समाचार
|| कलेक्टर ने अनुविभागीय अधिकारी एवं तहसील कार्यालय जयसिंहनगर का किया निरीक्षण || विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री सखलेचा आज इंदौर आएंगे || राजस्व का अमला अपने कर्तव्यो का करे बखूबी निर्वहन- कलेक्टर || गणेश मूर्ति विसर्जन के संबंध में दिशा-निर्देश || मध्यप्रदेश के पास है टाइगर स्टेट का गौरवशाली और जवाबदारी भरा ताज || स्वामी अखिलेश्वरानंद गिरी पशु संवर्धन बोर्ड के उपाध्यक्ष नियुक्त || 31 जुलाई तक नगरीय निकायों के कर जमा करने पर अप्रैल से जून तक का नहीं लगेगा अधिभार || 31 जुलाई को बिजली बिल भुगतान केन्द्र खुलेंगे || अदरक, प्याज, लहसुन आदि मसाला फसलों के उन्नत किस्मों के बीजों को खरीदे उद्यानिकी विभाग || राज्यमंत्री श्री परमार जारी करेंगे कक्षा 12वीं के परीक्षा परिणाम
अन्य ख़बरें
फसलो का निगरानी संरक्षण एवं उपार्जन केन्द्रों का निरीक्षण
-
हरदा | 16-जुलाई-2021
उप संचालक कृषि श्री एम पी एस चंद्रावत ने जानकारी देते हुए बताया कि फसलो की वनस्पतिक वृद्धि एवं कीट-व्याधि की निगरानी के उददेश्य से 16 जुलाई को एक सर्वेक्षण भ्रमण किया गया। भ्रमण के दौरान अबगांवखुर्द, कडौलाउबारी, मसनगांव, कमताडा, रोलगांव, कालकुण्ड, बंदीमुहाडिया, सिराली, रामपुरा, दीपगांवकला, सारसूद, चारुवा, पडवा, मांदला आदि ग्रामो की फसलो का निरीक्षण किया गया। कृषको से हुई चर्चा अनुसार बोनी की तिथि के परिपेक्ष्य में फसलो की वनस्पतिक वृद्धि संतोषजनक है, पत्तियों को खाने व कुतरने वाले तथा रसचूसक कीटो का प्रकोप कही कही देखा गया, जिसके नियंत्रण हेतु कृषको द्वारा थायमेथाक्जॉम, इमामेक्टिन बेन्जोएट तथा लेमडासायहेलोथीन आदि कीटनाशको का छिड़काव किया जा रहा था। कीट व्याधि का प्रकोप आर्थिक हानि स्तर से कम देखा गया।
   कृषको से चर्चा के दौरान अनुरोध किया गया कि लगातार अपनी फसल की निगरानी करते रहे तथा किसी भी प्रकार का कीट प्रकोप अथवा अन्य कोई समस्या परिलक्षित होने पर कृषि विभाग / कृषि विज्ञान केन्द्र के ओ.पी.डी. में समक्ष में अथवा व्हाटसएप द्वारा प्रभावित फसल का फोटो प्रेषित कर निदान प्राप्त कर सकते है। मूंग उपार्जन केन्द्रो यथा - सेवा सहकारी समिति नांदरा, भुवनखेडी, अबगांवखुर्द, मोरगढी, एवं बांरंगा का निरीक्षण किया गया। कृषको से चर्चा की गई, कृषको द्वारा अवगत कराया गया कि हमारे द्वारा सफाई एवं ग्रेडिंग कर मूंग फसल की उपज, उपार्जन केन्द्र पर लाई जा रही है तथा सर्वेयर द्वारा इसको पहली ही नजर में एफएक्यू मानको के आधार पर मानक किया जा रहा है। मूंग फसल के मानक इस प्रकार है
एफ.ए.क्यू. का अर्थ है – फसल पूरी तरह से सूखी हो, और नमी, मिट्टी, कुसी, सुकडे, टूटे, बंदरग एवं क्षतिग्रस्त दाने निर्धारित अधिकतम मात्रा से कम हो।
मूंग एफ.ए.क्यू. मापदण्ड विजातीय तत्व 2%, अन्य खाद्यान्न 3%, क्षतिग्रस्त दाने 3%, आंशिक क्षतिग्रस्त दाने 4%, सुकडे कुमलाहे एवं टूटे हुए दाने 3%, फसल में कीट व्याधि ग्रस्त 4% एवं नमी का अधिकतम प्रतिशत 12% अधिकतम स्वीकार्य है।
उन्होंने कृषक भाईयो से अनुरोध किया है कि उपरोक्तानुसार निर्धारित एफ.ए.क्यू मापदण्ड के आधार पर उपार्जन हेतु मूंग फसल की उपज उपार्जन केन्द्र पर लेकर आये। अद्यतन स्थिति तक पोर्टल से 4558 एस. एम. एस. जारी किये गये थे, जिसमें 2761 कृषको द्वारा 4592,80 मे. टन मूंग उपज उपार्जन केन्द्रो पर विक्रय की गई।
(12 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2021अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer