समाचार
|| दीपावली के पूर्व 2.51 लाख आवासहीन परिवारों को मिलेगी अपने आवास की सौगात || किसान संतुलित उर्वरक का उपयोग करें || शुद्धिकरण पखवाड़ा संबंधी बैठक 16 अक्टूबर को || भव्य आतिशबाजी के साथ हुआ रावण दहन || पुलिस लाईन में कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने किया शस्त्र पूजन || अतिथि व्याख्याताओं के चयन हेतु 18 तक आवेदन आमंत्रित || कलेक्टर-एसपी ने देर रात शहर का भ्रमण कर लिया व्यवस्थाओं का जायजा || बरम खेड़ी के मूक बधिर छात्रावास का संचालन सोसायटी स्वयं के खर्च पर करने की इजाजत || शिविर में लैंगिक समानता,कन्या भ्रूण हत्या के बारे में लोगो को दी गई जानकारी || बाढ़ आपदा प्रबंधन के कार्य में कर्मचारियों की लगाई गई ड्यूटी से किया गया भार मुक्त
अन्य ख़बरें
म.प्र. में जल जीवन मिशन में तेजी से काम जारी - मुख्यमंत्री श्री चौहान
अब तक 3236 ग्राम, 25 हजार आँगनवाड़ी और 43 हजार स्कूल में नल से जल पहुँचा
सतना | 06-सितम्बर-2021
     मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आत्म-निर्भर भारत के मूल मंत्र पर मध्यप्रदेश में तेजी से काम किया जा रहा है। प्रदेश के हर वर्ग की चिंता कर उसकी जरूरतों की पूर्ति के लिए योजनाएँ बना कर मैदानी स्तर पर अमलीजामा पहनाया जा रहा है। इन्हीं योजनाओं में एक महती योजना ‘‘जल जीवन मिशन’’ भी है, जिसके माध्यम से हर घर में नल से शुद्ध जल देना सुनिश्चित किया जा रहा है। मिशन के क्रियान्वयन से अब तक प्रदेश के 3236 ग्रामों में हर घर में सरल, सुगम और शुद्ध पेयजल की व्यवस्था की जा चुकी है। इस काम को सभी जिलों में तेजी से अंजाम दिया जा रहा है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने ग्रामीण आबादी, विशेषकर महिलाओं जिन्हें पेयजल के लिए सिर पर मटका रख कर लंबी दूरी तय करना पड़ती थी, को परेशानियों से निजात दिलाने के लिए 15 अगस्त 2019 को जल मिशन की घोषणा की। आज यह मिशन ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली महिलाओं के लिए वरदान साबित हो रहा है। अब महिलाओं को घर पर ही नल के माध्यम से पेयजल मिलने लगा है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जल के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। प्रकृति ने हमें नदी और तालाब जैसे पेयजल स्रोत दिये। कुओं से भी हमने पेयजल प्राप्त किया है। समय के साथ हमने नलकूप और हैंडपम्प स्थापित कर भू-जल का उपयोग पेयजल के लिए किया। इससे हमारी आधी-आबादी के परिश्रम में कुछ कमी तो आई लेकिन उन्हें पेयजल की समस्या से पूरी तरह मुक्ति नहीं मिल सकी। जल जीवन मिशन में पेयजल स्रोतों का उपयोग कर और जहाँ पेयजल स्रोत नहीं हैं वहाँ नये स्रोत निर्मित कर ग्रामीण आबादी को नल से जल देकर उनके जीवन में बदलाव लाया जा रहा है। मिशन के प्रारंभिक चरण में सवा 3 हजार से अधिक गाँवों में हम यह बदलाव देख सकते हैं। शीघ्र ही प्रदेश के सभी गाँव में मिशन के जरिये नल से घर-घर पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित होगी।
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के प्राथमिकता वाले इस मिशन के लिए केन्द्र सरकार पर्याप्त मात्रा में आवंटन भी उपलब्ध करवा रही है। मिशन में जून 2020 से गाँवों के हर घर में नल कनेक्शन से जल उपलब्ध करवाने का सिलसिला प्रारम्भ हुआ। आज 40 लाख 56 हजार 391 ग्रामीण परिवारों को नल कनेक्शन से निरन्तर जल प्रदाय हो रहा है। मिशन में ग्रामीण आबादी के घरों सहित स्कूल एवं आँगनबाडि़यों में भी पेयजल के लिए नल कनेक्शन दिए जा रहे हैं। अब तक 25 हजार 840 आँगनबाड़ी और 43 हजार 629 स्कूल में नल से पेयजल की व्यवस्था की जा चुकी है। शेष रहे ग्रामीण परिवारों सहित आँगनबाडि़यों और स्कूलों में भी नल से जलापूर्ति के कार्य लगातार जारी हैं।
जल जीवन मिशन के संचालन के लिये राज्य जल एवं स्वच्छता मिशन और जिला जल एवं स्वच्छता मिशन का गठन किया गया है। साथ ही ग्राम जल एवं स्वच्छता समिति का गठन भी किया जायेगा। योजना में निर्माण लागत की 10 प्रतिशत जन-भागीदारी होगी। ग्रामीणों की जन-भागीदारी श्रम, सामग्री अथवा नगद राशि के रूप में ली जाने का प्रावधान मिशन में है। अनुसूचित जाति एवं जनजाति बहुल ग्रामों में जन-भागीदारी 5 प्रतिशत रखी गई है।
(40 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2021नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer