समाचार
|| मिलावट से मुक्ति अभियान के अंतर्गत विभिन्न प्रतिष्ठानों का निरीक्षण कर जांच हेतु लिये गये खाद्य पदार्थों के नमूने || अभी तक जिले में टीके के 20,86,896 डोज लगे || नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) मीडिया बुलेटिन || कलेक्टर ने राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम की समीक्षा की || किसानों को सिंचाई के लिए बिजली की कमी नहीं आने देंगे: मुख्यमंत्री श्री चौहान || अवैध मदिरा के विरुद्ध कटनी क्षेत्र में आबकारी विभाग की कार्रवाई || कटनी जिले के विभिन्न गाँव व स्थानों में चल रहा है “स्वच्छ भारत” कार्यक्रम || चड्डा कॉलेज कटनी में स्थापित लीगल एड क्लीनिक में आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत आयोजित हुआ जागरूकता शिविर || कोरोना की सैंपलिंग इन स्थानों पर होगी आज || दीपावली दौज पर माँ रतनगढ़ पर आयोजित मेले में की जाने वाली व्यवस्थाओं के संबंध में अधिकारियों को दिए निर्देश
अन्य ख़बरें
उम्मीदों एवं आवश्यकताओं की पूर्ति का केन्द्र बनती ग्राम पंचायतें
युद्ध स्तर पर बाढ़ राहत एवं बचाव कार्य से बहाल हुआ जन-जीवन
उमरिया | 12-सितम्बर-2021
      पंचायती राज में ग्राम पंचायतें ग्रामीण अंचल की मुख्य धुरी होती हैं। गाँव के चहुँमुखी विकास में पंचायतों की भूमिका को नकारा नहीं जा सकता। चाहे विकास के मुद्दे हो या संकट की घड़ी, पंचायतें अपनी भूमिका को निष्पक्ष तरीके से निभाती हैं। गत अगस्त माह में मध्यप्रदेश के कुछ अंचलों में अति-वृष्टि से बाढ़ की स्थिति निर्मित हुई। इस दौरान पंचायत स्तेर पर जिस तत्पअरता से जन-जीवन को बहाल करने के लिये राहत एवं पुनर्वास के काम ग्राम पंचायतों द्वारा किए गए वह अब तक किये कार्यों में एक मिसाल बने। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा राज्य  स्तर से लेकर पंचायत तक युद्ध स्त र पर कमर कसकर काम किया गया। परिणामस्वरूप लगभग एक दर्जन जिलों में हजारों गाँवों में तत्काल राहत और बचाव कार्य शुरू हुए और बड़ी संख्या में बाढ़ प्रभावित परिवारों की उजड़ी हुई गृहस्थीब फिर से बसाने में कामयाबी मिली।
    प्रदेश के लगभग एक दर्जन जिलों में अगस्तर माह के शुरूआती दिनों में भीषण बाढ़ आने से भारी नुकसान हुआ था। शिवपुरी, श्योपुर, ग्वालियर, भिण्ड, मुरैना, दतिया, अशोकनगर, गुना एवं विदिशा आदि जिलों में बाढ़ से सर्वाधिक नुकसान हुआ। तबाही का मंजर यह था कि बड़ी संख्याद में सड़कें, पुल,  मकान ढह गये, फसलें चौपट हो गईं, मवेशी बह गये। आम रास्तेो बंद हो गए। गृहस्थी का सामान बह जाने एवं मकान गिर जाने के कारण लाखों लोग बेघर हो गये। भारी बारिश के दौरान बाढ़ में फँसे लोगों से संपर्क कर उनको सुरक्षित निकालना तथा राहत शिविरों तक ले जाने की कठिन चुनौती प्रशासन के सामने थी। बाढ़ में सड़क एवं पुल टूट गये, रास्तोैं में, खेतों में चारों तरफ पानी भर गया। नदियों में पानी के तेज प्रवाह के कारण वाहन की तो बिसात क्या  पैदल एवं नावों से भी गाँवों में पहुँचना संभव नहीं था। बिजली की लाइनें उखड़ने से बिजली सप्लाकई बंद होने कारण मोबाईल डिस्चानर्ज होने से गाँवों में संपर्क ठप्पस हो गया। इस स्थिति में बाढ़ प्रभावित गाँवों में न तो पहुँच पाना संभव था, न ही मोबाईल फोन से संपर्क हो पा रहा था। इस आपदा में लाखों परिवार बेबस एवं लाचार थे। इस स्थिति में राज्य शासन ने चौतरफा प्रयास कर बाढ़ प्रभावितों की सहायता की और उन्हें सुरक्षित बाहर निकाला। राज्य सरकार के साथ पंचायतों ने भी अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए बचाव एवं राहत कार्यों में महती भूमिका निभाई।
    इस विषम और विपरीत परिस्थिति में पंचायत स्तवर के अमले ने राहत और बचाव कार्य को केवल अपना सरकारी दायित्वन न समझते हुये मानवता को सर्वोपरि मानते हुए काम शुरू किया। पंचायत सचिवों, रोजगार सहायकों, स्व्दृसहायता समूह सदस्योंू ने अन्यक विभागों, जन-प्रतिनिधियों तथा ग्रामीणों के सहयोग से बाढ़ प्रभावितों तक पहुँचने का प्रयास किया। इस पूरी प्रक्रिया में पंचायत कर्मियों द्वारा पीड़ितों के साथ किये गये संवेदनशील व्यपवहार एवं अपनत्वन ने लोगों को काफी ढाँढस बंधाया और उनके लिए तबाही की घोर निराशा से उबरने का रास्ताव आसान कर दिया।
    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशों का पालन करते हुए ग्रामीण विकास विभाग ने पंचायतों के माध्यम से पुनर्वास एवं पुनर्निर्माण के कार्य तत्कारल शुरू किए। सबसे पहले बाढ़ में फँसे हुये लोगों को निकालकर सुरक्षित स्था नों पर ले जाया गया। राहत शिविरों में उनके खानपान,  उपचार आदि की व्यकवस्थाक की गई। राहत शिविरों एवं तिरपाल आदि से बनाये गये अस्थानई घरों में स्वर-सहायता समूहों की महिलाओं द्वारा पकाया हुआ भोजन उपलब्ध  कराया। टूटी सड़कों की मरम्म त, घरों एवं आम रास्तो से पानी की निकासी का प्रबंध, स्वेच्छई पेयजल, मृत पशुओं का निवारण,  मकानों का मलबा हटाना, घरों में भरा कीचड़ एवं गाँवों से गंदगी हटवाने का कार्य तेज गति से किया गया।
 इस व्यगवस्थाग के साथ ही नुकसान के आंकलन एवं मरम्मओत के काम शुरू किये गये। आपदा की इस घड़ी में मानवीयता को ध्याकन में रख कर संजीदगी से किये कार्यों की वजह से पंचायत कर्मियों एवं पंचायती संस्थासओं की छवि बदली है। ग्राम पंचायतें अब सेवाप्रदाता एवं सहयोग के लिये जानी जा रही हैं। इतना ही नहीं ग्राम पंचायतें अब ग्रामीणों की उम्मीदों एवं आवश्य कताओं की पूर्ति का केन्द्रा बनने में भी कामयाब हो रही हैं।
ग्रामीण विकास विभाग द्वारा ग्राम पंचायतों के माध्यम से बाढ़ प्रभावित जिलों में सड़क, रास्तेव, पुल-पुलिया, रपटे, छोटे-बड़े तालाब, मकान आदि का निर्माण कार्य तुरंत प्रारंभ कर दिया।  इनमें से कई काम अब पूर्ण होने को हैं। त्रासदी से तहस-नहस हुए जन-जीवन को बहाल करने के काम में पंचायतों ने तत्प रता से प्रयास किये। स्वकयं की परवाह न करते हुए पंचायत सचिवों एवं रोजगार सहायकों के साथ अन्ये सभी विभागीय अधिकारी, कर्मचारी, समूह सदस्य़, जन-प्रतिनिधियों ने जिस सहयोग एवं सेवा की भावना से काम किया उससे लोगों को तुरंत राहत पहुँची तथा पंचायतों के प्रति लोगों का नजरिया बदल गया। अब पंचायतें ग्रामीणों की उम्मी दों एवं आवश्यनकताओं की पूर्ति का केन्द्रक बनती जा रही है। समय के साथ बढ़ते संसाधनों एवं सक्षमता से पंचायतों की सकारात्मूक छवि जनमानस के स्मृहति पटल पर बन रही है।
 
(42 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2021नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer