समाचार
|| शाहगंज को स्मार्ट सिटी बनाने की कवायद शुरू || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सप्तपर्णी का पौधा लगाया || जनजाति युवाओं को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने वाली योजनाएँ बनाएँ : खाद्य मंत्री श्री सिंह || बैठक में  राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन और लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अधिकारी  उपस्थित थे। || स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए समर्पण और जिम्मेदारी से काम करे || मालवा-निमाड़ के 29.52 लाख उपभोक्ताओं को मिली 1 रूपए यूनिट की दर से बिजली || डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मनित किया गया || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पूर्व राष्ट्रपति स्व. डॉ. कलाम को किया नमन || कलेक्टर ने विभिन्न रोजगार मूलक योजनाओं के ऋण प्रकरणों की स्वीकृति में तेजी लाने के दिए निर्देश || प्रदेश में 7 अगस्त को होगा अन्न उत्सव – मुख्यमंत्री श्री चौहान
अन्य ख़बरें
मिर्ची की उन्नत खेती कर लाखों का लाभ कमा रहे लटूरी गेहलोत के किसान गिरिराज - खुशियों की दास्ताँ
-
आगर-मालवा | 14-जुलाई-2021
   जिले के नलखेड़ा तहसील के  ग्राम लटूरी गेहलोत के कृषक गिरिराज पिता अमर सिंह ने उद्यानिकी विभाग के मार्गदर्शन में डिप सिंचाई  विधि से मिर्ची की खेती कर व्यवसाय में लाखों का मुनाफा कमाया है।
    कृषक गिरिराज कहते हैं कि गाँव में उनके पास 18 बीघा जमीन है,जिस पर वे परंपरागत रूप से सोयाबीन और गेहूं की खेती करते रहे हैं परंतु पर्याप्त फसल का उत्पादन नही हो पाने एवं मंडी में सही दाम प्राप्त नही gks पाने से वे आर्थिक रूप से परेशान रहने लगे थे। किसान गिरिराज कहते हैं कि उनके किसी परिचित ने उन्हें मिर्ची की फसल लगाने की सलाह दी, उन्हें बताया कि इससे वे अच्छा लाभ प्राप्त कर सकते हैं। तभी उन्होंने माह जून 2020 में उद्यानिकी विभाग की सलाह पर 0.500 हेक्टेयर में सोनल किस्म की मिर्च लगाकर ड्रिप सिंचाई पद्दति अपनाई।
   किसान गिरिराज ने बताया कि ड्रिप सिंचाई पद्धति में खेतों में करीब 2-2 फीट की नालियां बनाई जाती है। नालियों के दोनों किनारों पर फसलों को रोपा जाता है। इससे फसलों की जड़ों में सीधे पानी पहुंचता है और सिंचाई की आवश्यकता भी नहीं होती है। साथ ही परंपरागत सिंचाई पद्धति की तुलना में 80 प्रतिशत पानी की बचत होती है।
       इस विधि से खेती करने पर योजनानुसार शासन 55 प्रतिशत की अनुदान राशि भी देती है। वे कहते हैं कि उन्होंने उन्नत तकनिकी से मिर्च की खेती करते हुए पुरे वर्ष में 60 क्विंटल हरी मिर्च 20 रुपए प्रति किलोग्राम एवं 10 क्विंटल सुखी लाल मिर्च 150 रुपए प्रति किलोग्राम की दर के सुसनेर एवं राजस्थान के भवानी मंडी में विक्रय की। कृषक गिरिराज कहते है कि 0.500 हेक्टेयर से मिर्ची के उत्पादन में दवाई कीटनाशक पौधों सहित कुल 1 लाख 20 हजार रुपए की लागत आई थी तथा उन्होंने 2 लाख 70 हजार रुपए की मिर्च का विक्रय किया । इससे उन्हें 1 लाख 40 हजार रुपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया। किसान गिरिराज कहते हैं कि इस वर्ष उन्होंने 3.5 बीघा में मिर्च( 5-5 बीघा में लहसुन और प्याज तथा शेष भूमि में गेहूं एवं अन्य फसल बोई है।  कृषक गिरिराज कहते हैं कि उद्यानिकी विभाग के मार्गदर्शन में मिर्च की खेती कर उन्‍हें परंपरागत खेती की तुलना में अच्छा खासा लाभ प्राप्त हुआ है।
(13 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2021अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer