समाचार
|| कोरोना कण्ट्रोल रूम पहुंचकर कलेक्टर ने लिया डाटा एण्ट्री का जायजा || कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान के चौथे चरण में भी हुआ रिकार्ड वैक्सीनेशन || मुख्यमंत्री श्री चौहान को अनुग्रह सहायता योजना के हितग्राही दे रहे धन्यवाद "खुशियो की दास्ता" || जबलपुर स्मार्ट सिटी द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव का शुभारंभ || प्रथम डोज का 100 प्रतिशत टीकाकरण कार्य संपन्न || कोई न छूटे ... अभियान के तहत कलेक्ट्रेट कन्ट्रोल रूम में 193 अधिकारियों-कर्मचारियों ने लगवाया कोरोना का टीका || जनसुनवाई कार्यक्रम आज || डुमना एयरपोर्ट पर किया गया एंटी हाइजैकिंग का अभ्यास || एएनएम, आगनबाडी कार्यकर्ता को प्रशस्ती पत्र और चैक प्रदान || कोरोना कण्ट्रोल रूम पहुंचकर कलेक्टर ने लिया डाटा एण्ट्री का जायजा
अन्य ख़बरें
किसान प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजनांतर्गत बलराम तालाब का निर्माण कराएं
-
उमरिया | 26-जुलाई-2021
    उपसंचालक किसान कल्याण तथा कृषि विकास अधिकारी खेलावन डेहरिया ने किसानो से किसान कृषि के समग्र विकास के लिए सतही एवं भूमिगतजल की उपलब्धता को संमृद्ध करने की आवश्यकता की पूर्ति हेतु बलराम तालाब योजना का लाभ लेने की अपील की है। उन्होने बताया कि बलराम तालाब निर्माण हेतु कृषक द्वारा ई-कृषि यंत्र अनुदान पोर्टल के माध्यम से ऑन लाइन आवेदन किया जायेगा। बलराम तालाब निर्माण के लिए वे कृषक ही पात्र होंगे जिनके पास वित्तीय वर्ष 2017-18 एवं उसके पश्चात प्रदेश में विभाग द्वारा संचालित किसी भी योजना के माध्यम से ड्रिप या सिं्रप्रकलर सेट की स्थापना की गई हो और वर्तमान में वह चालू स्थिति में हो, कृषक द्वारा प्रस्तावित बलराम तालाब की भूमि स्वयं कृषक के स्वामित्व की भूमि अथवा पट्टे से प्राप्त भूमि होनी चाहिए। पट्टे की भूमि जिस पर कृषक काबिज नहीं अथवा अतिक्रमित भूमि पर निर्माण कार्य स्वीकृत नहीं किये जायेंगे। प्रस्तावित स्थल पर किसी भी विभाग की किसी भी योजना के अंतर्गत पूर्व में कोई जलसंग्रहण संरचना निर्मित नहीं होनी चाहिए।
   योजनांतर्गत लघु सीमांत, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जन जाति हेतु मूल्यांकन अनुसार वास्तविक व्यय का 75 प्रतिशत किंतु अधिकत्तम रूपए 100000, लघु एवं सीमान्त कृषको के लिए वास्तविक व्यय का 50 प्रतिशत अधिकत्तम रूपए 80000 तथा शेष वर्गों के लिए। मूल्यांकन अनुसार वास्तविक व्यय का 40 प्रतिशत किंतु अधिकतम रूपए 80000 रूपए अनुदान देय होगा।
   परियोजना के अंतर्गत निर्मित जलसंग्रहण संरचनाओं से कृषक वर्षा के लंबे अंतराल की स्थिति में खरीफ मौसम के दौरान फसलों को जीवन रक्षक सिंचाई सुविधा उपलब्ध करा सकेंगे। वर्षा के उपरांत रबी मौसम में बोनी के पूर्व पलेवा हेतु लगभग तीन हेक्टेयर क्षेत्र लिए पानी उपलब्ध होगा। जिससे कृषक रबी मौसम में भी सुनिश्चित फसल ले सकें। इस प्रकार कृषकों को 15 प्रतिशत से 20 प्रतिशत उत्पादन वृद्धि का लाभ प्राप्त होगा, जिससे कृषक इस कार्य हेतु लिये गये ऋण की अदायगी भी आसानी से कर सकेंगे।

 
(64 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer