समाचार
|| अल्पसंख्यक पोस्ट मैट्रिक/प्री-मैट्रिक/मेरिट कम-मीन्स छात्रवृत्ति ऑनलाईन आवेदन आमंत्रित || क्यूआर कोड से एप पर मतदाता जान सकेंगे कई तरह की जानकारी || जिले में प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना 2 अंतर्गत 800 हितग्राही हुये लाभान्वित - खुशियों की दास्तां || निवाड़ी जिले में शुक्रवार तक 2 लाख से अधिक लोगों को लगा कोविड का प्रहला टीका - खुशियों की दास्तां || बरसात में होने वाली संक्रामक बीमारियों से बचने एडवाईजरी || आर्थिक सहायता स्वीकृत || जिले में अब तक 902.6 मिमी. औसत वर्षा दर्ज || ग्राम पंचायत बरौंची शतप्रतिशत वैक्सीनेट || पिछले 24 घंटों में 70.4 मि.मी. औसत वर्षा || शिक्षा राज्य मंत्री श्री परमार ने आज शासकीय उमावि का आकस्मिक निरीक्षण कर विद्यार्थियों से संवाद किया
अन्य ख़बरें
एम्बेड परियोजना कर रही है मलेरिया उन्मूलन के लिए हर संभव प्रयास
वनग्राम सुमेरीखेड़ा में लगाया गया स्वास्थ्य शिविर
बालाघाट | 31-जुलाई-2021
      मानसून आने के साथ ही मच्छर जनित बीमारियों के प्रकोप की आशंका बढ़ जाती है, जिला बालाघाट का जलवायु इस समय मच्छरों के प्रजनन के लिए अनुकूल है जिसके कारण मच्छर जनित बीमारियों डेंगू और मलेरिया का खतरा बढ़ने कि संभावना रहती है। बालघाट जिले को मलेरिया मुक्त बनाने के लिए जिले में क्रियान्वित एम्बेड परियोजना दिनांक 30 से 10 दिनों का स्वास्थ्य शिविर संचालित कर रही है यह शिविर उन्हीं गांव में लगाए जाएंगे जहां या तो आशा कार्यरत नहीं है या ऐसे गांव जिनका वर्षा ऋतु में जिला मुख्यालय से संपर्क टूट जाता है।
       एम्बेड परियोजना  ने 153  मलेरिया प्रभावित गांव में से जिससे गांव चिन्हित किए हैं जो मलेरिया की दृष्टि से अति संवेदनशील हैं इन गांवों में आशा कार्यकर्ता की अनुपस्थिति होने के कारण मलेरिया का खतरा और बढ़ जाता है इसलिए एम्बेड परियोजना ने ऐसे संवेदनशील ग्रामों को चिन्हित कर स्वास्थ्य शिविर लगाना नियत किया है। आज दिनांक 30 जुलाई 2021 को जिले के बैहर विकासखंड के वनग्राम सुमेरीखेड़ा में परियोजना द्वारा स्वास्थ्य विभाग के कार्यकर्ताओं संग मिलकर  स्वास्थ्य शिविर का  आयोजन  किया गया। जिसमे अन्य बीमारियों के साथ बुखार के रोगियों की रक्त जांच की गई। शिविर में ग्रामीणों ने कोविड-19 के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए स्वास्थ्य कर्मियों से परामर्श लिया। शिविर में 35 लोगों की मलेरिया हेतु रक्त जांच की गई जिसमें एक मलेरिया का रोगी पाया गया, जिसका तुरंत इलाज  शुरू कर उसे दवाइयां भी दी गई।
       एंबेड परियोजना द्वारा ऐसे ही सुदूर ग्रामीण अंचलों के ग्रामों में स्वास्थ्य शिविर का आयोजन आगामी 10 दिनों तक किया जाएगा। परियोजना की जिला समन्वयक ने आमजन से अपील की है कि इन शिविरो में अपनी उपस्थिति दर्ज करा कर मौसमी बीमारियों जैसे सर्दी जुखाम वायरल बुखार और मलेरिया जैसी बीमारियों से अपना बचाव करें।
(49 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer