समाचार
|| पैरालीगल वालंटियर की मेहनत रंग लाई- 260 लोगो का हुआ टीकाकरण || टीकाकरण महाअभियान में सभी उत्साहपूर्वक सहयोग करें- श्री अग्रवाल || वैक्सीनेशन महा अभियान के क्रियान्वयन की रूपरेखा तय हुई || प्रदेश में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-21 जून से प्रारंभ होगा वैक्सीनेशन महा-अभियान || मेडिकल, पैरामेडिकल और नर्सिंग सत्र जुलाई से होगा शुरू, प्रवेशित छात्र-छात्राओं को दिया जायेगा कोविड प्रोटोकॉल का प्रशिक्षण || कोविड, पोस्ट कोविड और उच्च रक्त शर्करा वाले व्यक्तियों के उपचार के लिये विशेष क्लीनिक 21 जून से || किसान अपना पंजीयन 20 जून तक करा सकते हैं - मंत्री श्री पटेल || जनता की सुरक्षा की दृष्टि से ही हो रहा है अनलॉक - डॉ. मिश्रा || मंत्री सुश्री उषा ठाकुर ने महू नगर में किया पैदल मार्च || जिले में 16 जून तक 6724 मरीज हुए कोरोना से मुक्त "खुशियों की दास्तां"
अन्य ख़बरें
चिकित्सक का धर्म निभाने एक युवा डॉक्टर पाना, पेंचकस, प्लास अपने पास रखकर मैकेनिक भी बना ‘‘सफलता की कहानी’’
संक्रमणकाल में एक युवा डॉक्टर का ऐसा जज्बा कि दिनरात में अपने लिए केवल चार घंटे ही निकाले
अनुपपुर | 11-जून-2021
    कोरोना की दूसरी लहर में मरीजों के बीच कायम मानवीय संवेदना एवं सामाजिक सरोकार के गहरे रिष्ते ने एक युवा डॉक्टर को डॉक्टर धर्म निभाने हेतु मरीजों के जीवन की चिंता में मैकेनिक तक बना डाला। कोरोना की दूसरी लहर से जिस तेजी से कोरोना के मामले बढ़े, उससे यह बीमारी चुनौती बनकर सामने आई और इस युवा डॉक्टर ने विषम परिस्थितियों में भी मरीजों की जान बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।
    यह हैं सकरिया के युवा डॉक्टर डॉ. प्रवीण कुमार शर्मा, जिनकी कोरोना की दूसरी लहर से जंग के लिए यहां जिला अस्पताल के कोविड आइसोलेषन के आईसीयू में ड्यूटी लगा दी गई थी। कोरोना के गंभीर मरीजों का इलाज, नर्सिंग स्टेषन बनाना, आईसीयू सेटअप स्थापित करना, 24 घंटे ऑक्सीजन सप्लाई, बिजली की सतत आपूर्ति, पानी, साफ-सफाई व्यवस्था उनके लिए मुख्य चुनौतियां थीं। उस समय वहां ऑक्सीजन के 40 बेड थे और 541 मरीज थे, लेकिन इसकी क्षमता को बढ़ाकर 80 ऑक्सीजन बेड कर दिया गया। यहां बहुत खराब हालत वाले मरीज भर्ती होते थे, जिनके जीवन को बचाने के लिए उन्हें लगातार ऑक्सीजन देना जरूरी था। डॉ. शर्मा को हमेषा इस बात की चिंता रहती थी कि कहीं ऑक्सीजन सप्लाई बाधित ना हो जाए। इसलिए ऑक्सीजन का प्रेषर जरूरत के हिसाब से बढ़ाने-घटाने के लिए फ्लोमीटर के लूज हो जाने की संभावना को देखते हुए वह अपने पास हमेषा पाना, पेंचकस, प्लास रखे रहते थे, ताकि जरूरत पड़ने पर सप्लाई के प्रवाह को अपने हिसाब से सुनिष्चित कर सके। इस तरकीब से उन्होंने ऑक्सीजन सप्लाई को बाधित नहीं होने दिया। उन्होंने मरीजों के लिए ऑक्सीजन के बेहतर इस्तेमाल हेतु सप्लाई के साथ डिस्टिल वाटर या आर.ओ. वाटर का इंतजाम कर रखा था।
    गत वर्ष कोरोना संकट काल में डॉ. शर्मा ने अपने बच्चे की सर्जरी होने के बावजूद कोरोना मरीजों का इलाज करके अपने पारिवारिक और सामाजिक दायित्वों को निभाया। इस वर्ष दूसरी लहर के समय भी बच्चे की दूसरी सर्जरी होने के बाद भी वे अपने कर्त्तव्य पर डटे रहे। परिवार को कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए वह घर से होटल आ गए। मां और पत्नी ने भी उनका हौंसला बढ़ाया और कहा कि घर हम संभाल लेंगे, आप तो मरीजों की सेवा करें। वह 24 घंटे में ड्यूटी से केवल चार घंटे के लिए थोड़ी देर आराम करने एवं नहाने-धोने होटल जाते थे। वह अपने मरीजों का किसी परिवार की सदस्य की तरह ध्यान रखते थे। वह बताते हैं कि एक दिन अचानक बिजली चले जाने से जब ऑक्सीजन कांसटेªटर बंद हो गए, तो वह और उनके साथी डॉक्टर बेहद घबरा गए। वह बताते हैं कि मरीजों की जान की चिंता में वह रुंआसे हो गए थे और बिजली सप्लाई बहाल करने के लिए जी जान से भाग दौड़ करने लगे थे। भागदौड़ करके बिजली की व्यवस्था कर स्थिति को बेकाबू नहीं होने दिया।
    डॉ. शर्मा रोजाना हर 15 मिनट में एक मरीज से बात कर उसका हाल जानते थे। जिन मरीजों को खतरा लगता वह उनसे बतियाते हुए उनका ध्यान भटकने नहीं देते। मरीजों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए वह अन्य डॉक्टरों से लगातार उनके बारे में जानकारी लेते रहते। उन्होंने मरीजों के उपचार के साथ उनके लिए डाइट प्लान, सोने का तरीका, मनोबल बढ़ाने के लिए मरीजों से हंसी-मजाक का पारिवारिक माहौल बनाए रखा। उन्होंने किसी भी मरीज को बाजार से दवा नहीं खरीदने दी। मरीजों को इन्फेक्षन न हो, इसलिए वह स्वयं खड़े होकर अपने सामने साफ-सफाई कराते थे। इससे संक्रमित मरीजों की सुधार दर बढ़ती चली गई। संक्रमण काल में वे पल उनके लिए स्मरणीय एवं सुखद रहे जब मेडीकल कालेज शहडोल से डिस्चार्ज होकर तीन कोरोना के गंभीर मरीज उनके यहां आकर भर्ती हुए और पूर्ण स्वस्थ होकर घर चले गए।
    इस कार्य के दौरान शर्मा होम आइसोलेषन मरीजों की फोन से काउंसलिंग कर उनका उपचार भी करते रहे। ऐसे करीब 200 मरीज थे, जो डॉक्टर शर्मा की चिकित्सकीय सलाह एवं इलाज से 12 से 15 दिन के भीतर सब ठीक हो गए थे। खास बात यह कि मरीज डॉक्टर शर्मा के मधुर व्यवहार की वजह से उनसे खुलकर बात कर अपनी परेषानी साझा करते थे। वे आज भी मधुरता से अपने मरीजों से बात कर उनकी खैरियत के बारे में पूछताछ करते हैं। उनकी सेवा भावना, निष्ठा एवं मधुर व्यवहार की कार्यषैली ने उन्हें लोगों में लोकप्रिय बना दिया है। डॉ. शर्मा वर्तमान में अनूपपुर के खण्ड चिकित्सा अधिकारी हैं। 
(7 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2021जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer