समाचार
|| वैक्सीनेशन महाअभियान के पहले दिन निकले 73 लाख किग्रा मेडिकल वेस्ट को कराया नष्ट || वैक्सीनेशन महाअभियान के अंतर्गत तीन दिन में 1 लाख 10 हजार 198 लोगों को लगा कोविड का टीका || जिनोम सीक्वेंसिंग की मशीन अब भोपाल में || शुक्रवार 25 जून को कोविड-19 टीकाकरण नहीं होगा || शुक्रवार को नहीं होगा टीकाकरण || शनिवार 26 जून को होगा टीकाकरण || वीरांगना रानी दुर्गावती बलिदान दिवस अवसर पर कार्यक्रम आयोजित || कृषि के क्षेत्र में मध्यप्रदेश कर रहा है लगातार प्रगति - केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संत कबीर जयंती पर किया नमन || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महारानी दुर्गावती के बलिदान दिवस पर श्रद्धांजलि अर्पित की
अन्य ख़बरें
केंद्र सरकार ने जल जीवन मिशन में मध्यप्रदेश को 5,117 करोड़ रुपये आवंटित किये
1,185 करोड़ रुपये का अनुदान भी जारी, 2021-22 में मध्य प्रदेश को आवंटन में चार गुना वृद्धि
टीकमगढ़ | 30-मई-2021
मध्य प्रदेश के सभी ग्रामीण परिवारों को सुरक्षित और पीने योग्य पेयजल उपलब्ध कराने के लिए भारत सरकार के जल शक्ति मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय जल जीवन मिशन द्वारा 1,184.860 रुपये की पहली खेप राज्य को जारी की गई है।  वर्ष 2021-22 में जल जीवन मिशन के कार्यान्वयन के लिए मध्य प्रदेश को 5,116.790 करोड़ रुपये की सहायता आवंटित की गई है। केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत भी मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के साथ बैठक में शामिल थे।
श्री गजेंद्रसिंह शेखावत ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के साथ दो दौर की विस्तृत समीक्षा बैठक की। समीक्षा के दौरान, मुख्यमंत्री, मध्य प्रदेश ने आश्वासन दिया कि वह नियमित रूप से जल जीवन मिशन की योजना और कार्यान्वयन की समीक्षा करेंगे और प्रधानमंत्री द्वारा घोषित वर्ष 2024 में कार्य को पूरा करने के बजाय, मध्य प्रदेश सरकार नल-जल कनेक्शन सुनिश्चित करेगी और वर्ष 2023 तक प्रत्येक ग्रामीण घर में पेयजल आपूर्ति का आश्वासन देगी। नतीजतन, 2020-21 में, कोविड-19 महामारी के बावजूद, मध्य प्रदेश ने असाधारण रूप से अच्छा प्रदर्शन किया और नए नल-जल कनेक्शन के साथ 19.89 लाख ग्रामीण परिवारों को जल प्रदान किया।
मध्य प्रदेश में 1.23 करोड़ ग्रामीण परिवार हैं, जिनमें से अब 38.29 लाख (31.1%) घरों में नल से पानी की आपूर्ति हो चुकी है। राज्य मार्च, 2022 तक 22 लाख से अधिक नल-जल कनेक्शन प्रदान करके आधे रास्ते के कवरेज मार्क के पास पहुंचने की योजना बना रहा है। 7 जिलों में 3,731 पाइप्ड जलापूर्ति (पीडब्ल्यूएस) गांव पर ध्यान केंद्रित करने की भी योजना है, जहां औसतन 150 से कम घरेलू कनेक्शन हैं, इन गांवों को श्हर घर जलश् योजना बना सकते हैं। वार्षिक कार्य योजना (2021-22) चर्चा के दौरान राज्य सरकार को अधिक गति से काम करने की सलाह दी गई है, ताकि लगभग 42 प्रतिशत गांवों में नल का जल उपलब्ध कराया जा सके, जो अभी भी पीडब्ल्यूएस के बिना हैं। यह कार्य तेजी से शुरू किया जा सकता है क्योंकि इन गैर-पीडब्ल्यूएस गांवों में उपलब्ध कराए जाने वाले नलों की औसत संख्या पीडब्ल्यूएस गांवों में उपलब्ध कराए जाने वाले शेष नलों की औसत संख्या से कम है।
राज्य को अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति की अधिकांश बस्तियों, जल गुणवत्ता प्रभावित गांवों, सूखाग्रस्त क्षेत्रों, आकांक्षी जिलों, पीवीटीजी बस्तियों आदि जैसे प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में कवरेज बढ़ाने की भी सलाह दी गई है।
मध्य प्रदेश ने सभी को स्वच्छ पेयजलश् सुनिश्चित करने के लिए पानी की गुणवत्ता के विभिन्न पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया है। वर्तमान में मध्य प्रदेश में 155 जल परीक्षण प्रयोगशालाएं हैं, जिनमें से 32 को एनएबीएल मान्यता प्राप्त हुई है। राज्य ने जीवाणु और रासायनिक संदूषणों को दूर करने के लिए पेयजल के परीक्षण पर जोर देना शुरू कर दिया है और 2021-22 में 51 जिला प्रयोगशालाओं में से 23 की एनएबीएल मान्यता लेने की योजना है। हर गांव में पांच लोगों को प्रशिक्षित किया जाता है, जिसमें फील्ड टेस्ट किट का उपयोग कर स्रोत पर पेयजल की गुणवत्ता के साथ-साथ वितरण बिंदुओं का परीक्षण किया जाता है। प्रदेश में पानी की गुणवत्ता, स्वच्छता, सुरक्षित पानी के विभिन्न पहलुओं आदि पर जागरूकता अभियान के साथ-साथ फील्ड टेस्टिंग किट की मदद से स्थानीय लोगों द्वारा गांव में पानी की गुणवत्ता की जांच भी शुरू कर दी गई है। यदि पेयजल की गुणवत्ता चिह्न तक नहीं है, तो वे सरपंच या स्थानीय जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग (पीएचईडी) के अधिकारियों को सुधारात्मक कार्रवाई करने के लिए सूचित करते हैं।
हाल ही में राज्य पीएचईडी अधिकारियों के साथ चर्चा के दौरान राष्ट्रीय जल जीवन मिशन ने जलापूर्ति कार्यों के क्रियान्वयन में तेजी लाने को कहा है, ताकि सभी स्कूलों, आंगनबाड़ी केंद्रों और आश्रमशालाओं में पीने, मध्याह्न भोजन पकाने, हैंडवाशिंग और शौचालयों में उपयोग के लिए पर्याप्त मात्रा में नल कनेक्शन की सुरक्षित पाइप से जलापूर्ति की जा सके।
इसके साथ ही 10 हजार 700 करोड़ रुपये के आवंटन अनुदान के साथ वर्ष 2021-22 में 5,116.78 करोड़ रुपये और राज्य सरकार के पास उपलब्ध 191.61 करोड़ रुपये का बकाया और राज्य में जेजेएम के कार्यान्वयन के लिए कुल सुनिश्चित निधि उपलब्धता शामिल है। इस निधि उपलब्धता से राज्य इस वर्ष ग्रामीण घरों तक नल का जल उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न नियोजित गतिविधियों के कार्यान्वयन में तेजी लाने में सक्षम होगा।
प्रधानमंत्री द्वारा 15 अगस्त, 2019 को लाल किले से जल जीवन मिशन की घोषणा की गई थी। इसी के अनुरूप वर्ष 2024 तक देश के प्रत्येक ग्रामीण परिवार को नल-जल कनेक्शन प्रदान करने के लिए राज्यों/केंद्रों के साथ साझेदारी में कार्यान्वयन किया जा रहा है। वर्ष 2021-22 में जल जीवन मिशन के लिए कुल बजट 50 हजार करोड़ रुपये है। राज्य के अपने संसाधनों और 26 हजार 940 करोड़ रुपये के साथ 15वें वित्त आयोग ने पीआरआई को जल और स्वच्छता के लिए धन दिया है। इस वर्ष ग्रामीण पेयजल आपूर्ति क्षेत्र में 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया जाएगा, जिससे रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे और ग्रामीण अर्थ-व्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा।
(25 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2021जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer