समाचार
|| देश की आजादी में शहीदों के योगदान को हम कभी भुला नहीं पायेंगे – गृह मंत्री डॉ. मिश्र || आज कोई केस सामने नहीं आया || पीएलवी की बैठक सम्पन्न || जिले में अभी तक 305.3 मि.मी. वर्षा दर्ज || आज 26 को जिले में होगा कोविड 19 वैक्सीनेशन || प्रदेश की प्रथम अत्याधुनिक वैक्सीनेशन बैन को सांसद एवं प्रदेश अध्यक्ष वी डी शर्मा द्वारा हरी झंडी दिखाकर आमजन को समर्पित किया || दमोह के विभिन्न केंद्रों पर आयोजित हुई राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा की प्रारंभिक परीक्षा || कोरोना गाईड लाइन और सभी सावधानियों के साथ सोमवार से शुरू हो सकेंगी 11वीं 12वीं की कक्षायें || मुख्यमंत्री श्री चौहान 26 जुलाई को ‘आयुष क्षेत्र में संभावनाएँ’ विषय पर बैठक लेंगे || कोरोना संक्रमण में कमी का मतलब यह नहीं की लापरवाह हो जाएं: मुख्यमंत्री श्री चौहान
अन्य ख़बरें
महिला एवं बाल विकास विभाग के दल ने बाल विवाह रूकवाया "कहानी सच्ची है"
-
इन्दौर | 11-जून-2021
      महिला एवं बाल विकास विभाग इंदौर के अधिकारी-कर्मचारियों के दल ने गुरूवार को इंदौर शहर में एक बालिका का विवाह रूकवाने में सफलता प्राप्त की। विभाग के परियोजना अधिकारी श्री राजेन्द्र कुमार मण्डलोई ने बताया कि उन्हें गुरूवार शाम 7 बजे चाइल्ड लाइन से फोन पर जानकारी मिली कि एक 17 वर्षीय बालिका का विवाह उसके परिवारजन बालिका की इच्छा के विरूद्ध करवाना चाह रहे है, जिस पर उन्होंने विभाग की सुपरवाइजर श्रीमती उषा शर्मा को क्षेत्र की कार्यकर्ता व सहायिका के साथ मौके पर जाकर विवाह रूकवाने के निर्देश दिए। सुपरवाइजर श्रीमती शर्मा ने इंदौर शहर के स्कीम नम्बर 78 में स्थित बालिका के घर पहुंचकर परिवारजनों को समझाइश दी कि 18 वर्ष से कम आयु में बालिका का विवाह कराना कानूनन अपराध है तथा बालिका की आगे पढ़ने की इच्छा है, तो उसकी पढ़ाई पूरी करायें और उसके बाद ही विवाह कराये। श्रीमती शर्मा की समझाइश पर बालिका के परिवारजन इस बात के लिए तैयार हो गए कि अब वे अपनी बेटी का विवाह 18 वर्ष की आयु पूर्ण करने के बाद तथा उसकी पढ़ाई पूरी कराने के पश्चात ही करेंगे। बालिका के माता पिता ने इस संबंध में शपथ पत्र भी महिला बाल विकास विभाग के दल को दिया कि वे कम उम्र में बालिका का विवाह नहीं करेंगे।
    बालिका से जब यह पूछा गया कि, उसे इतनी हिम्मत कहाँ से मिली कि अपने माँ बाप के इच्छा के बावजूद उसने बाल विवाह रूकवाने के लिए चाइल्ड लाइन के नम्बर पर फोन किया और विवाह रूकवाने में सफलता प्राप्त की, तो बालिका ने बताया कि वह हर माह किशोरी बालिका दिवस पर पास की आंगनवाड़ी जाती है जहां उसे बताया गया था कि बाल विवाह अपराध है और बाल विवाह या बच्चों के प्रति होने वाले अन्य अपराधों को रोकने के लिए चाइल्ड लाइन नम्बर 1098 पर फोन करने से मदद तत्काल मिल जाती है। इस जानकारी के आधार पर बालिका ने सही समय पर चाइल्ड लाइन को फोन कर अपना विवाह रूकवा लिया। बालिका ने कहा कि अब वह मन लगाकर पढ़ाई करेगी ताकि उसका भविष्य उज्जवल बन सके।
(45 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2021अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer