समाचार
|| देवास सीएमएचओ डॉ.एम.पी शर्मा ने किरण पैथोलॉजी सेंटर का किया निरीक्षण,अनिमियतता को देखते बंद करने के दिये निर्देश || योग विषय बना विद्यार्थियों की पहली पसंद || कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान को जनता का अभियान बनाना है - मुख्यमंत्री श्री चौहान || आबकारी देवास की अवैध मदिरा के विरुद्ध लगातार कार्यवाही जारी || कलेक्टर श्री शुक्‍ला ने वैक्सीनेशन महा अभियान के संबंध में अधिकारियों की ली बैठक || अग्रणी बैंक योजना जिलास्‍तरीय परामर्शदात्री एवं समीक्षा समिति की बैठक कलेक्‍टर श्री शुक्‍ला की अध्‍यक्षता में आयोजित || देवास जिले में स्वास्थ्य कार्यकर्ता और वैक्सीनेशन टीम घर-घर जाकर कर लगा रहीं है वैक्‍सीन || जिले में 3 हजार 451 लोगों को लगाया गया कोविड- 19 का टीका || 465 किलोग्राम महुआ लाहन व 18 लीटर हाथ भट्टी मदिरा बरामद || डीएटीसीसी की बैठक 27 सितम्बर को
अन्य ख़बरें
विद्यार्थियों के लिए अच्छी शिक्षा और स्वास्थ्य दोनों महत्वपूर्ण रू मुख्यमंत्री श्री चौहान
9वीं एवं 10वीं की कक्षाएँ  5 अगस्त से होंगी प्रारंभ, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विद्यार्थियों, शिक्षक और अभिभावकों से किया वर्चुअल संवाद
भिण्ड | 31-जुलाई-2021
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि विद्यार्थियों के लिए अच्छी शिक्षा और स्वास्थ्य, दोनों ही हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं। प्रदेश में कोरोना संक्रमण को देखते हुए धीरे-धीरे हमने कक्षाएँ प्रारंभ की हैं। नवीं एवं दसवीं की कक्षाएं भी 5 अगस्त से प्रारंभ की जा रही हैं। अभी ये कक्षाएँ सप्ताह में दो-दो दिन ही लगेगी।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना काल में स्कूल, कॉलेज तो बंद थे, परन्तु शिक्षण कार्य निरंतर चलता रहा। फिर चाहे वो ऑनलाइन क्लासेस हों अथवा टीवी कार्यक्रम, रेडियो, वाट्सएप ग्रुप आदि के माध्यम से हों। इसमें अभिभावक और शिक्षकों ने भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
   मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज ‘विद्यार्थी संवाद कार्यक्रम’ में मुख्यमंत्री निवास से विद्यार्थी, शिक्षक एवं अभिभावकों से वर्चुअल चर्चा की। संवाद कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  श्री इंदर सिंह परमार भी उपस्थित थे।
विद्यार्थी लक्ष्य करें निर्धारित
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि विद्यार्थियों को अपना लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए। उन्होंने छात्रों को अपने लक्ष्य को अर्जुन की तरह सुनिश्चित करने के लिए कहा। जिस प्रकार तीरंदाजी के प्रशिक्षण के समय गुरु द्रोणाचार्य के यह पूछने पर कि उसे क्या दिखाई दे रहा है, अर्जुन ने कहा था कि उसे न पेड़ दिखाई दे रहा है और न चिड़िया, उसे सिर्फ चिड़िया की आँख दिखाई दे रही है, उसी प्रकार छात्रों को भी एकाग्रचित्त होकर अपनी पढ़ाई करनी चाहिए।
हमारा घर - हमारा विद्यालय
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इस चुनौतीपूर्ण समय में को-एजुकेटर के रूप में अभिभावकों की भूमिका और अधिक बढ़ जाती है। आप लोग परिवार में पढ़ाई के लिए अनुकूल माहौल बनाएँ और "हमारा घर-हमारा विद्यालय" की परिकल्पना को साकार करें। अभिभावक शिक्षकों से जीवंत संपर्क बनाए रखें और बच्चों को पढ़ाई के साथ खेलकूद, व्यायाम, प्राणायाम आदि फिजिकल एक्टिविटी भी कराते रहें।
माता-पिता हैं पहले शिक्षक
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बच्चों के पहले शिक्षक माता-पिता ही होते हैं। आप उन्हें कैसे संस्कार देते हैं, यह बच्चों का भविष्य तय करता है। मुझे याद है कि मेरे दोनों बेटों के जन्म के बाद मैंने उनके कान में सबसे पहले गायत्री मंत्र सुनाया था। आज भी मैं उन्हें धार्मिक ग्रंथों के अध्ययन के लिए प्रेरित करता रहता हूँ।
नवम्बर में ‘नेशनल अचीवमेंट सर्वे’
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नई शिक्षा नीति के तहत नवम्बर में एन.ए.एस (राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण) भी आयोजित किया जायेगा, जिसमें मध्यप्रदेश राज्य को टॉप 10 में लाने का लक्ष्य रखें। नई शिक्षा नीति में व्यावसायिक शिक्षा पर अधिक जोर दिया गया है। विद्यार्थियों को विश्व-स्तरीय और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए ‘कल्चर ऑफ एक्सीलेंस’ विकसित करने और फ्यूचर जॉब्स के लिए तैयार करने की दृष्टि से प्रदेश में सीएम राइज स्कूल खोले जायेंगे।
अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बच्चों से कहा कि पढ़ाई के साथ अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। अच्छा एवं स्वास्थ्यवर्धक भोजन करें। भोजन तीन प्रकार का करें। हित भोग- जो हितकारी हो, मित भोग- जो भूख से कम खाया जाए और ऋतु भोग- जो मौसम के अनुरूप हो।
“गुजरा जमाना बचपन का..........”
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने “गुजरा जमाना बचपन का” पंक्तियाँ गाते हुए कहा कि मुझे आज भी अपने बचपन के दोस्त, अपने टीचर, शैतानियाँ और खान-पान सब याद आता है। हम भी स्कूल में बेर, कबीट, आम आदि खाया करते थे। आज आप लोग पिज्जा, बर्गर, कोल्ड ड्रिंक जैसे जंक फूड ज्यादा खा रहे हैं, जो सेहत के लिए नुकसानदायक हैं। आप ये खायें, परंतु कभी कभी। संवाद कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विदिशा की कुमारी आस्था तिवारी, दमोह के प्रशांत, जबलपुर की मान्या साहू, रायसेन के मोहित शर्मा एवं भोपाल की श्रुति गुप्ता से चर्चा की। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मी अरूण शमी ने कार्यक्रम की रूपरेखा रखी। संचालक राज्य शिक्षा केंद्र श्री एस. धनराजू भी उपस्थित थे।
(55 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer