समाचार
|| प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र रैगांव और कोटर के उन्नयन के लिये प्रशासकीय स्वीकृति जारी || पैन इंडिया अवेयरनेस एंड आउटरीच प्रोग्राम का आयोजन 2 अक्टूबर से 14 नवंबर तक || पंचायत राज्यमंत्री श्री पटेल ने विभिन्न टीकाकरण केन्द्रों का निरीक्षण किया || आकाशीय बिजली गिरने से मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत || कोरोना कण्ट्रोल रूम पहुंचकर कलेक्टर ने लिया डाटा एण्ट्री का जायजा || कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान के चौथे चरण में भी हुआ रिकार्ड वैक्सीनेशन || मुख्यमंत्री श्री चौहान को अनुग्रह सहायता योजना के हितग्राही दे रहे धन्यवाद "खुशियो की दास्ता" || जबलपुर स्मार्ट सिटी द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव का शुभारंभ || प्रथम डोज का 100 प्रतिशत टीकाकरण कार्य संपन्न || कोई न छूटे ... अभियान के तहत कलेक्ट्रेट कन्ट्रोल रूम में 193 अधिकारियों-कर्मचारियों ने लगवाया कोरोना का टीका
अन्य ख़बरें
सतपुड़ा टाइगर रिजर्व को सर्वश्रेष्ठ प्रबंधन के लिये मिला अर्थ नेटवेस्ट ग्रुप अर्थ हीरोज पुरस्कार
-
धार | 28-जुलाई-2021
   प्रकृति संरक्षण के क्षेत्र में मध्यप्रदेश के खाते में एक और उपलब्धि जुड़ गई है। प्रदेश के सतपुड़ा टाइगर रिजर्व को सर्वश्रेष्ठ प्रबंधन के लिये अर्थ गार्जियन श्रेणी में नेटवेस्ट ग्रुप अर्थ हीरोज का पुरस्कार मिला है। वन मंत्री डॉ. कुंवर विजय शाह ने सतपुड़ा टाइगर रिजर्व प्रबंधन से जुड़े अमले को बधाई

दी है।
सतपुड़ा टाइगर रिजर्व देश का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण
   उल्लेखनीय है कि सतपुड़ा टाइगर रिजर्व को विश्व धरोहर की संभावित सूची में भी शामिल किया गया है। होशंगाबाद जिले में सतपुड़ा टाइगर रिजर्व 2130 वर्ग किलोमीटर में फैला क्षेत्र है। यह डेक्कन बायो-जियोग्राफिक क्षेत्र का हिस्सा है। अभूतपूर्व प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर यह देश की प्राचीनतम वन संपदा है, जो बड़ी मेहनत से संजोकर रखी गई है।
   हिमालय क्षेत्र में पाई जाने वाली वनस्पतियों में 26 प्रजातियाँ और नीलगिरि के वनों में पाई जाने वाली 42 प्रजातियाँ सतपुड़ा वन क्षेत्र में भी भरपूर पाई जाती हैं। इसलिये विशाल पश्चिमी घाट की तरह इसे उत्तरी घाट का नाम भी दिया गया है। कुछ प्रजातियाँ जैसे कीटभक्षी घटपर्णी, बाँस, हिसालू, दारूहल्दी सतपुड़ा और हिमालय दोनों जगह मिलती हैं। इसी तरह पश्चिमी घाट और सतपुड़ा दोनों जगह जो प्रजातियाँ मिलती हैं, उनमें लाल चंदन मुख्य हैं। सिनकोना का पौधा, जिससे मलेरिया की दवा कुनैन बनती है, यहाँ बड़े संकुल में मिलता है
   सतपुड़ा टाइगर रिजर्व को भारत के मध्य क्षेत्र के ईको-सिस्टम की आत्मा कहा जाता है। यहाँ अकाई वट, जंगली चमेली जैसी वनस्पतियाँ हैं, जो अन्यत्र नहीं मिलती। बाघों की उपस्थिति और उनके प्रजनन क्षेत्र के रूप में सतपुड़ा नेशनल पार्क की अच्छी-खासी प्रसिद्धि है। बाघों की अच्छी उपस्थिति वाले मध्यभारत के क्षेत्रों में से एक है। संरक्षित क्षेत्रों के भीतरी प्रबंधन के मान से सतपुड़ा टाइगर रिजर्व अपने आप में देश का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है। देश के बाघों की संख्या का 17 प्रतिशत और बाघ रहवास का 12 प्रतिशत क्षेत्र सतपुड़ा में ही आता है। यह देश का सर्वाधिक समृद्ध जैव विविधता वाला क्षेत्र है।
 
(62 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer