समाचार
|| त्रि स्तरीय पंचायत निर्वाचन की तैयारियों के संबंध में टीएल बैठक आज || सितार वादन में संभागीय बाल भवन की छात्रा अनुष्का सोनी राष्ट्रीय कला उत्सव के लिए चयनित || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वैक्सीन के 9 करोड़ डोज़ पूरे होने पर दी बधाई || निर्वाचन मे अनुमति लेकर ही उपयोग होगें लाउड स्पीकर || पंचायत प्रतिनिधियों के वाहन होगें वापस || सम्पत्ति विरूपण रोकने दल गठित || जिले के ग्रामीण क्षेत्र के शस्त्र लाईसेंस निलंबित || बिना अनुमति मुख्यालय नही छोडेगें अधिकारी-कर्मचारी || ग्रामीण क्षेत्रो के अंतर्गत धारा-144 के प्रतिबंधात्मक आदेश जारी || त्रि-स्तरीय पंचायत निर्वाचन - मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा आज
अन्य ख़बरें
कुपोषण कलंक को दूर करने हेतु चौ-तरफा रणनीति का क्रियान्वयन करें – संभागायुक्त
विदिशा में बाल स्वास्थ्य संवर्धन योजना के उन्मुखीकरण कार्यक्रमों में शामिल हुए
भोपाल | 05-अक्तूबर-2021
   कुपोषण के कलंक को आगामी एक माह की अवधि में अर्थात बाल दिवस 14 नवम्बर तक कुपोषित बच्चो को सामान्य श्रेणी में लाने के लिए चौतरफा रणनीति का क्रियान्वयन कर हम समाज से कुपोषण को विमुक्त कर सकते है। इस बात का भी विशेष ध्यान रखा जाए कि चिन्हित सेम और मेम बच्चों के अलावा अन्य बच्चो पर भी ध्यान दिया जाए ताकि धोखे से सामान्य श्रेणी के बच्चे कुपोषण श्रेणी में शामिल ना हो पाए। भोपाल संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत ने मंगलवार को विदिशा जिले में बाल स्वास्थ्य संवर्धन योजना के उन्मुखी कार्यक्रमों में संबंधित विभागों के अधिकारियों से यह अपेक्षा की है ।
   संभागायुक्त श्री कियावत ने कहा कि बच्चे कुपोषित क्यों होते है उन कारणो को जानकार उन्हें दूर करना और कुपोषित बच्चो को सामान्य श्रेणी में लाने के लिए आवश्यक प्रबंध जिसमें खाद्य सामग्री, आवश्यक दवाईयां इसके अलावा स्वच्छता संबंधी बिन्दुओं पर उन्होंने गहन प्रकाश डाला है। संभागायुक्त श्री कियावत ने कहा कि निर्धारित गाइड लाइन में महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ-साथ अन्य विभागो का भी सहयोग अतिआवश्यक है। उन्होंने कहा कि जिले में सेम और मेम बच्चों का चिन्हांकन किया जा चुका है अब इन बच्चों पर विशेष नजर रखनी है ताकि
वे एक माह के पहले ही सामान्य श्रेणी के मापदण्डो के अनुरूप स्वस्थवर्धक हो सकें। इसके लिए उनके खान-पान, साफ सफाई, स्वास्थ्य संबंधी दवाईयों के अलावा बच्चों के अभिभावको को जागरूक करना अति आवश्यक है। इस कार्य में महिला एवं बाल विकास विभाग, स्वास्थ्य विभाग तथा पंचायत विभाग के अमले की महती भूमिका है।
   संभागायुक्त श्री कियावत ने निर्देश दिए है कि प्रत्येक परियोजना स्तर पर एक-एक कंट्रोल रूम संचालित किया जाए जिसमें परियोजना स्तर के ऐसे बच्चे जो कुपोषण की श्रेणी में शामिल है। उनकी समुचित जानकारी हो। ऐसे बच्चों के अभिभावको को कंट्रोल रूम में तैनात कर्मचारी सम्पर्क कर बच्चों के स्वास्थ्य, खान-पान और स्वच्छता संबंधी जानकारियां प्राप्त करेंगे वही यदि किसी अभिभावक के द्वारा स्वच्छता या खान-पान में किसी भी प्रकार की दिक्कत आ रही है तो उसकी मदद के लिए आवश्यक संसाधनो का सहयोग लिया जाएगा।
"व्यसन से दूर रहने की सलाह"
   संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत ने परियोजना स्तरों पर आयोजित पोषण मित्र कुपोषित बच्चों के अभिभावको का परियोजना स्तरीय उन्मुखीकरण कार्यक्रम एवं स्वास्थ्य जांच शिविर में मौजूद महिलाओं से संवाद कर घर के पारिवारिक सदस्यों से को व्यसन से दूर रहने की सलाह दें। नशा करने से अनेक प्रकार की शारीरिक मानसिक परेशानियां तो होती ही है साथ ही आर्थिक हानि भी होती है अतः नशा पर पैसा खचे करने की अपेक्षा बच्चों के स्वास्थ्य व पोषक डाइट पर राशि खर्च करें ताकि आने वाली पीढी को हम शारीरिक मानसिक रूप से सशक्त बना सकें।
   श्री कियावत ने कहा कि महिलाएं यदि ठान लें तो गांव में, घर में, कोई भी शराब, गुटका, सहित अन्य व्यसनों का सेवन नही कर सकेगा। जागरूकता के लिए नशा से दूर करने के अनेक उपाय संचालित किए जा रहे है अतः ऐसे व्यक्ति जो नशा के आदि हो गए है उनका नशा छुडाने के लिए महिलाएं आगे आएं।
"पोषक किट"
   संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत, कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव के अलावा अन्य अधिकारियों व अतिथियों के द्वारा आयोजन स्थलों पर कुपोषित बच्चो के परिवारजनों को पोषक किट प्रदाय की गई है जिसका सेवन बच्चों को कराने से अवगत कराया गया है।
   बाल स्वास्थ्य संवर्धन योजना के तहत आयोजित परियोजना स्तरीय उन्मुखीकरण कार्यक्रमों में महिला एवं बाल विकास विभाग के आंगनबाडी केन्द्रो तथा स्वंयसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधियों द्वारा सम्पूर्ण डाइट, पौष्टिक आहार पर तैयार किए गए भोज्य पदार्थो का प्रदर्शन कार्यक्रम स्थलों पर स्टॉलो के रूप में किया गया था जिसका अवलोकन संभागायुक्त सहित अन्य अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के द्वारा संयुक्त रूप से किया गया है। संवाद के दौरान कमिश्नर श्री कियावत ने आंगनबाडी केन्द्रो की कार्यकर्ता, सहायिका सहित अन्य से कहा कि वे अपनी-अपनी आंगनबाडी केन्द्रो में कोई भी कुपोषित बच्चा ना हो इसके लिए घर-घर सम्पर्क कर कुपोषण के कारणो और निदानो की जानकारी दें।
   संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत ने विदिशा जिला मुख्यालय पर एसएटीआई के कैलाश सत्यार्थी सभागृह कक्ष में आयोजित कार्यक्रम में कुपोषित बच्चों के अभिभावको से संवाद कर उन्हें कुपोषण से बचाव के लिए किए जा रहे प्रबंधो से अवगत कराया है। इसी प्रकार ग्यारसपुर,  बासौदा,  कुरवाई, सिरोंज, लटेरी, नटेरन परियोजना क्षेत्रों में आयोजित कार्यक्रमों में शामिल हुए। इस अवसर पर कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एपी सिंह के अलावा स्थानीय एसडीएम तथा महिला एवं बाल विकास विभाग की संयुक्त संचालक नकीजहां कुरैशी, जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री बृजेश शिवहरे तथा परियोजना अधिकारी, पोषण मित्र तथा गणमान्य नागरिक व महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी कर्मचारी मौजूद थे।
(61 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2021जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer