समाचार
|| दीपावली के पूर्व 2.51 लाख आवासहीन परिवारों को मिलेगी अपने आवास की सौगात || किसान संतुलित उर्वरक का उपयोग करें || शुद्धिकरण पखवाड़ा संबंधी बैठक 16 अक्टूबर को || भव्य आतिशबाजी के साथ हुआ रावण दहन || पुलिस लाईन में कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने किया शस्त्र पूजन || अतिथि व्याख्याताओं के चयन हेतु 18 तक आवेदन आमंत्रित || कलेक्टर-एसपी ने देर रात शहर का भ्रमण कर लिया व्यवस्थाओं का जायजा || बरम खेड़ी के मूक बधिर छात्रावास का संचालन सोसायटी स्वयं के खर्च पर करने की इजाजत || शिविर में लैंगिक समानता,कन्या भ्रूण हत्या के बारे में लोगो को दी गई जानकारी || बाढ़ आपदा प्रबंधन के कार्य में कर्मचारियों की लगाई गई ड्यूटी से किया गया भार मुक्त
अन्य ख़बरें
सुलखमा में चरखा चलाने और सूत कातने की परम्परा आज भी जीवित (गांधी जयंती-2अक्टूबर पर विशेष)
महात्मा गांधी से प्रेरणा लेकर ग्रामीणों ने बनाया रोजगार का साधन
सतना | 01-अक्तूबर-2021
   सतना जिला मुख्यालय से लगभग 90 किलोमीटर की दूरी पर बसे सुलखमा गांव में महात्मा गांधी के आदर्शों से प्रेरणा लेकर ग्रामीण परिवारों ने स्वावलंबन के लिए चरखा चलाने और सूत कातने की परंपरा को आज भी जीवित रखा है। बुजुर्गों ने महात्मा गांधी से स्वावलंबन की शिक्षा ली और विरासत में पीढि़यों को सौंपकर परंपरागत रोजगार के साधन भी दे गए।
     सतना जिले की रामनगर तहसील का दूरस्थ गांव सुलखमा जहां आज भी कमोवेश हर घर में चरखे की आवाज सुनाई दे रही है। महात्मा गांधी ने सादगी और स्वावलंबन का जो पाठ पढ़ाया, उसी से प्रेरणा लेकर पीढ़ी दर पीढ़ी आज भी यहां के निवासी चरखे से सूत कातकर कंबल और देसी ऊन बनाने का काम कर रहे हैं। पाल जाति बाहुल्य इस गांव के परिवारों में भेड़ से बाल काटकर उनकी पोनी बनाने का काम पुरुषों के जिम्मे हैं। तो वहीं महिलाएं घरेलू काम निपटाकर बचे समय में चरखे चलाकर सूत कातती हैं। इस सूत से कंबल बनाने और उसे बाजार में बेचने का काम पुरुष ही करते हैं। ग्रामीण आजीविका के तहत कंबल बनाकर बेचना इस गांव के परिवारों का मुख्य पेशा भी है और आजीविका का साधन भी।
     सुलखमा के ग्रामीण रामभान पाल बताते हैं कि उनके गांव में यह परंपरागत कौशल कब से चल रहा है, यह तो नहीं मालूम। लेकिन जब से होश संभाला है, तब से इसी काम को रोजगार का जरिया बना लिया है। पुरुषों द्वारा शुरू किए गए इस काम में गांव के बहुत से परिवार लगे हुए हैं। भेड़ के बाल काट कर उनकी धुनाई करते हैं और पोनी बनाकर उसका सूत कातते हैं और फिर कंबल की बुनाई होती है। करीब 8 से 10 दिन में एक कंबल तैयार हो जाता है। एक हजार रूपये प्रति कंबल बेचकर 5 से 10 हजार रूपये की मासिक आमदनी हो जाती है।
     गोपाल पाल बताते हैं कि बचपन से देखते आ रहे हैं कि आजादी के बाद पहले लगभग सभी घरों में चरखा चलाने का काम होता था। लेकिन गांव के लोग दूसरे शहरों में रोजगार की तलाश में चले गए और बुजुर्ग सयाने हुनरमंदो में शारीरिक शिथिलता होने से अब 13-14 घरों में ही चरखा चलाकर सूत कातने और कंबल बनाने का काम हो रहा है।
      65 वर्षीय रुवसिया पाल बताती हैं कि चरखा चलाने का काम उनके मायके में भी होता था। लिहाजा सुलखमा आने पर उन्होंने यह कार्य जारी रखा। उम्र बढ़ने के साथ हाथ और पैरों में दर्द भी होने लगा है। अब उतने समय तक सूत कातने का काम नहीं हो पाता। ग्रामीण धीरज पाल का कहना है कि भले ही कई समस्याएं हों, लेकिन महात्मा गांधी के आदर्शों से प्रेरणा लेकर हमारे बुजुर्गों द्वारा सौंपी गई यह परंपरा हमारे लिए धरोहर से कम नहीं हैं। चरखा कातने और कंबल बिनाई के कार्य में शासकीय योजनाओं की मदद से मशीनीकरण को बढ़ावा देकर श्रम और समय की कमी की जा सकती है। जो कंबल बनाने में 8 से 10 दिन का समय लगता है, वह मशीनों के माध्यम से 1 से 2 दिन में तैयार किया जा सकता है। उन्नत तकनीक और आधुनिकीकरण से सूत कातने और खादी कंबल बनाने के ग्रामोद्योग कुटीर उद्योग से ग्राम्य स्वावलंबन की राह सशक्त की जा सकती है

(राजेश कुमार सिंह)
सहायक सूचना अधिकारी
जिला-सतना
मो.नं. 9425439107
 
(15 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2021नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer