समाचार
|| देवास सीएमएचओ डॉ.एम.पी शर्मा ने किरण पैथोलॉजी सेंटर का किया निरीक्षण,अनिमियतता को देखते बंद करने के दिये निर्देश || योग विषय बना विद्यार्थियों की पहली पसंद || कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान को जनता का अभियान बनाना है - मुख्यमंत्री श्री चौहान || आबकारी देवास की अवैध मदिरा के विरुद्ध लगातार कार्यवाही जारी || कलेक्टर श्री शुक्‍ला ने वैक्सीनेशन महा अभियान के संबंध में अधिकारियों की ली बैठक || अग्रणी बैंक योजना जिलास्‍तरीय परामर्शदात्री एवं समीक्षा समिति की बैठक कलेक्‍टर श्री शुक्‍ला की अध्‍यक्षता में आयोजित || देवास जिले में स्वास्थ्य कार्यकर्ता और वैक्सीनेशन टीम घर-घर जाकर कर लगा रहीं है वैक्‍सीन || जिले में 3 हजार 451 लोगों को लगाया गया कोविड- 19 का टीका || 465 किलोग्राम महुआ लाहन व 18 लीटर हाथ भट्टी मदिरा बरामद || डीएटीसीसी की बैठक 27 सितम्बर को
अन्य ख़बरें
एक जिला एक उत्पाद के अंतर्गत अमरूद की खेती बन रही है लाभदायक "सफलता की कहानी"
-
श्योपुर | 20-जुलाई-2021
    राज्य सरकार की पहल पर श्योपुर जिले में एक जिला एक उत्पाद के अंतर्गत किसानों की आय दोगुनी करने के लिए थाई अमरूद के बगीचे लगाये जाकर खेती को लाभकारी बनाने की दिशा में कदम उठाये जा रहे है। इसके अंतर्गत वर्ष 2021-22 में थाई अमरूद के उत्पादन हेतु 10 हजार कृषको के यहां अमरूद के बगीचे लगाने के निरंतर प्रयास किये जा रहे है। जिससे थाई अमरूद खेती किसानों के लिए लाभदायक बन रही है।
   कलेक्टर श्री राकेश कुमार श्रीवास्तव द्वारा एक जिला एक उत्पाद के अंतर्गत ग्रामीण आजीविका मिशन एवं जिला पंचायत के सहयोग से 10 हजार एकड में थाई अमरूद लगाने के लिए किसानों को प्रेरित किया गया। जिसके अंतर्गत थाई अमरूद के उत्पादन हेतु 10 हजार कृषको तक अमरूद की खेती का फायदा लेने में सहायक बन रहे है। एक जिला उत्पाद अतर्गत अमरूद फसल का चयन करते समय किसान अमरूद की फसल के साथ-साथ इंटरक्रोपिंग के रूप में सोयाबीन, सब्जियां, हल्दी, अदरक, मटर, चना की फसल से रबी और खरीफ में 50 हजार रूपये की आय प्राप्त कर अपनी खेती को फायदे का धंधा बनाने में सहयोगी बन सकते है।
   सीईओ जिला पंचायत श्री राजेश शुक्ल द्वारा थाई अमरूद उत्पादन के अंतर्गत किसानों को अमरूद का बगीचा लगाने के लिए विभागीय अधिकारियों के माध्यम से प्रेरित करने की पहल की गई। जिसमें एक एकड में 500-600 पौधे लगवाये जाकर पौधे से पौधे की दूरी 6 फीट एवं लाईन से लाइन की दूरी 12 फीट की जानकारी मैदानी अमले के माध्यम से उपलब्ध कराई गई। थाई अमरूद लगाने के लिए किसान अन्य फसलो की तुलना में अमरूद की फसल से प्रति एकड अधिक आमदनी प्राप्त कर तरक्की का मार्ग प्रशस्त कर सकते है।
   डीपीएम आजीविका मिशन श्री सोहनकृष्ण मुदगल ने बताया कि थाई अमरूद का पौधा 12 माह पश्चात ही अमरूद की फसल देने में सहायक बनता है। प्रथम वर्ष में एक पौधे से 10 किलो फल उत्पादन का लाभ लिया जाकर 60 हजार रूपये की वार्षिक आय प्राप्त करने में किसान सहायक बन रहे है। दूसरे वर्ष में 25 किलो फल की पैदावार से 01 लाख 50 हजार रूपये की वार्षिक आय किसान अर्जित कर सकते है। इसी प्रकार तीसरे वर्ष में एक पौधे से 30-35 किलो फल उत्पादन किया जाकर 01 लाख 80 हजार रूपये की वार्षिक अदमनी प्राप्त की जा सकती है।
 
(67 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer