समाचार
|| वर्षा की स्थिति || 736 और लोगो की रिपोर्ट प्राप्त हुई निगेटिव || जिले में मंगलवार को फिर आई कोरोना पाजिटिव की शून्य रिपोर्ट || निःशुल्क राशन वितरण योजना ने गरीबो को लॉकडाउन के दौरान प्रदान किया है संबल "खुशियों की दास्तां" || वन नेशन वन राशन कार्ड से उत्तरप्रदेश से आये प्रवासी मजदूर का जल रहा है चूल्हा "खुशियों की दास्तां" || अब घर बैठे बनाएं जा सकेंगे ऑनलाइन लर्निंग लाइसेंस || कंरट लगने से होने वाली दुर्घटनाओं के मामले में सावधानी बरतें || आरटीई अंतर्गत दूसरी लॉटरी 14 अगस्त को || ‘‘मुख्यमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार के लिये आवेदन 6 सितम्बर तक करें || शासकीय विश्वविद्यालयों के कार्मिकों को भी मिलेगा वार्षिक वेतन वृद्धि का लाभ
अन्य ख़बरें
पर्यावरण संरक्षण एवं प्रकृति को प्राणवायु से समृध्द करने का जन-अभियान : अंकुर अभियान "विशेष आलेख"
-
छिन्दवाड़ा | 04-जून-2021
    पर्यावरण संरक्षण एवं प्रकृति को प्राणवायु से समृध्द करने के लिए सांस नयी आस नयी की अवधारणा पर विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून से प्रदेश में अंकुर जन-अभियान शुरू किया जा रहा है। यह अभियान छिन्दवाड़ा जिले में भी संचालित किया जायेगा जिससे जिले की भूमि हरी-भरी होगी और जिले की हरीतिमा के सौंदर्य व स्वच्छ पर्यावरण का लाभ जिलेवासी ले सकेंगे ।
अंकुर कार्यक्रम की पृष्ठभूमि‐‐प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के संकल्प व मंशानुसार प्रदेश में आम जन को पौधारोपण के लिए प्रेरित करना है । वर्तमान समय में कोविड‐19 के बढ़ते संक्रमण के दौर में आक्सीजन उपलब्धता की चुनौतियों के दृष्टिगत जन-जन को प्राणवायु के रूप में आक्सीजन का महत्व समझाने की दृष्टि से इस वर्ष विश्व पर्यावरण दिवस का विषय "परिस्तिथिकी तंत्र का पुनरूध्दार" रखा गया है । पारिस्थितिकी तंत्र के जीर्णोध्दार व सुदृढ़ीकरण के लिए पौधारोपण एक अहम् गतिविधि है तथा विश्व पर्यावरण दिवस के विषय के अनुरूप प्रदेश के हरित क्षेत्र में वृध्दि व प्राणवायु को समृध्द करने की दृष्टि से जन भागीदारी को सुनिश्चित करने के लिए राज्य शासन द्वारा "अंकुर" पौधारोपण कार्यक्रम की अवधारणा तैयार की गयी है ।
अंकुर कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य-पौधारोपण को एक सामाजिक संस्कार का रूप देना, पौधा रोपण कार्यक्रम में व्यापक जनसहभागिता सुनिश्चित करना, प्रदेश की धरती को हरा-भरा बनाना, प्रकृति को प्राणवायु से समृध्द करना, वायु प्रदूषण को नियंत्रित कर पर्यावरण को स्वच्छ बनाना और भू-जल संवर्धन में मदद करना अंकुर कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है।
कार्यक्रम का प्रारूप- कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन के लिये पर्यावरण विभाग को कार्यक्रम का नोडल समन्वयक विभाग बनाया गया है, जबकि पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एप्को) कार्यक्रम की नोडल एजेंसी रहेगी ।
पंजीयन- कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिये वायुदूत मोबाइल एप पर नागरिकों का पंजीयन होगा।  नागरिकों द्वारा पंजीयन कर योजना अवधि में कम से कम एक पौधा लगाकर उसका फोटोग्राफ अपलोड किया जायेगा और पौधारोपण के 30 दिन बाद उन्हें पुनः नवरोपित पौधे की नवीनतम फोटो अपलोड करनी होगी।
सत्यापन-जिला स्तर पर नागरिकों द्वारा किये गए पौधारोपण का रेंडम आधार पर जन अभियान परिषद के वॉलिंटियर्स, एन.जी.सी., मास्टर ट्रेनर और कलेक्टर द्वारा नामांकित वेरिफायर्स द्वारा सत्यापन किया जायेगा। योजना अवधि में प्राप्त सभी प्रविष्टियों में से लाटरी के माध्यम से विजेताओं का चयन किया जायेगा। चयनित विजेताओं द्वारा लगाये गये पौधों का वास्तविक सत्यापन जिला नोडल अधिकारी द्वारा वेरिफायर्स  के माध्यम से कराया जायेगा |
पुरस्कार-चयनित जिलेवार विजेताओं को वृक्ष-वीरों और वृक्ष-वीरांगनाओं के रूप में जाना जाएगा। विजेताओं को मुख्यमंत्री श्री चौहान के कर कमलों से प्राणवायु अवार्ड देकर सम्मानित कर प्रमाण पत्र प्रदान किया जायेगा। कार्य पूर्ण होने के बाद सभी प्रतिभागियों को सहभागिता प्रमाण पत्र प्रदान किया जायेगा ।
कार्यक्रम क्रियान्वयन के मोड्यूल- कार्यक्रम क्रियान्वयन के लिये जिला नोडल अधिकारी का पंजीयन एवं वेब आधारित डैशबोर्ड का निर्माण किया जायेगा । मोबाइल एप के माध्यम से नागरिकों का पंजीयन व पौधारोपण होगा एवं मोबाइल एप के माध्यम से ही वेरिफायर्स का पंजीयन व रोपित पौधों का सत्यापन किया जायेगा ।
सत्यापन की प्रक्रिया- नामांकित वेरिफायर्स को गूगल प्ले स्टोर से वायुदूत एप डाउनलोड करना होगा। एप डाउनलोड करने के पश्चात् इच्छित हिंदी व अंग्रेजी भाषा का चयन कर वेरिफायर्स लॉगिन से लॉगिन करना होगा। वेरिफायर्स को सत्यापन के लिए आवंटित प्रविष्टि में अंकित रोपित पौधे की फोटो, प्रतिभागी का नाम, स्थल का नाम तथा स्थल के लेटिट्यूड व लोगीट्यूड  के आधार पर पौधारोपण स्थल पर जाकर सत्यापन करना होगा। सत्यापित किये गये पौधे की फोटो व अपनी टिप्पणी एप पर अपलोड करना होगी । पौधारोपण स्थल पर मोबाईल नेटवर्क नहीं होने की स्थिति में वायुदूत एप पर ऑफलाईन स्थिति में ही फोटो एप पर अपलोड करना होगी। मोबाईल में नेटवर्क आने पर फोटोग्राफ स्वत: एप पर अपलोड हो जायेंगे। ऑफलाईन अवस्था में एप पर फोटो अपलोड करने के पूर्व से एप पर लॉगिन रहना आवश्यक होगा। सत्यापन के लिए  एप के माध्यम से ही फोटो खींचकर अपलोड करना होगी।
जिले के आम नागरिकों से अपील-कलेक्टर श्री सौरभ कुमार सुमन के मार्गदर्शन व मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री गजेन्द्र सिंग नागेश के कुशल नेतृत्व में विश्व पर्यावरण दिवस पर 5 जून से जन‐सहभागिता से जिले में अंकुर कार्यक्रम के अंतर्गत वृहद पौधारोपण अभियान की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं । जिले में 5 जून से 15 जुलाई तक पौधारोपण किया जायेगा । कलेक्टर श्री सुमन द्वारा जिले के आम नागरिकों से अपील की गई है कि अंकुर अभियान में स्वयं जुड़कर अपने इष्ट मित्रों, परिवार जनों, सामाजिक बन्धुओं, ग्रामवासियों आदि की सहभागिता सुनिश्चित कर जिले को हरा-भरा बनाने में सहयोग करें।
      अंकुर अभियान एक अत्यंत महत्वाकांक्षी अभियान है तथा जन सहभागिता से यह अभियान पूर्ण होगा जिससे जिले में हरियाली और खुशहाली का वातावरण बनेगा और जिले का पर्यावरण स्वच्छ होने के साथ ही पर्यावरण का संरक्षण होगा ।        

 
(60 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2021सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer