समाचार
|| आपदा प्रबंधन पुरस्कार - आवेदन 30 तक || पत्रकार समूह बीमा योजना की अंतिम तिथि 30 सितम्बर || अब 20 सितम्बर से कक्षा एक से पांचवी तक के स्कूल भी खुलेंगे || जिले में राष्ट्रीय पोषण माह 30 सितम्बर तक || श्रमोदय आवासीय विद्यालय प्रवेष परीक्षा 2021 के चयनित अभ्यर्थियों की प्रवेष प्रक्रिया 25 तक || अल्पसंख्यक पोस्ट मैट्रिक/प्री-मैट्रिक/मेरिट कम-मीन्स छात्रवृत्ति ऑनलाईन आवेदन आमंत्रित || क्यूआर कोड से एप पर मतदाता जान सकेंगे कई तरह की जानकारी || जिले में प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना 2 अंतर्गत 800 हितग्राही हुये लाभान्वित - खुशियों की दास्तां || निवाड़ी जिले में शुक्रवार तक 2 लाख से अधिक लोगों को लगा कोविड का प्रहला टीका - खुशियों की दास्तां || बरसात में होने वाली संक्रामक बीमारियों से बचने एडवाईजरी
अन्य ख़बरें
देवास जिले में ‘‘डेंगू पर प्रहार’’ अभियान अंतर्गत डेंगू, मलेरिया रोकथाम के लिए घर-घर पहुंच रही है टीम
डेंगू, मलेरिया से बचाव के संबंध में दी जा रही है जानकारियां डेंगू से बचाव के लिए जिलवासियों की सहभागिता जरूरी - कलेक्टर श्री शुक्‍ला
देवास | 15-सितम्बर-2021
   डेंगू, मलेरिया तथा चिकनगुनिया जैसी मौसमी बीमारियों की रोकथाम एवं बचाव के लिए पूरे प्रदेश के साथ ही देवास जिले में ‘‘डेंगू पर प्रहार’’ अभियान का शुभारम्‍भ हुआ। कलेक्टर श्री चन्‍द्रमौली शुक्‍ला ने कहा कि डेंगू से बचाव के लिए जिलवासियों की सहभागिता जरूरी है। उन्होंने आमजन से अपील की कि अपने घरों में जल जमाव न होने दें। ज्यादा दिन तक किसी भी पानी की टंकी में, बर्तन में, गड्ढे में और कूलर में, अगर कहीं भी पानी भरा है तो तत्काल उस पानी को खाली करें। गड्ढे इत्यादि में लार्वा नष्ट करने की दवा डाली जा सकती है। स्वच्छता भी जरूरी है।
    जिले ‘‘डेंगू पर प्रहार’’ अभियान अंतर्गत जिले के विभिन्न मच्छर जनित रोगों से बचाव के लिए और उन्हें पनपने से रोकथाम के लिए ग्रामीणों, नगर पंचायतों, वार्डो में जहाँ मच्छर की अधिकता, पानी एकत्रित होने वाली जगहों पर स्वास्थ्य विभाग, नगरी प्रशासन संयुक्त रूप से फॉगिंग और लार्वा को नष्‍ट करने का कार्य कर रहे है।
    जिले में डेंगू मच्छरों के लार्वा को नष्‍ट करने के लिए टीम बनाई गई है। टीम प्रभावित क्षेत्रों में लार्वा, फिवर सर्वे कर रही है तथा घरों के आसपास डेंगू मच्छरों के लार्वा को पैदा करने वाले स्थानों पर कीटनाशक का छिड़काव का कार्य कर रही है। प्रचार रथ के माध्‍यम से डेंगू, मलेरिया तथा चिकनगुनिया जैसी मौसमी बीमारियों के बारे में जिले के जनता को जागरूक किया जा रहा है एवं जरूरी सावधानी बरतने की जानकारी दी जा रही है।
    सीएमएचओ डॉ एम.पी. शर्मा ने बताया‍कि जिले के नागरिक रात को सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें अपने खिड़की दरवाजे पर जालीदार हवादार जाली लगवाए एवं घरों के आसपास पानी जमा ना होने दें। जलजमाव के कारण मच्छरों की उत्पत्ति आसानी से होती हैं, जिसके कारण डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया जैसी बीमारी फैलाने वाले मादा एनाफिलीज एवं एडीज मच्छर की उत्पत्ति होती हैं। मच्छरों की उत्पत्ति एवं नियंत्रण में सहयोग करें।
    डेंगू से बचाव के लिए जिले के नागरिक पानी से भरे बर्तन, टंकियों आदि का पानी सप्ताह में अवश्य बदलते रहें व कुएं, हैण्डपंप, नल के आसपास पानी इकट्ठा न होने दें। गड्ढों का मिट्टी से भराव करें या पानी की निकासी कराकर मच्छरों के उत्पत्ति स्थल को नष्ट करें, व लार्वा को पनपने नहीं दें। मच्छरों से बचाव करें। मच्छरों से बचाव के लिए सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें, पूरे आस्तीन के कपडे पहने, मच्छर भगाने वाली क्रीम या क्वाइल का उपयोग करे, नीम की पत्ती का धुंआ करें।     

 
(3 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer