समाचार
|| परिवहन विभाग का तीन दिवसीय ’सुराज दिवस’ आज से’- ’आमजन की समस्याओं के निराकरण की दिशा में एक और बड़ा कदम’ || नोडल अधिकारी वैक्सीनेशन महाअभियान को सफल बनावे -कलेक्टर श्री शिवम वर्मा || जिला जेल श्योपुर में वैक्सीनेशन शिविर आयोजित || कलेक्टर-एसपी ने आवदा, फतेहपुर, अजापुरा ग्रामों का किया भ्रमण || 27 सितम्बर को जिले के 142 टीकाकरण केंद्रों पर लगेगी कोविड- 19 की वैक्सीन “वैक्सीनेशन महाअभियान 4” || म.प्र. के नक्सल प्रभावित जिलों में 12 लाख श्रमिकों को रोजगार- मुख्यमंत्री श्री चौहान || संचालक सिएट श्री आहरवाल द्वारा छिन्दवाड़ा में कृषि आदान विक्रेताओं के 3 देसी डिप्लोमा कोर्स की कक्षाओं का निरीक्षण || वैक्सीनेशन महाअभियान में हर नागरिक निभाये सहभागिता - कलेक्टर ने की अपील || आकस्मिक निरीक्षण कर संयुक्त जांच दल द्वारा जिले की विभिन्न तहसीलों में अलग-अलग खनिजों के किये गये 19 वाहन जप्त || स्वामी विवेकानंद कैरियर मार्गदर्शन योजना के अंतर्गत संपन्न प्लेसमेंट रोजगार
अन्य ख़बरें
विधि विरुद्ध सामग्री के ऑनलाइन प्रसारण पर होगी कठोर कार्यवाही - डॉ. मिश्रा
आई.टी. एक्ट-2000 और भादवि-1860 में होगी कार्यवाही, सचिव गृह कार्यवाही के लिये नोडल अधिकारी नियुक्त
रायसेन | 15-जुलाई-2021
     गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया है कि विधि विरुद्ध सामग्री के मध्यवर्ती संस्थाओं पर ऑनलाइन प्रसारण की स्थिति में विधि सम्मत कार्यवाही होगी। उन्होंने बताया कि सचिव, गृह को कार्यवाही के लिये नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा ने बुधवार को आदेश जारी कर मध्यवर्ती ऑनलाइन सोशल प्लेटफार्म के उपयोगकर्ताओं के कम्प्यूटर संसाधनों एवं अन्य प्लेटफार्म पर उपलब्ध गैर-कानूनी सामग्री के प्रसारण पर सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम-2000 और भारतीय दण्ड संहिता-1860 के अंतर्गत मध्यवर्ती संस्थाओं के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही के निर्देश दिये हैं।
    डॉ. राजौरा ने बताया कि सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा-2 (1-बी) के अंतर्गत सोशल मीडिया प्लेटफार्म, वेबसाइट, मोबाइल एप की कॉमर्स वेबसाइट, विभिन्न ऑनलाइन एग्रेगेटर, इंटरनेट सेवा प्रदाता, वेब हॉस्टिंग इत्यादि मध्यवर्ती को शामिल किया गया है। इन संस्थाओं के कम्प्यूटर संस्थानों एवं अन्य प्लेटफार्मों पर गैर-कानूनी प्रसारण से समाज में बढ़ रहे अपराधों पर रोक लगाने के लिये ऐसी सामग्री को तत्परता से हटाने के निर्देश दिये गये हैं।
    डॉ. राजौरा ने बताया कि मध्यवर्ती द्वारा नियंत्रित कम्प्यूटर संसाधन से जुड़ी किसी भी गैर-कानूनी सामग्री की पहुँच को अविलम्ब हटाने या उसे निर्योग्य करने के लिये संबंधित मध्यवर्ती को नोटिस जारी करने का अधिकार सरकार या उसकी किसी एजेंसी को प्रदत्त है। उन्होंने बताया कि नये निर्देशों के अनुसार सोशल मीडिया पर बाल यौन शोषण संबंधी सामग्री (भादवि 292, 293), आतंकी गतिविधियों को प्रोत्साहन की जानकारी (यूएपीए धारा-12, 16-22), शस्त्र का अवैध विक्रय (शस्त्र अधिनियम धारा-7), हिंसा को प्रोत्साहन, अफवाहों का प्रसार (भादवि धारा-505), अस्पृश्यता से जुड़े अपराध (एट्रोसिटी एक्ट धारा-3), साइबर अपराध (भादवि धारा-364 डी, 354 सी, 507), आत्महत्या को प्रोत्साहन (भादवि 306, 309), भारत के नक्शे का गलत चित्रण, बाल विवाह, वित्तीय धोखाधड़ी, पशु क्रूरता, औषधियों का भ्रामक प्रचार, पटाखों की ऑनलाइन बिक्री इत्यादि शामिल हैं। निर्धारित फार्मेट में जानकारी नहीं होने पर सचिव गृह कानूनी नोटिस जारी कर सकेंगे। डॉ. राजौरा ने बताया कि विधि विरुद्ध सामग्री का ऑनलाइन प्रसारण (फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर या अन्य सोशल मीडिया या ऑनलाइन प्लेटफार्म पर) कण्डिका-3 अनुरूप होने की स्थिति में ऐसी सामग्री को अविलम्ब हटाने या उसे निर्योग्य करने के लिये धारा-79 (3) (बी) के अंतर्गत नोटिस जारी करने के लिये सचिव (गृह) पुलिस को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।
(74 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer