समाचार
|| मुस्लिम समाज में उत्साह के साथ सभी ने लगवाया कोविड टीकाकरण का पहला व दूसरा डोज ''''टीकाकरण महाअभियान पर विशेष'''' (सफलता की कहानी) || हर वर्ग में टीकाकरण को लेकर दिखाई दिया उत्साह ''''टीकाकरण महाअभियान पर विशेष'''' (सफलता की कहानी) || आयुष्मान भारत निरामयम योजना से लाभ प्राप्त कर असहनीय दर्द से कराह रही ललीता बाई की हुई निःशुल्क सर्जरी (सफलता की कहानी) || ‘आयुष्मान भारत निरामयम योजना'''' अब बीमार नहीं रहा लाचार, हो रहा मुफ्त उपचार || कर्तव्य पथ पर अविचल कर्मयोगी हैं मोदी जी-शिवराज सिंह चौहान || विशेष टीकाकरण महाअभियान के प्रथम दिन जिले के नागरिको मे दिखा अपार उत्साह || चितरंगी विधायक अमर सिंह ने उपस्वस्थ्य केन्द्र चितरंगी मे किया टीकाकरण महाअभियान का शुभांरभ || विधायक देवसर ने टीकाकरण केन्द्र जोबगड़ मे किया टीकाकरण महाअभियान का शुभांरभ || पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन हुआ || 5 बीज फर्मो के वैधता पंजीयन तत्काल प्रभाव से निरस्त
अन्य ख़बरें
छत्रसाल महाविद्यालय में महिला सशक्तिकरण पर कार्यशाला सम्पन्न
-
पन्ना | 15-सितम्बर-2021
 
   मान्नीय मुख्यमंत्री जी की घोषणा के अनुसार 21 वी सदी में महिलाओं में कौशल विकास एवं उनके प्रति सकरात्मक दृष्टिकोण विकसित करने हेतु अनेकानेक कार्यक्रम किये जा रहे है। इसी तारतम्य में छत्रसाल महाविद्यालय में ऑनलाईन कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. ए.के. खरे द्वारा की गई। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता सतना शहर के प्रबुद्ध समाजसेवी श्री उत्तम बनर्जी एवं पन्ना की वरिष्ठ महिला अधिवक्ता श्रीमती आशा खरे थी। छात्र/छात्राओं को सम्बोधित करते हुये श्री बनर्जी ने कहां कि भारतीय संस्कृति में महिलायें हमेशा से आदरणीय थी। ज्ञान धन एवं शक्ति के स्त्रोत के रूप में वे हमेशा पूजनीय रहीं पर गुलामी के कालखण्ड में साज में अनेक रूढियों कुप्रथाओं के चलते महिलाओं की स्थिति में गिरावट आई। यद्यपि आधुनिक समय में वे पुनः स्वयं सिद्धा के रूप में प्रकट हो रही परन्तु अभी भी उन्हें सशक्त व आत्मनिर्भर बनाने हेतु हमारे समाज और विशेष रूप से हमारे युवाओं में सकारात्मक सोच होनी अत्यंत आवश्यक है।
        श्रीमती आशा खरे द्वारा छात्राओं को अत्यन्त सरल भाष में उनके कानूनी अधिकारों की जानकारी दी गई वहा व्यक्तित्व को इतना धुलनशील भी मत बनाओं कि हमारा अस्तित्व ही विलुप्त हो जाये। उन्होंने कहां बेटियां डिब्बे में बंद बल्ब जैसी है जो थोडे से प्रयास से चारों और प्रकाश फैला देती है। कार्यशाला में संबोधन देते हुये डॉ. एस.पी.एस. परमार ने कहां कि यदि महिला श्रम शक्ति में शमिल किया जाये तो हमारी जी.डी.पी. दहाई अंक पर पहुंच जायेगी अपने संबोधन में महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. ए.के. खरे ने महाविद्यालय के युवाओं को प्रेरित किया कि वे अपनी सहपाठी छात्राओं का ही नही वरन अपने आस-पास सभी महिलाओं को सशक्त शिक्षित और आत्मनिर्भर बनाने के लिये प्रेरित करें एवं हमेशा उनके प्रति सकारात्मक सोच रखें।
        कार्यक्रम का सफल संचालन इतिहास विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. उषा मिश्रा द्वारा किया गया एवं आमंत्रित अतिथियों का आभार प्रदर्शन वाणिज्य विभाग की सहा.प्राध्यापक डॉ. कविता परवंदा द्वारा किया गया। कार्यक्रम में महाविद्यालय के वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ. पी.पी. गौर, डॉ. उमा त्रिपाठी, डॉ. एस.एस.राठौर, डॉ. वीरेन्द्र कुमार दीक्षित, डॉ. विनय श्रीवास्तव, डॉ. मनोरमा गुप्ता, डॉ. सिद्धू सिंह, डॉ. बी.एन. जायसवाल, डॉ. गुलाबधर एवं अन्य सभी प्राध्यापकगण उपस्थित रहे एवं भारी संख्या छात्र/छात्रायें इस कार्यक्रम में ऑनलाईन उपस्थित रहे।
 
(2 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer