखा, पीडीएम-131, एचयूएम-11, एचयूएम-16 के साथ कूड एवं नाली विधि से बुवाई, फफूदँनाषक 02 ग्राम अथवा ट्राइकोडर्मा विरिडी 10 ग्राम प्रति कि. ग्रा. बीज की दर से उपचारित करना चाहिये। उपचारित बीज को राइजोबियम व पी. एस. बी. कल्चर की 8-10 ग्राम प्रति किग्रा. बीज के मान से निवेशित (उपचारित) करना चाहिए। मृदा परीक्षण परिणाम के आधार पर संतुलित उर्वरक (20ः 60ः20 न.फ.पो. कि.ग्रा. प्रति हे.) का प्रयोग, जल उपलब्धता पर हल्की सिंचाई एवं कर्षण विधि (डोरा,कुल्फा,बक्खर) खरपतवार प्रबंधन करना चाहिये।

मूंग, में उर्द एवं सोयाबीन फसल के साथ अरहर एवं मक्का तथा ज्वार की अंन्तरवर्ती फसल बुवाई करना चाहिए।
अरहर की अधिक उत्पादन देने वाली किस्में जैसे राजीव लौचन, टी.जे.टी. 501, आई.पी.पी.एल 87, तथा राजेशवरी किस्मों का प्रयोग करें तथा बीज उपचार के बाद जून के आखिरी सप्ताह तथा जुलाई प्रथम सप्ताह तक लाईन से बुवाई करें।

5.धान
कम अवधि की उन्नत किस्म जैसे (जे.आर. 201, जे.आर 206. जे.आर. 81, जे.आर. 676, एम.टी.यू 10-10, दन्तेश्वरी, सहभागी, तथा मध्यम अवधि की किस्में क्रांति,महामाया,आई.आर.36, एवं 64 पूसा बासमति एक तथा पूसा सुगंधा 5, पी.एस.-3, पी.एस.-4, पी.ए.6129, पी.ए.6201 की पंत्तियों में बुवाई या रोपाई करें। एवं फफूदँनाशक 02 ग्राम अथवा ट्राइकोडर्मा विरिडी 10 ग्राम प्रति कि. ग्रा. बीज की दर से उपचारित करना चाहिये। उपचारित बीज को राइजोबियम व पी. एस. बी. कल्चर की 8-10 ग्राम प्रति किग्रा. बीज के मान से निवेशित (उपचारित) करना चाहिए। मृदा परीक्षण परिणाम के आधार पर संतुलित उर्वरक (100: 60: 40 न.फ.पो. कि.ग्रा. प्रति हे.) का प्रयोग एवं उपयुर्क्त नीदानाषक दवा से खरपतवार का प्रबंधन। 
(21 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2021जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer