समाचार
|| कलेक्टर ने अनुविभागीय अधिकारी एवं तहसील कार्यालय जयसिंहनगर का किया निरीक्षण || विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री सखलेचा आज इंदौर आएंगे || राजस्व का अमला अपने कर्तव्यो का करे बखूबी निर्वहन- कलेक्टर || गणेश मूर्ति विसर्जन के संबंध में दिशा-निर्देश || मध्यप्रदेश के पास है टाइगर स्टेट का गौरवशाली और जवाबदारी भरा ताज || स्वामी अखिलेश्वरानंद गिरी पशु संवर्धन बोर्ड के उपाध्यक्ष नियुक्त || 31 जुलाई तक नगरीय निकायों के कर जमा करने पर अप्रैल से जून तक का नहीं लगेगा अधिभार || 31 जुलाई को बिजली बिल भुगतान केन्द्र खुलेंगे || अदरक, प्याज, लहसुन आदि मसाला फसलों के उन्नत किस्मों के बीजों को खरीदे उद्यानिकी विभाग || राज्यमंत्री श्री परमार जारी करेंगे कक्षा 12वीं के परीक्षा परिणाम
अन्य ख़बरें
बाल श्रम निषेध दिवस के अवसर पर जागरूकता एवं एक दिवसीय कार्यशाला संपन्न
-
दमोह | 18-जून-2021
   जिले में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, श्रम विभाग व महिला एवं बाल विकास विभाग  दमोह  द्वारा गतदिवस बाल श्रम निषेध दिवस के अवसर पर जागरूकता एवं एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन यूनिसेफ के सहयोग से किया गया जिसमे CWC सदस्य, JJB सदस्य, CDPO, श्रम पदाधिकारी, शिक्षक, प्रदेश जन अभियान परिषद, समाजसेवी संस्था वर्ल्ड विज़न इंडिया, चाइल्ड लाइन, नेहरू युवा केंद्र, पैरा लीगल वॉलिंटियर्स इत्यादि के सदस्यगण उपस्थित थे।
   कार्यशाला में सर्वप्रथम जिला अपर सत्र न्यायाधीश श्री संजीव श्रीवास्तव द्वारा कहा गया की  आज का दिवस हमें सोचने पर मजबूर करता है की हमे बाल श्रम जैसे पाप को जिले से यदि हटाना है तो सभी को एक साथ आना पड़ेगा, इसके लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण व पैरा लीगल वोलितियर्स हमेशा साथ है I  बाल कल्याण समिति अध्यक्ष सुश्री प्रेक्षा पाठक द्वारा अपने उद्बोधन में कहा की बाल श्रम न केवल बच्चों के शारीरिक एवं मानसिक रूप से कमजोर करता है बल्कि बच्चों के अधिकारों का भी हनन करते हैंI यूनिसेफ से स्टेट कंसल्टेंट् अमरजीत द्वारा बाल श्रम निषेध अधिनियम के बारे में विस्तार से चर्चा की गई साथ ही महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा यूनिसेफ के सहयोग से तैयार किये गए वीडियोज के माध्यम से प्रस्तुतिकरण किये गए जो रोचक एवं गहरा मेसेज देनें वाले थे इस पर बहुत से प्रतिभागियों द्वारा रूचि लेकर अपने अपने विचार भी रखेI
   चाइल्ड दमोह से प्रोजेक्ट डायरेक्टर गोविन्द यादव ने बाल श्रम को लेकर चाइल्ड लाइन एवं 1098 पूर्णतः गोपनीय नंबर है। उन्होंने कहा की जिले में कही भी किसी को भी यदि कोई बच्चा बाल श्रम या बाल भिक्षवृत्ती में लिप्त पाया जाता है, तो तुरंत ही इस टोल फ्री नंबर पर काल करके जानकारी यदि दी जाती है तो टीम द्वारा पुलिस महिला एवं बाल विकास विभाग एवं श्रम विभाग के सहयोग से आने जाने के समय को छोड़कर कार्यवाही की जाती है साथ ही उन्होंने अपील भी की कि इस नम्बर का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करके आप सभी आने वाले भविष्य को बचाने के लिए अपना अभूतपूर्व योगदान दे सकते है। श्रम विभाग से जुड़े सहायक संचालक जीडी गुप्ता द्वारा विभाग से जुडी बच्चों को बचाने,सजा,कानून व उनके पुनर्वास के लिए योजनाओं के बारे में अपना वक्तव्य दिया I
   जिला समन्वयक वीरेंद्र जैन व वर्ल्ड विजन संस्था के कार्यक्रम समन्वयक ज्योति रंजन द्वारा सभी विभागों यथा शिक्षा विभाग,श्रम विभाग , स्वास्थ विभाग महिला एवं बाल विकास विभाग जन अभियान परिषद् ,पुलिस विभाग , नेहरु युवा केंद्र एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पैरा लीगल वोलिन्तियर्स एवं इस क्षेत्र में कार्य कर रहे सभी संस्थाओं से अनुरोध किया गया है कि इस महा पाप को जिले से मिटाने, दमोह जिले को बाल श्रम एवं बाल भिक्षावृत्ति मुक्त करने के लिए साथ आना पड़ेगा, इससे आने वाले भविष्य को हम बेहतर बना पाएंगे।
   अन्त में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण अधिकारी गुंता डांगे द्वारा इस कार्यक्रम को सफल बनाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले वीरेंद्र जैन व यूनिसेफ प्रतिनिधि के साथ सभी पेनालिस्ट व प्रतिभागियों को धन्यवाद प्रेषित किया और नीचे दिए गए एक्सन पॉइंट जो की आज इस वर्सकशॉप के माध्भीयम से जुड़े सभी प्रतिभागिओं व पेनालिस्ट के माध्यम से आये पर कहा की हम जल्द से जल्द इसकी रूप रेखा तैयार कर इस मुद्दे पर मिलकर कार्य करेंगे।     
   कार्यशाला में दिये गए सुझावों को आगे की रणनीति के लिए एक्सन पॉइंट के रूप में स्वीकार किया गया, जिसमें बाल श्रम एवं बाल मजदूरी में लगे बच्चों को चिन्हित कर सबसे पहले परिवार के लोगों को समझाइश दी जाएगी। बच्चों या माता पिता को सरकारी स्कीम से जोड़ा जाने के प्रयास किये जायेंगे। जिन क्षेत्रों से ये बच्चे आते हैं उन क्षेत्रों मे श्रम, महिला बाल विकास, विभाग,चाइल्ड लाइन टीम व PLVs के माध्यम से जागरूकता कार्यक्रम किये जाएंगे। श्रम विभाग व महिला बाल विकास विभाग व चाइल्ड लाइन टीम द्वारा दुकानों पर बाल श्रम व बाल भिक्षा वर्त्ति कानून पर  स्टीकर लगाए जावेंगे। दुकानदारों से बाल श्रम निषेध हेतु बांड भरवाये जावेंगे। मुक्त कराए या बाल श्रम में लगे बच्चों का बाल कल्याण समिति के माध्यम से पुनर्वास, उनकी समिति के सामने अनिवार्य प्रस्तुति, समिति के द्वारा इन मामलों की स्वतः संज्ञान लेना। एक व्हाट्सऐप ग्रुप जो "Damoh Campaign against Child Labour" तैयार किया जाएगा।

 
(40 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2021अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer