समाचार
|| कलेक्टर ने अनुविभागीय अधिकारी एवं तहसील कार्यालय जयसिंहनगर का किया निरीक्षण || विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री सखलेचा आज इंदौर आएंगे || राजस्व का अमला अपने कर्तव्यो का करे बखूबी निर्वहन- कलेक्टर || गणेश मूर्ति विसर्जन के संबंध में दिशा-निर्देश || मध्यप्रदेश के पास है टाइगर स्टेट का गौरवशाली और जवाबदारी भरा ताज || स्वामी अखिलेश्वरानंद गिरी पशु संवर्धन बोर्ड के उपाध्यक्ष नियुक्त || 31 जुलाई तक नगरीय निकायों के कर जमा करने पर अप्रैल से जून तक का नहीं लगेगा अधिभार || 31 जुलाई को बिजली बिल भुगतान केन्द्र खुलेंगे || अदरक, प्याज, लहसुन आदि मसाला फसलों के उन्नत किस्मों के बीजों को खरीदे उद्यानिकी विभाग || राज्यमंत्री श्री परमार जारी करेंगे कक्षा 12वीं के परीक्षा परिणाम
अन्य ख़बरें
उपचार के साथ बढ़ाया कोरोना संक्रमितों का मनोबल "कहानी सच्ची है"
टीम वर्क से मरीजों को स्वस्थ करने में सफल रहे डॉ. रजनीश शर्मा
बैतूल | 08-जून-2021
     स्वास्थ्य विभाग बैतूल में पदस्थ अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ. रजनीश शर्मा द्वारा कोरोना की दूसरी लहर के दौर में डीसीएचसी बैतूल (समर्पित कोरोना हेल्थ केयर सेंटर) में अपनी समर्पित सेवाएं दी गईं। डॉ. शर्मा द्वारा वैश्विक महामारी कोरोना में संक्रमितों का न केवल उपचार किया गया बल्कि मोरल बूस्ट अप (नैतिक वृद्धि) से संक्रमितों के मनोबल को ऊंचा कर अनेकों मरीजों की जान बचाने में सफलता भी प्राप्त की गई।
   कोरोना की प्रथम लहर में डॉ. शर्मा द्वारा लगभग 20 हजार से अधिक प्रवासियों का परीक्षण किया गया। कार्यालयों में, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड एवं बाहर से आने वाले हजारों मरीजों का न केवल परीक्षण किया बल्कि उन्हें होम क्वारंटाइन कर आवश्यकतानुसार टेलीफोनिक उपचार भी प्रदाय किया गया।
    कोविड केयर सेंटर में पौधारोपण कराया गया तथा स्वस्थ होने वाले कोरोना मरीजों को औषधीय पौधे देकर घर रवाना किया गया। कई बुजुर्ग महिलाएं-पुरूष जो जीवन से जीतने की उम्मीद छोड़ चुके थे, इनकी प्रेरणा से स्वस्थ हुए और कोरोना को धता बताकर अपने घर खुशी-खुशी लौटे। विकासखंड घोड़ाडोंगरी की विष्णुपुर निवासी 90 वर्षीय श्रीमती उर्मिला परिमल गांगुली, रामनगर बैतूल निवासी 87 वर्षीय श्रीमती मालती पति श्री गोपाल मिश्रा ने कोरोना से स्वस्थ होने पर डॉ. शर्मा की कार्यशैली की प्रशंसा की। उनके इलाज और कुशल नेतृत्व के दम पर कोविड केयर सेंटर हमलापुर में 351 भर्ती मरीजों में से सभी स्वस्थ होकर घर रवाना हुए, किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई। कोविड केयर सेंटर हमलापुर टीम वर्क और सेवा की मिसाल बन गया। डॉ. शर्मा ने निमोनिया के कई मरीजों का भी सफल इलाज किया।
अपने कर्तव्य के दौरान होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की सेवा में डॉ. शर्मा द्वारा कोई कसर नहीं छोड़ी गई। उन्होंने फोन पर ही लगभग 3000 मरीजों का इलाज किया। इन मरीजों में 400 से अधिक बैतूल के बाहर अन्य शहरों के थे। इन मरीजों की सी.टी. स्कैन, ब्लड जांच और एक्स-रे रिपोर्ट फोन पर मंगाकर साथ में पूरी विस्तृत जानकारी लेकर फोन पर ही दवाइयां लिखकर उपचार किया गया। डीसीएचसी बैतूल में निरंतर सेवा देने के दौरान एक समय ऐसा भी आया कि उनके पिता डॉ. महेश चन्द्र शर्मा कोरोना संक्रमित हो गये एवं परिवार के पांच सदस्य भी निमोनिया से पीड़ित हो गये। डॉ. शर्मा द्वारा अवकाश लेकर अपने परिवार की भरपूर देखरेख की गई और आखिर वे सभी को स्वस्थ और सुरक्षित रख पाने में कामयाब हुये। उनके द्वारा मरीजों के इलाज के दौरान संक्रमण से परिवार को सुरक्षित रखने के लिये परिजनों से दूरी रखते हुये होम आइसोलेशन जैसे नियमों का पालन किया गया।
   डॉ. शर्मा द्वारा वर्तमान में हमलापुर कोविड केयर सेंटर, आयुष चिकित्सालय टिकारी एवं विजय कोविड सेंटर में प्रभारी के दायित्वों का बखूबी निर्वहन किया जा रहा है।
(50 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2021अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer