समाचार
|| मतदान एवं मतगणना स्थलों/सामग्री वितरण एवं प्राप्ति स्थल पर निर्बाध विद्युत व्यवस्था के दिये निर्देश "त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022" || दिव्यांग मतदाताओं के लिये नियुक्त किये जायेंगे दिव्यांग मित्रहोगी व्हील चेयर की व्यवस्था " त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022" || सेक्टर हेल्थ रेग्युलेटर नियुक्त करने के निर्देश "त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022" || जेड प्लस श्रेणी के सुरक्षा प्राप्त स्टार प्रचारकों को विश्राम गृह आवंटन हेतु जारी किये दिशा-निर्देश "त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022" || सराय, होटल, लॉज एवं धर्मशाला में ठहरने वाले व्यक्तियों की देना होगी जानकारी "त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन-2022" || राष्‍ट्रीय पशुधन मिशन के उद्यमिता विकास कार्यक्रमों में आवेदन की तिथि बढ़ी || मछुआ कल्याण और मछली पालन के लिए जल्द लाई जाएगी संशोधित मछुआ नीति || स्व-सहायता समूहों को ऋण दिलाने के कार्य को गति दी जाए: पंचायत मंत्री श्री सिसोदिया || मुख्यमंत्री श्री चौहान की मंशा के अनुरूप प्रदेश में नई शिक्षा नीति का प्रभावी क्रियान्वयन किया जाएगा- राज्यमंत्री श्री परमार || हैण्डलूम एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल की सदस्यता लेगा मध्यप्रदेश एच.एस.व्ही.एन
अन्य ख़बरें
पूर्ण हो चुके पीएम ग्रामीण आवास में मनरेगा मजदूरी की राशि भी दे
मनरेगा कार्यो की गुणवत्ता की जांच अंत्योदय समिति भी कराएं, आवास प्लस में जोड़े गये नाम की सूची का प्रदर्शन करें
छतरपुर | 01-अक्तूबर-2021
     कलेक्टर छतरपुर शीलेन्द्र सिंह ने शुक्रवार को ग्रामीण विकास विभाग के कार्यो की समीक्षा करते हुए कहा कि पूर्ण हो चुके पीएम ग्रामीण आवास में मनरेगा मजदूरी की राशि का भी तुरंत भुगतान करें, निर्देश का उल्लंघन करने वाले सीईओ के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही होगी। उन्होंने कहा कि मनरेगा कार्यो की गुणवत्ता की जांच अंत्योदय समिति कराएं। सामाजिकहितों के कार्यों के सुधार में अंत्योदय समिति का योगदान भी ले। आवास प्लस में जोड़े गये नाम की सूची का प्रदर्शन पंचायत के सूचना पटल पर करें। समीक्षा बैठक में जिला पंचायत के एडिशनल सीईओ, मनरेगा शाखा प्रभारी तथा जनपदों के सीईओ, ईई और एई भी उपस्थित थे।
   बैठक में जल प्रबंधन समिति की समीक्षा में बताया गया कि राजनगर, छतरपुर एवं नौगांव ब्लॉक में 71 वॉटर सेक्युरिटी गठित हो चुकी है। शेष 75 की कार्यवाही जारी हैै। लुगासी पंचायत के सचिव द्वारा वॉटर सेक्युरिटी समिति की बैठक के लिए सहयोग नहीं किये जाने पर सचिव को नोटिस जारी करने निर्देश दिये गये। सीईओ से अपेक्षा की गई है कि जल प्रबंधन समिति की बैठक आयोजित करते हुए सरपंच, सचिवों को सहयोग करने के निर्देश प्रसारित करें। इस बैठक में जल प्रबंधन की दिशा में जागरूक एवं जानकार लोगों का सहयोग लेने पर जोर दिया गया।
   बैठक में बताया गया कि 7 अक्टूबर को ग्रामीण आवास मिशन के गृह प्रवेश का कार्यक्रम होगा। जिले के 18 हजार 565 लोगों को गृह प्रवेश कराने का लक्ष्य है। प्रदेश में छतरपुर जिला ग्रामीण आवास योजना में अग्रणी है। योजना में वर्ष 2021 के लक्ष्यपूर्ति के लिए जनपदवार लक्ष्य तय किये गये। कलेक्टर ने बताया कि वर्ष 2019-20 स्वीकृत ग्रामीण आवास के कार्यों के संबंध में सरपंच, सचिव तथा रोजगार सहायक की समीक्षा बैठक 7 एवं 8 अक्टूबर को की जाएगी।
   स्वच्छ भारत मिशन में जन जागरूकता के लिए सीईओ, एई दो दिवस तथा डीसी, वीसी या इंचार्ज को सप्ताह में चार दिवस ग्रामीण क्षेत्रों में जाना अनिवार्य होगा। तथा फॉलोअप से ही लोगों में जागृति लाए। यह अभियान देश के मा. प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री की सवोच्च प्राथमिकता से जुड़ा है। इसमे मिशन मोड में कार्य करना होगा।
   अपशिष्ट प्रबंधक की समीक्षा में शेष बचे शौचालय निर्माण कर्यो की 15 अक्टूबर तक पूर्ण करने के निर्देश दिये गये। सामुदायिक स्वच्छता परिसर से जुड़े निर्माण कार्य अगली बैठक तक पूर्ण करने और जियोटेग प्रक्रिया पूरी करने, सामुदायिक नाडेप, कचरा पेटी और पिट कम्पोस्ट के पूर्ण हो चुके कार्यो में जियो टेग प्रक्रिया पूरी करने तथा सामुदायिक शोकपिट के कार्यो में काम और सहयोग नहीं करने वाले सरपंच, सचिव, रोजगार सहायक के खिलाफ नोटिस जारी करने और इस कार्य को यथाशीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिये गये। जिले में गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष लेबर बजट दुगना व्यय हुआ है। इस वर्ष 105.15 फीसदी हासिल की गई है।
   छतरपुर जिले में अंकुर पौधरोपण अभियान में लक्ष्य के 4 लाख के विरूद्ध 4 लाख 10 हजार 500 पौधे निजी व्यक्तियों और समुदाय के सहयोग से रोपित किये गये है। कलेक्टर ने जो देते हुए कहा कि पौधे की सुरक्षा और पोषण पर समुचित ध्यान दे। डिमांड के अनुसार पौधरोपण कराते रहे। मनरेगा योजना में खेत तालाब नहीं बनाये इसकी जगह कपिल धारा के कुएं बनाये जाए। जिससे लोगों को जल स्त्रोत की उपलब्धता हो और खेती के लिए पर्याप्त पानी सुलभ हो चुके।
   आधार सीडिग की ब्लॉकवार समीक्षा करते हुए तेजी लाने और जहां 20 से अधिक श्रमिक कार्य कर रहे है उनके फोटो केप्चर उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये। जिले में वर्तमान में उपयोग नहीं आ रही और टूटीफूटी जल संरचना को उपयोगी बनाते हुए उसमें मत्स्य पालन, सिचांई और सिघाड़ा उत्पाद किया जाए।
(68 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2021जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer