समाचार
|| जनसुनवाई एवं घरों में खिलाई गई फाइलेरिया उन्मूलन की गोलियां || मेला प्रांगण से बिक्री करने वाले ठैले हटाये || काटे गए विद्युत कनेक्शनों का आकस्मिक निरीक्षण || अवैध खनिज परिवहन || सीएम श्री चौहान ने जिले के 31.94 करोड़ के भवनों का किया वर्चुअली भूमिपूजन || 172 लाख रूपए लागत से निर्मित शाउमावि सलसलाई का लोकार्पण || दो घंटे में बना आयुष्मान कार्ड || कलेक्टर ने लगाया खनिज के अवैध परिवहन के छह मामलों में 2 लाख का अर्थदंड || जिला दंडाधिकारी ने किया छह आदतन अपराधियों का जिला बदर || मुहासा होशंगाबाद में स्थापित होगी काटन स्पिनिंग, होजरी, फेब्रिक निटिंग इकाई
अन्य ख़बरें
कपड़ों की बिक्री के लिए प्रशासन ने उपलब्ध कराया ऑनलाइन बाजार, आत्मनिर्भर होती महिलाएं "कहानी सच्ची है"
आदिवासी महिलाएं ब्लॉक प्रिंट से तैयार कर रही चंदेरी और महेश्वरी साड़ियां, ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर से भी मिले सोशल मीडिया पर ऑर्डर
धार | 24-जुलाई-2021
    धार की आदिवासी महिलाओं द्वारा बनाई जा रही साड़ियों को अंतरराष्ट्रीय बाजार से ऑर्डर मिलने लगे। मांडू रोड स्थित केंद्र पर धरा उत्पादन समूह की महिलाओं द्वारा कॉटन, चंदेरी और महेश्वरी साड़ियों को ब्लॉक प्रिंट से सजाकर तैयार किया जा रहा है। जिला प्रशासन ने महिलाओं को प्रशिक्षण देकर रोजगार से जोड़ा बनाए और कपड़ों की बिक्री के लिए ऑनलाइन बाजार उपलब्ध कराया और आज समूह की साड़ियां इंस्टाग्राम के माध्यम से हैदराबाद, बैंगलुरू, विशाखापट्टनम, ऊटी, भोपाल, जबलपुर, चंडीगढ़, सिंगापुर के साथ ही आस्ट्रेलिया आदि स्थानों पर ऑन डिमांड बेची जा रही हैं।
ट्रेनिंग लेकर सीखी प्रिन्टिंग, अब हर माह कमा रहे सात से आठ हजार रुपए
    जिला मुख्यालय पर स्थित धरा प्रिंट सेंटर पर काम कर रही दर्जनभर आदिवासी युवतियों को इसी वर्ष 25 जनवरी को 1 माह की ट्रेनिंग दो शिल्पकारो के द्वारा मांडू में दी, युवतियो को उससे पहले इस विधा के बारे में कुछ मालूम नहीं था, परंतु कुछ कर गुजरने की चाहत में इन्हें बहुत जल्दी पारंगत बना दिया। सेंटर के गुरुदत्त कांटे के मार्गदर्शन में युवतियों ने ट्रेनिंग ली और फिर पहुंच गई धार के धरा सेंटर जहां पर युवतियों ने ब्लॉक प्रिंट पर अपने हाथों से चंदेरी और महेश्वरी साड़ियां तैयार की जिसके चर्चा ना केवल धार जिले में बल्कि देश के साथ-साथ विदेश में भी हो रही है। अब इन युवतियों के द्वारा तैयार की गई साड़ियों के ऑनलाइन ऑर्डर ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर से भी मिले जिन को तैयार कर अब ऑर्डर डिस्पैच करने की तैयारी की जा रही है। खास बात यह है कि युवतियां आदिवासी बाहुल्य इलाके की और सभी की आर्थिक स्थिति बहुत कमजोर थी परंतु अब यहां पर काम करने वाली हर लड़की सात से आठ हजार प्रतिमाह कमा रही है।
अनलॉक होते ही महिलाएं फिर जुटी साड़ियां बनाने में, हर माह कमा रही सात से आठ हजार रुपए
   समूह से 12 महिलाएं आत्मनिर्भर होकर मात्र 3 माह की अल्पावधि में ही 7 से 8 हजार रु. प्रतिमाह कमा रही हैं। हालही में समूह को ऑस्ट्रेलिया की डिजाइनर से साड़ियों का ऑर्डर मिला है। सिंगापुर के एक अन्य ऑनलाइन प्लेटफार्म से भी आर्डर के संबंध में बातचीत जारी है। यह केंद्र मार्च में शुरू किया था परंतु लॉकडाउन की वजह से अप्रैल में बंद करना पड़ा। अब जून से फिर शुरू किया है।
आत्मनिर्भर बन चुकी सविता और किरण जैसी कई लड़कियां सेंटर से रोजगार पाकर चला रही है अपना घर
      सविता और किरण दो बहनों की कहानी सुनकर आप हैरान रह जाएंगे क्योंकि सविता और किरण के तीन भाई बहन और परिवार में कुल पांच भाई बहन है। मां पर आश्रित थे, मां की सर्पदंश से मौत हो चुकी। जबकि बड़ा भाई गांव में ही किराने की दुकान चलाता है जिसकी आमदनी से घर चलाना बहुत मुश्किल था परंतु सविता और किरण ने मांडू सेंटर पर ट्रेनिंग लेकर धरा सेंटर पहुंचकर अपनी काबिलियत का लोहा मनवाया। आज सविता और किरण दोनों बहने मिलाकर 15 हजार रुपए महीना कमा रही और अपने घर का खर्च आसानी से चला रही है। एक बहन फर्स्ट ईयर तक पढ़ी है, तो दूसरी बहन महज 10 वी ही पढ़ पाई। परिवार की स्थिति ठीक नहीं थी और मां का साया भी छिन चुका था, लिहाजा मजदूरी करने के लिए मजबूर दोनों बहने सेंटर पर पहुंच कर एक अच्छी आमदनी के साथ एक अच्छा जीवन यापन करने की और भी आगे बढ़ रही है एक और जहां आदिवासी समाज में विभिन्न प्रकार की कुप्रथा है तो वहीं अब सविता और किरण समाज के लिए नई प्रेरणा बन रही।
3 गांव की महिलाओं को दी जा रही ट्रेनिंग
   सुलोबेड़ि, पन्नाला, मेहंदी खेड़ी और मांडू की दीदियों द्वारा अपने हाथ से साड़ी, कुर्ते, दुपट्टा, पर्दे व चादर तैयार की जा रही है। स्वयं सहायता समूह के माध्यम से दाबू प्रिंट की कलाकृतियों का प्रशिक्षण देने के लिए 3 गांव की महिलाओं को ट्रेनिंग दी जा रही। कुछ दिन पहले मांडू के महलों में दिल्ली की एक फोटोग्राफर ने इन हस्तकला से बनने वाली साड़ी, कुर्ते, दुपट्टे को पहना कर फोटोशूट किया था। इसमें से सीता दीदी की दाबू प्रिंट की साड़ी पहनी फोटो देश की सबसे बड़ी वॉग इटली डिजिटल एडिशन मैगजीन में फ्रंट पेज पर छपी है। सुलीबेड़ी की सीता दीदी ने बताया मुझे मालूम पड़ा कि मेरा फोटो मैगजीन में छपा है तो काफी खुशी हुई। कलेक्टर की पहल पर हम दाबू प्रिंट के माध्यम से कई कलाकृतियां बनाना सीख चुके हैं। अब इस कलाकृति के माध्यम से मांडू का नाम आगे बढ़ाएंगे।
स्वयं खुद करती है प्रोडक्ट्स की ब्रांडिंग
     आमतौर पर कपड़ों के प्रोडक्ट बेचने के लिए बड़ी-बड़ी कंपनियां स्टार को हायर करके उनसे ब्रांडिंग करवाती है ताकि अधिक से अधिक सेल बढ़ सके परंतु धरा प्रिंट सेंटर पर तैयार की गई साड़ियों की ब्रांडिंग यहां पर मौजूद लड़कियां खुद करती है। जिसका फायदा यह होता है कि इन्हें स्टार को मोटी रकम नहीं चुकाना पड़ती और प्रोडक्ट से होने वाली आमदनी इन्हें खुद मिलती है यहां पर मौजूद दर्जन भर युवतीया खुद की तैयार की हुई साड़ियों की ब्रांडिंग खुद कर रही है और सोशल मीडिया पर इंस्टाग्राम पर इन्होंने जहां पर बड़ी संख्या में लोग यहीं से इन्हें ऑर्डर भी मिलते हैं।
महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए दी रोजगारउन्मुखी ट्रेनिंग
    सेंटर प्रभारी प्रवीण शर्मा ने बताया मांडू में आदिवासी महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए रोजगारउन्मुखी ट्रेनिंग दी जिसके बाद प्रोडक्शन शुरू किया आज धरा सेंटर पर 12 आदिवासी युवतियां रोजगार प्राप्त कर रही है यंहा साड़ियों पर नेचुरल कलर से ब्लॉक प्रिंटिंग की जाती है यह विधा देश के कई हिस्सों में प्रचलित भी है हमे अब तक देशभर के कई बड़ो शहरों से साड़ियों के आर्डर मिले ख़ुशी की बात है आस्ट्रेलिया ओर सिंगापुर से भी आर्डर मिले है देश के कई बड़े ब्रांड भी हमारे संपर्क में है जिनका नाम पालिसी के अनुसार बता नही सकते जिनके भी ऑर्डर मिले है।

 
(67 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer