समाचार
|| कार्यक्रमों के सफल आयोजन पर कलेक्टर ने जताया अधिकारियों-कर्मचारियों का आभार || साहित्यकार व कवि समाज के मार्गदर्शक हैं – विधानसभा अध्यक्ष श्री गिरीश गौतम || जिले में 12 हजार 887 लोगों को लगाया गया कोविड- 19 का टीका || स्वच्छता कार्यक्रम के तहत कलेक्टर सहित जनसहयोग ने किया नरसिंह मंदिर व नरसिंह तालाब में श्रमदान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि के लिये की प्रार्थना || आरटीई के तहत नि:शुल्क प्रवेश के लिए संशोधित समय सारणी जारी || डॉ. मिश्रा चिकित्सा जगत के आदर्श और प्रेरक व्यक्तित्व थे : मुख्यमंत्री श्री चौहान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सप्तपर्णी का पौधा लगाया || मुख्यमंत्री श्री चौहान 21 सितंबर को 103 आंगनबाड़ी भवनों और 10 हजार पोषण वाटिका का लोकार्पण करेंगे || सरकार के खजाने पर पहला हक जनजातियों का : मुख्यमंत्री श्री चौहान
अन्य ख़बरें
थाली के ज़ायके के साथ सेहत की सुरक्षा की तैयारी में जुटीं सूमह की महिलायें - खुशियों की दास्तां
-
सागर | 19-जुलाई-2021
   आजीविका मिशन से जुडे़ महिला स्वयं सहायता समूहों ने अब अपनी आमदनी को बढ़ाने के साथ साथ लोगों को शुद्ध जा़यकेदार भोजन के स्वाद की तैयारी कर रखी है। बालाघाट के धान की प्रसिद्ध प्रजाति चिन्नौर को अब सागर में भी एंट्री मिल चुकी है। डॉ. इच्छित गढ़पाले के गृह जिले से उनकी मदद से चिन्नौर प्रजाति के धान के बीज बुलाये जाकर सागर जिले में रोपे जाने के लिए नर्सरी में डाले गये हैं। श्रीमती रानी पटैल ग्राम चितौरा, ग्राम खैजरा बुद्धू की रामसखी विश्वकर्मा जो जलधारा स्व. सहायता समूह से जुड़ी ने अपने घर में इन बीजों की नर्सरी बनाई है।
   रहली के विकासखण्ड के ग्राम सागौनी बुंदेला में संतोषरानी सीता समूह, बतीबाईराधा समूह, कृष्णारानी ओर सुषमा काछी ने भी इन दानों की नर्सरी तैयार की है। केसली देवरी जैसीनगर विकासखण्डों में बासमती के साथ-साथ विलुप्त प्रजाति के धान जैसे- काला जीरा, जीराफुल, विष्णुभोग, लोहंदी के प्रागुणन का कार्य शुरू किया गया है। समूह की महिलाओं ने गाडरवारा से बुलाये गये अरहर के दानों को भी खेत के चारों और एसपीआई विधि से रोपा है। अनूप तिवारी, जिला प्रबंधक कृषि ने बताया कि सिस्टम ऑफ पिजन पी इंटेंसिफिकेसन अरहर के बोनी की वैज्ञानिक तकनीकि है। इस विधि में अरहर के पौधे अथवा अरहर के दानों को 1 मीटर की दूरी पर लगाया जाता है।
   इस विधि में परम्परागत विधि की तुलना में मात्र 215 ग्राम बीज प्रति एकड़ लगता है। प्रति पौधा 600 से 900 ग्राम तक पैदावार देता है। हरीश दुबे, जिला परियोजना प्रबंधक ने बतया कि समूह की महिलाओं ने सुगंधित धान से चावल के पैकिट तैयार करना। मूंग, उड़द, मसूर, चना अरहर की दालें बनाकर बाजार में उतारना। हल्दी धनिया, मिर्च मसालों के पैकिट बनाना लेहसुन, अदरक पेस्ट का पैक बनाना और टमाटर का पाउडर तैयार करना शुरू कर दिया है। इससे लोगों को शुद्धता के साथ-साथ उच्चगुणवत्ता की खादय सामग्री प्राप्त हो सकेगी।
   सागर विकासखण्ड में एसआरएम संस्था के प्रदीप जैन के साथ विकासखण्ड की टीम श्रीमती रितु सेन, श्रीमती हेमलता राय, श्रीमती नीलिमा जैन, श्रीमती रोशनी दुबे, रहली विकासखण्ड में न्यूसिड संस्था के अभिषेक रघुवंशी के साथ ऋषिकांत खत्री, मुकेश नामदेव ने अपने नोडल ग्रामों में इन विधियों का एक्सटेंशन किया है।
   कलेक्टर, सागर श्री दीपक सिंह का कहना है कि महिला समूहों के माध्यम से विभिन्न खाद्य उत्पादों को प्रसंस्करण करते हुए आजीविका मार्ट पोर्टल के माध्यम से लोगों तक पहुंचाये जाने की पहल है। इससे ग्राहको को शुद्धता तथा उत्पादक महिलाओं को समुचित दाम मिल सकेंगे। डॉ. इच्छित गढ़पाले, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला  पंचायत सागर का कहना है कि  जिले में कृषि उत्पादों के प्रसंस्करण को प्रोत्साहित करते हुए आम ग्राहकों तक गुणवत्ता युक्त माल पहुंचाना और महिला समूहों का क्षमता वर्धन करते हुए बाजार की स्पर्धा का सामना करने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं।
(63 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer