समाचार
|| जरारूधाम में केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री पटैल एवं प्रभारी मंत्री श्री राजपूत की गरिमामयी मौजूदगी में स्वच्छता संगोष्ठी का आयोजन || मास्क नहीं लगाने वाले 19 व्यक्तियों के विरूद्ध कार्रवाई || कोविड-19 टीकाकरण वैक्सीन वेन द्वारा इमलियाघाट, राजा पटना एवं मनका सहित अन्य ग्रामों में 555 हितग्राहियों का हुआ टीकाकरण || अभी कोरोना गया नहीं है -केन्द्रीय राज्यामंत्री श्री प्रहलाद पटैल || प्रधानमंत्री के जन्मदिवस पर 61 युवाओं द्वारा किया गया रक्तदान || प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के 71वें जन्मोत्सव में सामान्य वन मंडल दमोह कार्यालय कैम्पस में उत्साह के साथ || मालवा और निमाड़ में 12 फीसदी ज्यादा बिजली वितरण || भगवान विश्वकर्मा विकास और निर्माण के दाता हैं : मुख्यमंत्री श्री चौहान || प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जन-कल्याण और सुराज के प्रतीक – मुख्यमंत्री श्री चौहान || प्रधानमंत्री श्री मोदी के व्यक्तित्व से युवा प्रेरणा लें : राज्यपाल श्री पटेल
अन्य ख़बरें
किसानों को सलाह खेत से नियमित वर्षा जल की निकासी करते रहें
-
सीहोर | 04-अगस्त-2021
   जिले में लगातार हो रही बारिश के मद्देनजर कृषि विभाग द्वारा जिले के किसान भाईयों को उपयोगी सलाह दी गयी है। कृषि विभाग ने बताया कि जिन क्षेत्रों मे अधिक वर्षा हो रही है वहां पर खरीफ फसलों सोयाबीन, उड़द, मक्का आदि फसलों में खेत में जल भराव न होने दें। जल भराव होने की स्थिति में खेत में अतिरिक्त जल निकास नालियां बनाकर जल निकास की व्यवस्था करें। जल निकास हेतु सायफन विधि का भी उपयोग कृषक भाई करें। सोयाबीन की फसल जल भराव के प्रति अति संवेदनशील होती हैं।
   मक्का फसल के हानिकारक कीट फॉल आर्मी वर्म (सेनिक कीट) के प्रकोप की संभावना को देखते हुये किसानों को सलाह दी गयी है कि कि मक्का की फसल में इस कीट का प्रकोप आरम्भिक अवस्था में होता है। इस कीट के मुंह पर उल्टा अंग्रेजी का अक्षर वाय (Y) बना होता है। इस कीट की ईल्ली तने के अंदर प्रवेश कर पूरे तने को खोखला कर देती है, जिससे पौधे के साईड से कनसे निकलते है। कीट नियंत्रण हेतु ईमामेक्टिन बेंजोयेट 250 ग्राम मात्रा या रायनोक्सि फायर 125 मिली मात्रा प्रति हेक्टेयर 500 लीटर पानी के साथ मिलाकर छिडकाव करना चाहिए।
   सोयाबीन फसल में पीला मोजेक वायरस बीमारी के फैलाव को रोकने हेतु प्रारम्भिक अवस्था में ही अपने खेत में जगह-जगह पर पीला चिपचिपा ट्रेप लगाये, जिससे इसका संक्रमण फैलाने वाली सफेद मक्खी का नियंत्रण होने में सहायता मिल सके। लक्षण दिखते ही ग्रसित पौधो को अपने खेत से उखाड कर मिट्टी में दबाकर नष्ट करें। रासायनिक नियंत्रण हेतु इस रोग को फैलाने वाली सफेद मक्खी के नियंत्रण के लिए थायोमिथाक्सम + लेम्वडा सायहेलोथ्रिन 125 मिली प्रति हेक्टेयर का छिडकाव करें।
   खरीफ फसलों में कीटनाशक, खरपतवारनाशक एवं फफूंदनाशक दवाओं का छिड़काव बारिश के बाद मौसम खुला होने पर सुबह या शाम के समय करना फसलों के लिये अधिक फायदेमंद है।
 
(45 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer