समाचार
|| परिवहन विभाग का तीन दिवसीय ’सुराज दिवस’ आज से’- ’आमजन की समस्याओं के निराकरण की दिशा में एक और बड़ा कदम’ || नोडल अधिकारी वैक्सीनेशन महाअभियान को सफल बनावे -कलेक्टर श्री शिवम वर्मा || जिला जेल श्योपुर में वैक्सीनेशन शिविर आयोजित || कलेक्टर-एसपी ने आवदा, फतेहपुर, अजापुरा ग्रामों का किया भ्रमण || 27 सितम्बर को जिले के 142 टीकाकरण केंद्रों पर लगेगी कोविड- 19 की वैक्सीन “वैक्सीनेशन महाअभियान 4” || म.प्र. के नक्सल प्रभावित जिलों में 12 लाख श्रमिकों को रोजगार- मुख्यमंत्री श्री चौहान || संचालक सिएट श्री आहरवाल द्वारा छिन्दवाड़ा में कृषि आदान विक्रेताओं के 3 देसी डिप्लोमा कोर्स की कक्षाओं का निरीक्षण || वैक्सीनेशन महाअभियान में हर नागरिक निभाये सहभागिता - कलेक्टर ने की अपील || आकस्मिक निरीक्षण कर संयुक्त जांच दल द्वारा जिले की विभिन्न तहसीलों में अलग-अलग खनिजों के किये गये 19 वाहन जप्त || स्वामी विवेकानंद कैरियर मार्गदर्शन योजना के अंतर्गत संपन्न प्लेसमेंट रोजगार
अन्य ख़बरें
महाविद्यालय की गांधी वाटिका में विधायक, कलेक्टर द्वारा किया गया वृक्षारोपण
-
उमरिया | 15-जुलाई-2021
 
    शासकीय आर.व्ही.पी.एस. स्नातकोत्तर महाविद्यालय उमरिया की गांधी वाटिका में बांधवगढ़ विधानसभा क्षेत्र के विधायक शिवनारायण सिंह, कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव, म.प्र. प्रदूषण निवारण मण्डल शहडोल के क्षेत्रीय अधिकारी संजीव मेहरा, कनिष्ठ वैज्ञानिक जी.के. बैगा, महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. सी.बी. सोदिया, शासकीय आदर्श महाविद्यालय के प्राचार्य रसायनवेता डॉ. अभय पाण्डेय, पर्यावरणविद् डॉ. एम.एन. स्वामी के अलावा पूर्व मनीष सिंह, धनुषधारी सिंह, शम्भू खट्टर, रासेयो कार्यक्रम अधिकारी डॉ. अरविंद शाह बरकड़े, प्रो. संजीव शर्मा द्वारा कदम्ब, गुलमोहर, कटहल, अशोक, अमलतास आदि पौधों का अंकुर कार्यक्रम के अंतर्गत वृहद वृक्षारोपण किया गया। कार्यक्रम के मंगलाचरण में म.प्र. प्रदूषण निवारण मण्डल शहडोल के क्षेत्रीय अधिकारी संजीव मेहरा ने विधायक शिवनारायण सिंह तथा महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. सोदिया एवं पर्यावरणविद् डॉ. एम.एन. स्वामी का म.प्र. प्रदूषण निवारण मण्डल शहडोल के कनिष्ठ वैज्ञानिक .के. बैगा द्वारा शॉल श्रीफल से सम्मान किया। डॉ. एम.एन. स्वामी, डॉ. अभय पाण्डेय, डॉ. अरविंद बरकड़े, डॉ. ऋषिराज पुरवार ने अतिथियों का एनएसएस बैच लगाकर स्वागत किया।
    उक्त अवसर पर विधायक श्री सिंह ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि पर्यावरण में बढ़ते प्रदूषण की वजह से वृक्षारोपण की आवश्यकता इन दिनों अधिक हो गई है। वृक्षारोपण से तात्पर्य वृक्षों के विकास के लिए पौधों को लगाना और हरियाली को फैलाना है। जिले के कलेक्टर श्री श्रीवास्तव ने अंकुर कार्यक्रम अंतर्गत वृक्षारोपण अवसर पर बताया कि अगर हम वास्तव में जीवित रहना चाहते हैं और अच्छे जीवनयापन करना चाहते हैं, तो अधिक से अधिक पेड़ लगाए जाने चाहिए। ऑक्सीजन लेने और कार्बन डाइऑक्साइड को छोड़ने के अलावा पेड़, पर्यावरण से अन्य हानिकारक गैसों को अवशोषित करते हैं जिससे वायु शुद्ध और ताजी बनती है। जितने हरे-भरे पेड़ होंगे उतना अधिक ऑक्सीजन का उत्पादन होगा और अधिक विषैली गैसों को यह अवशोषित करेंगे।  मेहरा ने अपने उद्बोधन में कहा कि एक प्रसिद्ध कहावत इस प्रकार है, कल्पना कीजिए कि अगर पेड़ वाईफाई सिग्नल देते तो हम कितने सारे पेड़ लगाते, शायद हम ग्रह को बचाते। बहुत दुख की बात है कि वे केवल ऑक्सीजन का सृजन करते हैं। कितना दुखद है कि हम प्रौद्योगिकी के इतने आदी हो गए हैं कि हम अपने पर्यावरण पर होने वाले हानिकारक प्रभावों की अनदेखी करते हैं। न केवल प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल प्रकृति को नष्ट कर रहा है बल्कि यह हमें उससे अलग भी कर रहा है।
   महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. सोदिया ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदूषण का स्तर इन दिनों बहुत अधिक बढ़ रहा है, इससे लड़ने का एकमात्र तरीका अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। उदाहरण के लिए पेड़ों से घिरे क्षेत्र, गांव और जंगल शुद्ध पर्यावरण को बढ़ावा देते हैं। रसायनवेता डॉ. पाण्डेय ने कहा कि वृक्षारोपण का महत्व इतना स्पष्ट है तब भी कुछ ही मुट्ठी भर लोग हैं जो वास्तव में इस गतिविधि में शामिल होने का प्रण लेते हैं। बाकी अपने जीवन में इतने तल्लीन हो चुके हैं कि वे यह नहीं समझते कि बिना पर्याप्त पेड़ों के हम लंबे समय तक जीवित नहीं रह पाएंगे। पर्यावरणविद् डॉ. स्वामी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि स्कूलों और कॉलेजों के लिए कुछ गैर-सरकारी संगठनों के साथ सहयोग करना और छात्रों से स्वच्छता अभियान के लिए और साथ ही वृक्षारोपण के लिए प्रत्येक महीने वृक्षारोपण करना एक अच्छा कार्य है। सैद्धांतिक ज्ञान की तुलना में व्यावहारिक अनुभव हमेशा अधिक प्रभावशाली होता है, इससे पर्यावरण क्षेत्र में क्षेत्र में उनकी रुचि उत्पन्न होगी और वे इस दिशा में प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित होंगे।  शासकीय आर.व्ही.पी.एस. स्नातकोत्तर महाविद्यालय उमरिया, शासकीय आदर्श महाविद्यालय उमरिया के समस्त स्टॉफ, म.प्र. प्रदूषण निवारण मण्डल शहडोल के स्टॉफ, प्रिंट मीडिया एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार बंधुओं की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।
 
(74 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer