समाचार
|| भेड़ाघाट हेलीपैड पर मुख्यमंत्री श्री चौहान का हुआ भव्य स्वागत || गौवंश के संरक्षण के लिए सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी || भोपाल की दीदियों की ऊंची छलांग-स्व-सहायता समूहों की बहनों का संस्कार हैम्पर करवा चौथ पर मचाएगा धूम || कठपुतली कलाओं पर केन्द्रित पुतुल समारोह प्रारम्भ-24 तक चलेगा || विद्युत लाइनों एवं उपकरणों का किया जा रहा सतत रखरखाव - ऊर्जा मंत्री श्री तोमर || खाद की कालाबाजारी करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करें - कृषि मंत्री श्री पटेल || नीमच ब्रिगेड-जिसने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए-धनश्याम सक्सेना "जनसंपर्क संचालनालय की विशेष फीचर श्रृंखला" "लेख" || कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने फर्जी पत्रकार के विरुद्ध की कारवाई, फर्जी पत्रकार देवेंद्र मराठा 6 महीने के लिए रासुका के तहत निरुद्ध || सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का क्रेडिट आउटरीच अभियान अंतर्गत मेगा कैंप का आयोजन || विश्व आयोडीन अल्पता विकार नियंत्रण दिवस पर होंगे विविध जागरूकता कार्यक्रम
अन्य ख़बरें
उच्च शिक्षा मंत्री श्री यादव ने बैरसिया में स्वामी विवेकानंद महाविद्यालय में नवीन भवन का लोकार्पण किया
5 करोड़ 84 लाख के नवीन भवन के बनने से विद्यार्थियों को मिलेंगी कई सुविधाएं, ई - लाइब्रेरी के लिए 15 लाख मंजूर
भोपाल | 03-सितम्बर-2021
   उच्च शिक्षा मंत्री श्री मोहन यादव ने बैरसिया महाविद्यालय मे ई-लायब्रेरी के लिए 15 लाख रुपए की स्वीकृति के साथ ही एक करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि देने की घोषणा की है। शुक्रवार को जिले के तहसील मुख्यालय बैरसिया में उच्च शिक्षा मंत्री श्री मोहन यादव, सांसद सुश्री साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, विधायक श्री विष्णु खत्री ने स्वामी विवेकानंद शासकीय महाविद्यालय के नव-निर्मित भवन का लोकार्पण किया।
   उच्च शिक्षा मंत्री श्री मोहन यादव ने कहा है कि किसी भी देश की शिक्षा पद्धति ही उसकी संस्कृति और सभ्यता को बनाए रखने में महत्वपूर्ण योगदान देती है। उन्होंने कहा कि प्राचीन काल में नालंदा और तक्षशिला विश्व विद्यालय ने अपनी शिक्षा से भारत को विश्व मे सर्वोच्च स्थान दिलाया था। आदिकाल से ही हमारी संस्कृति और शिक्षा उन्नत रही हैं और हमारी शिक्षा और ज्ञान ने हमें समृद्ध किया है।
   मंत्री श्री यादव ने कहा की अंग्रेजों ने हमारी शिक्षा पद्धति को तोड़ा और हमें नौकर बनने के लिए विवश किया। जिससे हमें बहुत नुकसान हुआ है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने नई शिक्षा पद्धति लागू करके देश को नई दिशा दी है । विदेशी भाषा ने हमारी भाषा को नुकसान पहुँचाया है अब मातृ भाषा मे भी शिक्षा गृहण कर सकेंगे।
   नई शिक्षा पद्धति मे अब सभी महाविद्यालयों में सभी विषयो की शिक्षा दी जायेगी। अब शिक्षा के क्षेत्र में नवाचार किये गए हैं। हमारा योग्य युवा हर विधा में आगे बढ़ेगा है। समाज के योग्य शिक्षित और सभ्य युवा आधुनिक और उन्नत समाज निर्माण करेंगे। 
   नई शिक्षा नीति में अब कालेजों में डिग्री का बंधन, उम्र का बंधन और रेगुलर शिक्षा का बंधन खत्म किया है। कोई भी किसी भी उम्र मे प्रवेश ले सकेगा। नई शिक्षा पद्धति लागू करने वाला मध्यप्रदेश देश में प्रथम राज्य है।
   उल्लेखनीय है कि इस महाविद्यालय का पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेई  द्वारा उद्घाटित किया गया था। इस महावियालय के नये भवन का उद्घाटन हम सब के लिए गौरव का क्षण है।
   सांसद साध्वी सुश्री प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि राष्ट्र निर्माण में युवाओं का सदैव योगदान रहा है। स्वामी विवेकानंद के आदर्शों पर चलने के लिए जरूरी है कि उनके बताएं मार्ग और शिक्षा पर चले। छात्र-छात्राओं के जीवन में गुरु का महत्वपूर्ण स्थान है। सभी शिक्षकों का सम्मान कर उनकी दी गई शिक्षा से जीवन को सफल बनाएं और चरित्र का निर्माण कर नई पीढ़ी को आगे बढ़ाए। आज महाविद्यालय के इस नये भवन मेँ हम प्रण ले कि देश सेवा क लिये सदैव तत्पर रहेंगे।
   विधायक श्री विष्णु खत्री ने कहा कि यह भव्य भवन एक वर्ष में पूर्ण हुआ है। एक साल पहले उच्च शिक्षा मंत्री श्री मोहन यादव ने इस भवन का भूमिपूजन किया था। इस भवन के निर्माण से आस-पास के विद्यार्थियों को सुविधा होगी और हायर सेकेण्डरी के बाद उच्च शिक्षा उनके क्षेत्र में उपलब्ध रहेगी। मैकाले की शिक्षा पद्धति के बाद नई शिक्षा नीति से युवा पीढ़ी को रोजगार उन्मुखी शिक्षा मिलेगी। विधायक ने बैरसिया में कृषि कॉलेज खोलने और तकनीकी शिक्षा के लिए विशेष व्यवस्था करने का अनुरोध किया।
  इस भवन के बनने से महाविद्यालय के विद्यार्थियों को सेमिनार हॉल, विशाल केन्टीन, अध्यापन के लिए 4 अध्ययन कक्ष, 4 प्रयोग शाला, गर्ल्स कॉमन रूम सहित सिक रुम की सुविधायें मिलेंगी । इसके साथ- साथ महाविद्यालय की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए विश्व बैंक परियोजना के अंतर्गत की-परफार्मेंस इन्डिकेटर (केपीआई) अंतर्गत एकेडमिक एवं एक्सीलेंस एम्पलायविलिटि को बढ़ाने के लिए कई गतिविधियां जैसे बाटनीकल गार्डन, शैक्षणिक भ्रमण, औद्योगिक भ्रमण, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय वर्चुअल सेमिनार एवं भीली चित्रकला प्रशिक्षण शिविर आदि कराये जायेंगे। इस कड़ी में पुराने भवन की मरम्मत, पार्किंग, सड़क, सीवेज निर्माण हुआ है। महाविद्यालय को परियोजना द्वारा फर्नीचर एवं अन्य सुविधाएं भी विद्यार्थियों को मुहैया कराई गई हैं।
   उल्लेखनीय है कि वर्ष 1986 में महाविद्यालय का लोकार्पण पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने की थी। स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश कार्यक्रम के अंतर्गत महाविद्यालय में स्ववित्तीय आधार पर उ.शि.वि. द्वारा फूड प्रोसेसिंग एवं हॉस्पिटिलिटी एवं टूरिज्म में डिप्लोमा कोर्स नवीन भवन में संचालित किये जायेंगे। वर्तमान में कला संकाय,विज्ञान संकाय में स्नातक स्तर एवं वाणिज्य संकाय में स्नातकोत्तर स्तर की कक्षाएं संचालित की जा रही है। बी.कॉम. कम्प्यूटर स्नातक पर एवं एम.कॉम मैनेजमेंट की कक्षाएं स्व-वित्तीय आधार पर संचालित की जा रही है। वर्तमान में कुल छात्र संख्या 2346 है।
(47 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2021नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer