समाचार
|| झाबुआ जिले के मेघनगर और पेटलावाद में जल प्रदाय योजना का कार्य अंतिम चरण में || 05 अगस्त को जिले के 100 केन्द्रों पर लगाया जायेगा कोरोना का टीका || स्मार्ट सिटी का स्मार्ट सिड इन्क्युबेशन सेंटर हुआ प्रारंभ (सफलता की कहानी) || मुख्यमंत्री ने प्रारंभ किया आयुष्मान आपके द्वार अभियान - 2 || अति वृष्टि और बाढ़ से 1171 गाँव प्रभावित, 1600 लोगों को बचाया : मुख्यमंत्री श्री चौहान || हर नागरिक का उपचार राज्य सरकार की जिम्मेदारी || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह को दी प्रदेश की अति वर्षा की जानकारी || सेफ टूरिज्म के लिए मध्यप्रदेश पूरी तरह तैयार : श्री शुक्ला || नागरिकों की समस्याओं का समय सीमा में हो ‍निराकरण || मालवा-निमाड़-जुलाई में 9 फीसदी ज्यादा बिजली का वितरण
अन्य ख़बरें
कुपोषित बच्‍चों को एनआरसी में दर्ज कराएं - कलेक्‍टर
महिला बाल विकास विभाग की समीक्षा बैठक में कलेक्‍टर ने दिए निर्देश
गुना | 22-जुलाई-2021
        कलेक्‍टर श्री फ्रेंक नोबल ए. द्वारा महिला बाल विकास विभाग की समीक्षा बैठक ली। उन्‍होंने 03 जून को की गयी समीक्षा बैठक के उपरांत दिये गये निर्देशों पर अमल एवं योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। कलेक्‍टर ने निर्देश दिए कि एनआरसी में कुपोषित बच्‍चों को दर्ज कराएं, सभी 70 बेड हरदम भरे रहें, यह सुनिश्चित किया जाये। समीक्षा बैठक में महिला एवं बाल विकास अधिकारी श्री डी.एस.जादौन, सभी सीडीपीओ उपस्थित रहे।
        कलेक्‍टर ने सर्वप्रथम आंगनबाडी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं के स्‍वीकृत पद भरे जाने के संबंध में जानकारी ली। इस संबंध में बताया गया कि 1226 कार्यकर्ता, 1226 सहायिका एवं 434 मिनी कार्यकर्ता के पद हैं, जिसके विरूद्ध 1206 कार्यकर्ता, 1199 सहायिका तथा 430 मिनी कार्यकर्ता के पद भरे हैं। 20 आंगनबाडी कार्यकर्ता, 27 सहायिक एवं 4 मिनी कार्यकर्ता के पद रिक्‍त हैं। रिक्‍त पदों पर नियुक्ति की कार्यवाही जारी है। कलेक्‍टर ने निर्देश दिए कि आंगनबाडी पदों पर भर्ती की प्रक्रिया पूर्णं निष्‍पक्षता के साथ हो। अनंतिम सूची जारी कर दावे-आपत्ति लिये जाएं। अंतिम निराकरण जिला पंचायत सीईओ से कराया जाये।
        पोषण आहार वितरण के संबंध में कलेक्‍टर ने निर्देश दिए कि 15 दिवस के अंदर बच्‍चों, धात्री तथा गर्भवती महिलाओं को पोषण आहार मिले। बैठक में पोषण स्‍तर की चर्चा के दौरान बताया गया कि जिले में 294 अति गंभीर कुपोषित, 5337 मध्‍यम गंभीर कुपोषित बच्‍चे हैं। जिले में 0 से 5 वर्ष के कुल 1 लाख 25 हजार 370 बच्‍चे हैं। एनआरसी में भर्ती बच्‍चों की संख्‍या 1680 है। जून माह में 35 और जुलाई माह में 59 बच्‍चों को भर्ती कराया गया है। कलेक्‍टर ने निर्देश दिए कि एनआरसी में बेड की उपलब्‍धता के आधार पर बच्‍चों को भर्ती कराएं और साथ में रहने वाली बच्‍चे की मां को 2610 रूपये की राशि व नि:शुल्‍क भोजन प्रदान कराएं।
        कलेक्‍टर ने सीएम हेल्‍प लाईन की लंबित शिकायतों की स्थिति, वन स्‍टॉप सेंटर के आवेदनों का निराकरण, बाल संप्रेषण गृह गुना की समीक्षा, विशेषज्ञ दत्‍तक गृहण एजेंसी, मां स्‍वरूपा आश्रम गुना व भारती रेडक्रास गुना द्वारा संचालित केंद्रों की समीक्षा की गयी।
        मुख्‍यमंत्री कोविड-19 बाल कल्‍याण योजना की समीक्षा के दौरान बताया गया कि मध्‍यप्रदेश शासन द्वारा कोविड-19 से माता-पिता, अभिभाव की मृत्‍यु के कारण अनाथ हुए बच्‍चों की शिक्षा, आर्थिक सहायता एवं खाद्य सुरक्षा के लिए संचालित मुख्‍यमंत्री कोविड-19 बाल कल्‍याण योजना के तहत 10 आवेदन प्राप्‍त हुए थे। जिसमें 9 आवेदन स्‍वीकृत और एक निरस्‍त हुआ है। सभी 9 बच्‍चों को प्रतिमाह शासन द्वारा निर्धारित 5-5 हजार रूपये राशि दी जा रही है। स्‍पॉसरशिप योजना के तहत लाभांवित 44 बच्‍चों के अभिभावकों को 2-2 हजार रूपये की सहायता दी जा रही है।
 
(13 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2021सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer