समाचार
|| प्रभारी मंत्री डॉ. मिश्र आज इंदौर आएंगे || इंदौर में होगा जनभागीदारी से वृहद स्तर से पौधारोपण || 6 अगस्त को नर्मदा के प्रथम व द्वितीय चरण का रहेगा 24 घण्टे का शट डाउन || एचडीएफसी बैंक की शाखाओ में शिविर लगाकर पीएम स्वनिधि योजना के हितग्राहियो को बांटेगे लोन || नगर निगम द्वारा 2 जर्जर व खतरनाक मकान रिमूव्हल किये || इंदौर के लिए गौरव की बात || गोपुर चौराहे के पास नवनिर्मित हॉकर्स जोन का होगा विस्तार || कृषकों को तकनिकी मार्गदर्शन जिला स्तरीय निगरानी दल का गठन || स्वास्थ्य शिविर का आयोजन || बिजली उपभोक्ता की संतुष्टि के लिए गंभीरतापूर्वक कार्य हो
अन्य ख़बरें
सपना कहती हैं कोरोना कर्फ्यू में भी हमारी रोजी-रोटी पर संकट नहीं आया "खुशियों की दास्तां "
-
ग्वालियर | 01-जून-2021
 
     सिकंदर खेतीहर श्रमिक हैं। उनकी धर्मपत्नी सपना भी काम में हाथ बटातीं। जैसे-तैसे परिवार का गुजारा भी चल रहा था। मगर सपना इस काम से संतुष्ट नहीं थीं। वह दिन-रात सोचा करतीं कि छोटी ही सही पर गाँव में अपनी एक किराना की दुकान खुल जाए। सपना का यह सपना मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना और ग्रामीण आजीविका मिशन ने पूरा कर दिया है।
    ग्वालियर जिले की ग्राम पंचायत मुख्तियारपुरा से जुड़े ग्राम तोर की निवासी श्रीमती सपना जाटव और उनके पति श्री सिकंदर जाटव की खुशी देखते ही बनती है। सपना का कहना है कि कोरोना कर्फ्यू और लॉकडाउन के दौरान भी हमारे परिवार पर रोजी-रोटी का संकट नहीं आया। गाँव में हमारी छोटी सी किराना की दुकान खूब चली। सपना बताती हैं कि भला हो ग्रामीण आजीविका मिशन और मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना का जिसने हमारे परिवार को आत्मनिर्भर बना दिया है।
    सपना जाटव ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित हुए लोढ़ीमाता स्व-सहायता समूह से जुड़ी हैं। वे बताती हैं कि पति की मजदूरी से जब घर का खर्च चलना मुश्किल हो गया तो हमने अपने स्व-सहायता समूह से मदद लेकर किराना की दुकान खोलने की सोची। इसी बीच प्रदेश सरकार ने लॉकडाउन से प्रभावित हुए गाँव में फेरी लगाकर सब्जी-भाजी व रोजमर्रा की जरूरत का छोटा-मोटा सामान बेचने वाले लोगों की मदद के लिये मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना शुरू की। हमारे पति ने भी इस योजना से मदद लेने के लिये ऑनलाइन फार्म भर दिया। जल्द ही उन्हें 10 हजार रूपए की मदद मिल गई। इसके अलावा हमने 25 हजार रूपए समूह से लिए। इस प्रकार कुल 35 हजार रूपए लगाकर अपने गाँव में हमने “सपना किराना स्टोर” खोला। जब कोरोना की दूसरी लहर आई और जनता कोरोना कर्फ्यू लगा तब इस किराना की दुकान ने हमें टूटने से बचा लिया। हमारी किराना दुकान खूब चली और हर माह इससे 8 से 10 हजार रूपए की आमदनी हो रही है।
    लोढ़ीमाता आजीविका स्व-सहायता समूह से जुड़ीं सपना जाटव बताती हैं कि उनके गाँव में 7 स्व-सहायता समूह बने हैं जिनसे 93 महिलाएं जुड़ी हैं। स्व-सहायता समूहों ने महिला सशक्तिकरण को बड़ी रफ्तार दी है। ग्रामीण आजीविका मिशन से कौशल उन्नयन प्रशिक्षण और आर्थिक मदद लेकर गाँव की महिलाओं ने आत्मनिर्भरता की ओर कदम बढ़ाए हैं।

हितेन्द्र सिंह भदौरिया
 
(66 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2021सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer