समाचार
|| सामाजिक दायित्व निभाने विश्वविद्यालय और महाविद्यालय गाँव गोद लें -उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव || स्कूलों में शाला प्रबंधन समितियों का गठन 22 सितम्बर को || मुख्यमंत्री श्री चौहान 1000 करोड़ की लागत के 73 कार्यों का करेंगे लोकार्पण || पी.जी.कॉलेज में कॅरियर मेला 24 सितम्बर को || 22 सितम्बर को विभिन्न क्षेत्रों की विद्युत सप्लाई बंद रहेगी || 21 सितम्बर तक 634 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज || मध्यप्रदेश की धरती पर हर गरीब परिवार के पास होगा अपना आवास - मुख्यमंत्री श्री चौहान || सभी कार्यालय प्रमुख सकारात्मक समाचार एवं उपलब्ध्यिां जनसम्पर्क कार्यालय को उपलब्ध करायें || मैदानी अमला आम जनता की समस्याओं को पूरी गंभीरता एवं संवेदनशीलता के साथ निराकरण करें || जन सुनवाई हुई शुरू कलेक्टर ने 125 से अधिक लोगों की सुनीं समस्यायें
अन्य ख़बरें
सर्पदंश से बचाव, इलाज एवं भ्रांतियों के संबंध में एडवाईजरी
-
मण्डला | 25-जुलाई-2021
            मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. श्रीनाथ सिंह ने एडवाईजरी जारी की है कि बरसात के दिनों में सर्पदंश के केस अत्यधिक सामने आते हैं। सांप के काटने में व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तथा सांप के काटने को अनदेखा ना करें, सर्प के काटने पर किसी नजदीकि अस्पताल तुरन्त लेकर जायें, झाड़-फूंक में ना रहें, सांप के दांत के नीचे विष की थैली होती है, जो सीधे खून के माध्यम से शरीर में फैल जाता है। सामान्तयः जहरीले सांपों के काटने पर दांतों के दो निशान अलग ही दिखाई देते हैं। गैर विषैले सांप के काटने पर दो से ज्यादा निशान हो सकते हैं, परन्तु ये निशान नहीं दिखते हैं, ये सोचना गलत होगा कि सांप ने नहीं काटा है, ज्यादातर सांप गैर विषैले भी होते हैं। सांप के काटने पर करीब-करीब 95 प्रतिशत मामलों में पहला लक्षण नींद का आना है। इसके साथ ही निगलने या सांस लेने में तकलीफ होती है, आमतौर पर सांप के काटने पर आधे घंटे बाद लक्षण दिखाई देने लगते हैं।
सर्प के काटने पर यह ना करें - रस्सी से ना बांधें, ब्लेड से ना काटें, पारम्परिक तारीकों का इस्तेमाल ना करें, मुंह से खून ना चूसें। ओछा, गुनिया के पास ना जायें। सांप काटे व्यक्ति को नदी में प्रवाहित नहीं करें। अन्धविश्वास में ना पड़ें।
यथा संभव कार्य करें - सांप के काटे व्यक्ति को दिलासा दिलायें। घटना के तथ्यों का पता लगायें। गीले कपडे़ से डंक की जगह की चमड़ी को साफ करें, जिससे वहां पर लगा विष निकल जाये। सांप काटे व्यक्ति को करवट सुलायें, क्योंकि कई बार उल्टी भी होने लगती है, इसलिये करवट सुलाने से उल्टी श्वसनतंत्र में ना जाये। जहां पर सांप ने काटा है उस स्थान पर हल्के कपडे़ से बांध दें, ताकि हिलना-डुलना बंद हो जाये।
उपचार - सांप काटे व्यक्ति को तत्काल नजदीकि अस्पताल ले जाने की व्यवस्था बनायें। सांप के जहर को मारने के लिये अस्पताल में निःशुल्क एंटी स्नेक इंजेक्शन लगाया जाता है एवं डॉक्टर द्वारा दी गई सलाह के अनुसार उचित उपचार करायें।
बचाव - अंधेरे में ना जायें। बिलों में हाथ ना डालें। झाडि़यों में ना जायें। पानी भरे गड्ढे में ना जायें। पैरों में चप्पल और जूते पहनकर चलें।
 
(58 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer