समाचार
|| मध्यप्रदेश वृक्षारोपण प्रोत्साहन विधेयक-2021, स्टेक होल्डर्स एक महीने में अपने सुझाव प्रस्तुत कर सकेंगे || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रोपा नारियल का पौधा || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शहीद उधम सिंह की पुण्य-तिथि पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने साहित्यकार मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर किए श्रद्धा सुमन अर्पित || दाल भंडारण की अधिकतम सीमा निर्धारित || कोरोना वालंटियर कर रहे है वैक्सीनेशन में सहयोग || दिव्यांगों को वे सारी सुविधाएँ देंगे, जिससे वे सामान्य व्यक्ति की तरह जीवन जी सकें || टीकाकरण महाअभियान के तहत 28482 लोगों ने लगवाया कोविड टीका || विद्यार्थियों के लिए अच्छी शिक्षा और स्वास्थ्य दोनों महत्वपूर्ण - मुख्यमंत्री श्री चौहान || देश को मौजूदा परिपाटियों से आगे बढ़ाने के हो प्रयास हमारी मूल क्षमताओं का हो सर्वश्रेष्ठ उपयोग - श्री पटेल
अन्य ख़बरें
अर्लिडिटेक्शन कर लोगो को बचाने की दिशा में काम करे- कमिश्नर इंदौर
संभागायुक्त ने ली कोविड-19 की समीक्षा बैठक
खरगौन | 15-जून-2021
       इंदौर संभागायुक्त ड़ॉ. पवन शर्मा मंगलवार को जिले के एकदिवसीय भ्रमण पर रहे। उन्होंने इस दौरान कोविड के कार्यो का अवलोकन के साथ-साथ मनरेगा के कार्यो के अवलोकन के बाद नवीन कलेक्टर भवन के सभागृह में कोविड से संबंधित बिंदुओं पर समीक्षा की। बैठक में कमिष्नर डॉ. शर्मा ने कोरोना उपचार और मरीजों को संभालने के कार्यों की सराहना करते हुए बधाई दी। उन्होंने कहा कि यहॉं उम्मीद से अच्छे प्रयास और व्यवस्थाएं जुताई गई है। कलेक्टर और पूरी टीम को बधाई दी। संभागायुक्त ड़ॉ. शर्मा ने कहा कि कोविड के बाद ऐसे प्रकरण भी सामने आए है जिन्होंने आंखे खोई है और जिंदगी भी। वही इन्दौर ने ऐसे प्रयास किये है जिससे पहले ही जानकारी मिल जाने के बाद लोगो की रोशनी को बचाया गया है। इसके लिए कमिश्नर ड़ॉ. शर्मा ने इंदौर का फार्मूला भी बताया और खरगोन को भी इसी तरह किसी रूपरेखा पर कार्य करते हुए अर्लिडिटेक्शन करने के निर्देश दिए है। साथ ही उन्होंने कहा कि अर्लिडिटेक्शन करने के बाद इंदौर रेफर कर दे। वहां बेहतर कार्य किया जा रहा है सबसे बड़ी बात है कि समय से पहले ऐसे मरीज हमारे सामने आ जाये। ब्लैक फंगस की जानकारी देते हुए सिविल सर्जन ड़ॉ. दिव्येश वर्मा ने बताया कि जिले में अब तक 31 ब्लैक फंगस के मरीज सामने आए है 24 मरीज डिस्चार्ज होकर वही 7 मरीजों का अभी इंदौर में उपचार चल रहा है। ड़ॉ. वर्मा ने कहा कि दो मरीज ऐसे है जिन्हें कोविड नही हुआ मगर उनको डायबिटीज की समस्या थी। ड़ॉ. वर्मा ने जानकारी देते हुए कहा कि खरगोन में एंडोस्कोपी की मशीन में चेक करने के बाद निर्देशानुसार इंदौर रेफर कर दिया है। अभी 7 मरीज इंदौर में भर्ती है। बैठक में एसपी श्री शैलेन्द्र सिंह चौहान, जिला पंचायत सीईओ श्री गौरव बेनल,एडीएम श्री बीएस सोलंकी, एसडीएम सत्येंद्र सिंह, सीएमएचओ ड़ॉ. डीएस चौहान, ड़ॉ. संजय भट्ट व अन्य डॉक्टर भी उपस्थित रहे।
टीके के लिए माइक्रो मैनेजमेंट करो
    समीक्षा बैठक में कमिश्नर ड़ॉ.शर्मा ने कहा कि अब समय टीकाकरण का है। लोगो मे जागरूकता भी आयी है। मगर अब भी जरूरत है लोगो को बतलाए कि क्यो आवश्यक है टीका ? ऐसे काम करे जिससे लोग स्वयं आगे आये और टीका लगाए। इसलिए गांव-गांव के ऐसे हर वर्ग के नेतृत्वकर्ता व्यक्तियों को समझाए उनकी जागरूकता बड़े काम की है। अगर उन्होंने नही लगवाया है तो पहले उनको लगवाओ फिर वे अन्य को जागरूक करें। ऐसे माइक्रो मैनेजमेंट करके जिले में बदलाव लाये नही तो बहुत अच्छी स्थिति नहीं होगी। खासकर 45 वर्ष से अधिक उम्र के और किसी बीमारी वाले लोगो के लिए आने वाला समय बहुत अच्छा नही है। इसलिए हमें कुछ बेहतर कार्य करना अनिवार्य है। जिला पंचायत सीईओ को सम्बोधित करते हुए प्लान बनाने को कहा।बड़ा किसान, बहुत पढ़ा लिखा व्यक्ति, पटेल, सरपंच या ऐसा व्यक्ति जिसकी गांव में ज्यादा अच्छी पहचान है। उन्हें माइक्रो मैनेजमेंट में लें।
उम्मीद से अच्छा काम किया जिला अस्पताल ने
    समीक्षा बैठक के दौरान कमिश्नर ड़ॉ. शर्मा ने कहा कि पीक के दौरान जो काम जिला अस्पताल ने किया। उसकी उन्हें उम्मीद नही थी। इलाज के साथ-साथ जरूरत के अनुसार आवश्यक व्यवस्थाएं जुटाई गई। इसके अलावा मरीजो को जिस तरह संभाला वो वाकई बड़ी बात है। जो संकट आया वो प्रशासन के अलावा परिवारों पर भी आया मगर उनको इलाज देने में किये गए प्रयास बहुत बेहतर है। यहाँ कम व्यवस्था होने के बावजूद जिस तरह मरीजो की बढ़ती संख्या होने पर भी संभाले रखा ये अच्छा काम था। कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा ने बताया कि यहाँ कसरावद- महेश्वर और सनावाद में भी कुछ अच्छी व्यवस्थाएं की जिससे जिला अस्पताल पर ज्यादा प्रेसर नही आया। जब बहुत ज्यादा समस्या होने लगी तो यहां रेफर करवाया गया। तब तक कुछ बेड खाली या वैकल्पिक व्यवस्था का मैनेज किया गया।
भविष्य पर रखे नज़र
    समीक्षा बैठक में इंदौर कमिश्नर ड़ॉ. शर्मा ने कहा कि आज जैसे प्रयास चल रहे है। अधिकांश स्थानों पर ऑक्सीजन प्लांट को लेकर ज्यादा तैयारी हो रही है। जो कुछ हद तक सही भी है। इसके अलावा और भी बहुत कुछ है करने के लिए अपडेट करो अब अस्पतालों को पूरे जिले में अलग अलग प्लांट की जरूरत नही है एक ही लिक्विड प्लांट भी काफी है। बैठक में कमिश्नर ड़ॉ. शर्मा ने सिविल सर्जन से सामान्य दिनों में ऑक्सीजन की जरूरत और उपलब्धता के बारे में जानकारी लेते हुए इतनी ऑक्सीजन का अब क्या करेंगे ? क्योंकि ये प्लांट 200 एलएमपी क्षमता वाले प्लांट है। ये प्लांट भी वहां ज्यादा उपयोगी होंगे जहां एमडी डॉक्टर है। बिना डॉक्टर के ऑक्सीजन प्लांट की ज्यादा उपयोगिता नही है। अंत में कमिश्नर ने कलेक्टर और उनकी पूरी टीम को कोविड-19 में किये गए प्रयासों और सेवाओं के लिए बधाई दी।
(47 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2021सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer