समाचार
|| प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जन-कल्याण और सुराज के प्रतीक दृ मुख्यमंत्री श्री चौहान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा 26 सितंबर तक सभी पात्र व्यक्तियों को लगे वैक्सीन || ‘‘आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य‘‘ में एनसीसी के 30 कैडेट्स के द्वारा 2.0 किमी फिट इंडिया फ्रीडम रन का आयोजन किया गया || मवेशियों का सड़क पर नहीं सुरक्षित स्थान पर बैठना सुनिश्चित करें || प्रधानमंत्री उज्ज्वला 2 का शुभारंभ जबेरा में किया गया || प्रत्येक आँगनवाड़ी में "पोषण पंचायत" का होगा आयोजन || बायोडिग्रेडेबल कैरी बैग को जीएसटी की दर 5 प्रतिशत रखें || मध्यप्रदेश ने वैक्सीनेशन में फिर बनाया नया कीर्तिमान || मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री उज्जवला योजना 2.0 का शुभारंभ || प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जन-कल्याण और सुराज के प्रतीक - मुख्यमंत्री श्री चौहान
अन्य ख़बरें
कमिश्नर श्री आशीष सक्सेना की चंबल संभाग के प्रभार की 9 माह की उपलब्धी (विशेष लेख)
-
श्योपुर | 15-सितम्बर-2021
    ग्वालियर-चंबल संभाग के कमिश्नर श्री आशीष सक्सेना को चंबल संभाग का प्रभार मिले लगभग 10 माह हुये है, इस 10 माह में चंबल संभाग के कमिश्नर जन-जन के प्रिय वन गये है। अपने थोड़े से कार्यकाल में ही श्री सक्सेना की लगन, मेहनत, कर्तव्यनिष्ठा को देखते हुये चंबल संभाग के लोगों ने अपने दिलों में जगह बना ली। फिर चाहे बाढ़ प्रभावित वाले लोग हो, कोरोना से पीड़ित हो, जहरीली शराब की रोकथाम के मामले हो या चहुमुखी विकास से प्रभावित होने वाले लोगों के मामले हों। हर क्षेत्र में चंबल कमिश्नर ने अपने अधिकारों का सदुपयोग कर लोगों के लिये विशेष उपलब्धी भरे काम किये है।         
चंबल कमिश्नर ने कोरोना की रोकथाम के लिये जिला प्रशासन के साथ समन्वय करते हुये त्रिस्तरीय पंचायत राज व्यवस्था के अन्तर्गत अंतिम छोर तक की ग्राम पंचायत तक गूगल मीट के माध्यम से क्षेत्रों का भ्रमण कर डोर टू डोर किल कोरोना अभियान में सफलता पूर्वक एक मार्गदर्शन देते हुये जिले में कोरोना को रोकने के लिये पुख्ता इंतजाम कराये।
कोरोना की द्वितीय लहर के दौरान ऑक्सीजन की पूर्ति के लिये स्थानीय शासन स्तर तक समन्वय स्थापित कर संभाग के तीनों जिलों में ऑक्सीजन की कमी को दृष्टिगत रखते हुये मुरैना, भिण्ड और श्योपुर जिले के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी। लगातार गुगल मीट, दूरभाष-मोबाइल पर चर्चा करके ऑक्सीजन सिलेण्डरों की व्यवस्था को बनाये रखा। कमिश्नर श्री सक्सेना ने अपने भरसक प्रयासों से ही मुरैना जिला मुख्यालय पर जिला चिकित्सालय सहित सातों विकासखण्डों के सामुदायिक और सिविल अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगवाने के लिये केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से सर्तक संवाद के जरिये ऑक्सीजन प्लांट का कार्य पूर्ण कराया गया है। भिण्ड जिले में मालनपुर स्थित सी.एस.आर. सेवा इंडस्ट्रीज और गेल कंपनी के सहयोग से कमिश्नर श्री सक्सेना ने भिण्ड जिला चिकित्सालय में 2 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित कराये, जो वर्तमान में चालू है। इसी तरह चंबल कमिश्नर ने केन्द्रीय कृषि कल्याण मंत्री एवं क्षेत्रीय सांसद श्री नरेन्द्र सिंह तोमर से भरपूर सहयोग लेकर श्योपुर जिले में 6 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित कराये है, इनमें 2 प्लांट चिकित्सालय श्योपुर में, 1-1 प्लांट सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कराहल, विजयपुर और बड़ौदा में स्थापित किया गया है।
कमिश्नर श्री सक्सेना के प्रयासों से प्रतिदिन गूगल मीट के माध्यम से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों, जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों, तहसीलदारों, नायब तहसीलदारों से कोविड वैक्सीनेशन के लक्ष्य की पूर्ति के लिये लगातार दिशा-निर्देश देते रहे। जिसके परिणाम भी अच्छे परिलक्षित हुये है। मुरैना जिले की सभी नगरीय निकायों में 17 सितम्बर 2021 तक प्रथम डोज लगाने का लक्ष्य पूर्ण कर लिया जायेगा। संभाग के तीनों जिलों के हॉस्पीटलों में अति आवश्यक स्वास्थ्य उपकरणों जैसे- सीटी स्केन मशीन, एक्सरा मशीन, एबुंलेन्स की व्यवस्था राज्य स्तर पर सचिव, प्रमुख सचिवों से चर्चा करके व्यवस्था कराई।
चंबल संभाग के मुरैना, भिण्ड और श्योपुर में अतिवर्षा और चंबल-क्वारी नदी का जलस्तर बढ़ने से आई बाढ़ से संभाग के हजारों लोग प्रभावित हुये है। कमिश्नर के सतत प्रयासों, लगातार भ्रमण करते रहने पर सभी बाढ़ प्रभावितों का पुनर्वास किया गया। उन्हें तत्काल ही भोजन, कपड़े सहित अन्य सुविधायें उपलब्ध करायी गई।
संभाग में हुई 13 लोगों की जनहानि हुई, उनके परिजनों को आर.बी.सी. 6(4) के तहत 52 लाख रूपये की राहत राशि दी गई। 63 पशु हानि होने पर 17 लाख 79 हजार, 3 हजार 242 लोगों के मकान क्षतिग्रस्त होने पर 1 करोड़ 21 लाख 39 हजार रूपये की राहत राशि दी गई है। अभी तक हुये सर्वे के अनुसार 23 लोगों के पूर्ण मकान क्षतिगस्त होने पर उन्हें 6 लाख 6 हजार से अधिक की राशि उपलब्ध करायी है।
इसी तरह पूर्ण क्षतिग्रस्त आवास जिनका निर्माण नहीं हो सकता। 3 हजार 791 लोगों को 44 लाख 69 हजार 703 रूपये लागत के प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत कराये गये है। इसके अलावा 21 लाख 26 हजार 808 रूपये की आर्थिक मदद दी गई है। शहरी क्षेत्र के 778 लोगों के आवास पूर्ण क्षतिगस्त होने पर नगरीय क्षेत्रों की प्रधानमंत्री आवास नीति के तहत 95 हजार 100 रूपये प्रति आवास के मान से स्वीकृति दी गई है। 23 हजार 333 लोगों के बाढ़ में बह गये कपड़े, बर्तन, खाद्यान्न आदि की क्षति के रूप में 5-5 हजार रूपये ऐसे 11 करोड़ 65 लाख 87 हजार रूपये की राशि वितरित की गई। सभी बाढ़ प्रभावितों को रोजगार से जोड़ने के लिये मनरेगा योजना के तहत निर्माण विकास कार्य खोलकर उन्हें मस्टर रोल देकर उन्हें रोजगार उपलब्ध कराया है।    
मुरैना जिले में जहरीली शराब से हुई अप्रिय घटना को लेकर चंबल कमिश्नर काफी चितिंत हुये। उन्होंने लगातार प्रभावित गांवों का भ्रमण कर मृतक परिजनों को आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई। संभाग पर एडीशनल कमिश्नर, आईजी के नेतृत्व में दल गठित कर प्रभावित क्षेत्रों का सघन भ्रमण कराया, जहां-जहां जहरीली शराब मिली, वहां उसको नष्ट कराया गया। राज्य स्तर के दल से इसकी जांच भी कराई गई। इस घटना से जुड़े 15 आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ 304, 34 ताहि 34, 49ए आवकारी एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया गया।  
ग्वालियर से श्योपुर तक चलने वाली नेरोगैज रेल्वे लाइन को ब्रॉडगैज में परिवर्तन कराने के लिये चंबल कमिश्नर का हर संभव सहयोग रहा। उनके द्वारा इस परियोजना में और अधिक तेजी लाई जाये, इसके लिये उन्होंने बैठकों का आयोजन करके परियोजना के कार्य में गति लाई गई। रेल्वे द्वारा ब्रॉडगैज लाइन बिछाने के लिये 657.275 हेक्टेयर भूमि की जरूरत बताई गई है, इसकी तुलना में अभी तक 190.805 हेक्टेयर जमीन शासकीय, 417.766 हेक्टेयर निजी भूमि और 43.812 हेक्टेयर वन भूमि का अधिग्रहण किया जा चुका है।
इसी तरह अटल चंबल प्रोग्रेस-वे के अन्तर्गत अभी तक शासन द्वारा 1480.926 हेक्टेयर भूमि कंपनी को उपलब्ध करायी जा चुकी है। 142 गांव की 1100.728 हेक्टेयर भूमि अदला-बदली कर कंपनी को सौंपी गई है।
चंबल कमिश्नर श्री सक्सेना के नेतृत्व में चंबल संभाग के तीनों जिलों की 1072 ग्राम पंचायतों में जी.पी.डी.पी. (ग्राम पंचायत विकास योजना) तैयार की गई। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के तहत मुरैना, श्योपुर और भिण्ड जिले के लिये बने रोडमैप का क्रियान्वयन कराया गया। कमिश्नर ने किसानों के पंजीयन को भू-अभिलेख के डाटाबेस पर आधारित बनाया। किसान की भूमि एवं फसल के बोये गये रकवे की जानकारी गिरदावरी डाटावेस से ली जायेगी, संबंधी महत्वपूर्ण कार्य किया। कमिश्नर ने योजनाओं के क्रियान्वयन में सकारात्मक पहल करते हुये तीनों जिलों की ग्रेडिंग में टॉप-10 पर रखने के भरसक प्रयास किये। इसका परिणाम यह रहा है कि तीनों जिलों की कई योजनाओं में टॉप-10 की श्रेणी में आये है।
चंबल कमिश्नर ने स्वच्छता, चंबल वाटर प्रोजेक्ट के लिये जी-जान से मेहनत कर रहे है। वे शासन की हर योजनाओं की समीक्षा सोमवार, मंगलवार को वर्चुअल मीटिंग के माध्यम से करते हुये इसके नतीजे भी सकारात्मक परिलक्षित हो रहें है। पर्यावरण को सुधारने के लिये भी हर संभव प्रयास जारी है। उन्होंने अंकुर अभियान चलाकर मुरैना, भिण्ड में 50-50 हजार और श्योपुर जिले में 28 हजार पौधरोपण का लक्ष्य निर्धारित किया है। इसके भी सकारात्मक परिणाम परिलक्षित हो रहें है। तीनों जिलों में युद्ध स्तर पर वृक्षारोपण का कार्य हो रहा है। अवैध उत्खनन, रेत माफियाओं के खिलाफ भी कमिश्नर के नेतृत्व में कड़ी कार्रवाही की गई है। इसी तरह मिलावटखोरों के खिलाफ लगातार कार्रवाही जारी है।
केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर की पहल पर कमिश्नर श्री सक्सेना ने भिण्ड के मालनपुर में सैनिक स्कूल और ऑयल कारपोरेशन के लिये भूमि आवंटन की प्रक्रिया को पूर्ण किया है। चंबल के बीहड़ों में एग्रीकल्चरय डव्लपमेन्ट को बड़े पैमाने पर कराने के लिये केन्द्रीय दल को बुलाकर निरीक्षण कराया है।  
 
(3 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2021अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer