समाचार
|| सिहोरा को व्यवस्थित स्वरूप देने हटाये गये || आज 18 हजार व्यक्तियों को लगाई गई दूसरी डोज - कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान || दिव्यांग समल पारधी को मिली ट्राइसाइकिल || आठ अपराधियों का जिलाबदर || मंत्री श्री डंग द्वारा ऑक्सीजन प्लांट का मॉक ड्रिल करने के निर्देश || भोपाल गैस त्रासदी की 37वीं बरसी पर होगी सर्वधर्म प्रार्थना सभा || कलेक्टर ने किया संभाव्यतायुक्त ऋण योजना (पीएलपी) का विमोचन || मध्यप्रदेश राज्य रूपंकर कला पुरस्कार प्रदर्शनी के लिये प्रविष्टियाँ आमंत्रित || कलेक्टर ने की बैंक आधारित योजनाओं की समीक्षा || रंग अमीर राष्ट्रीय ललित कला प्रदर्शनी के लिये प्रविष्टियाँ आमंत्रित
अन्य ख़बरें
खेती किसानी के साथ-साथ किसानों को उद्यानिकी एवं पशुपालन के लिए भी करें प्रोत्साहित
कृषि उत्पादन आयुक्त श्री शैलेन्द्र सिंह ने खरीफ कार्यक्रम की समीक्षा एवं रबी की तैयारियों की समीक्षा बैठक में दिए अधिकारियों को दिशा-निर्देश
मुरैना | 11-अक्तूबर-2021
    किसानों की आय में वृद्धि करने के लिये किसानों को खेती किसानी के साथ-साथ उद्यानिकी, पशुपालन के लिए भी प्रोत्साहित किया जाए। किसानों को समय पर खाद-बीज की उपलब्धता सुनिश्चित करना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। कृषि उत्पादन आयुक्त श्री शैलेन्द्र सिंह ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ग्वालियर-चंबल संभाग में खरीफ कार्यक्रम की समीक्षा एवं रबी की तैयारियों की समीक्षा बैठक में यह बात कही।
    भोपाल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित समीक्षा बैठक में कृषि उत्पादन आयुक्त श्री शैलेन्द्र सिंह के साथ एमडी मंडी बोर्ड श्री विकास नरवाल, संचालक कृषि श्रीमती प्रीति मैथिल नायक सहित अन्य विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। इसके साथ ही ग्वालियर-चंबल संभाग के आयुक्त श्री आशीष सक्सेना, कुलपति कृषि विश्वविद्यालय डॉ. राव एवं सीईओ जिला पंचायत श्री आशीष तिवारी ग्वालियर से और ग्वालियर दृ चंबल संभाग के सभी जिलों के कलेक्टर और विभागीय अधिकारी अपने-अपने जिला मुख्यालय से बैठक में सम्मिलित हुए।
    मुरैना एनआईसी कक्ष से गूगल मीट के माध्यम से ऑनलाइन जुड़कर कलेक्टर श्री बी.कार्तिकेयन, जिला पंचायत के सीईओ श्री रोशन कुमार सिंह, अपर कलेक्टर सहित संबंधित विभागों के अधिकारियों ने जिले की विस्तार से जानकारी दी।  
    ग्वालियर संभाग में रबी कार्यक्रम 2021-22 में 1504.08 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में तथा चंबल संभाग में 765.03 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में रबी की बोनी का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। रबी कार्यक्रम के तहत गेहूँ, जौ, चना, मसूर, मटर, सरसों तथा अलसी की फसलें ली जायेंगीं।
    कृषि उत्पादन आयुक्त श्री शैलेन्द्र सिंह ने कहा है कि किसानों को पर्याप्त खाद-बीज उपलब्ध हो, इसकी व्यवस्था की गई है। सभी जिला कलेक्टर अपने-अपने जिलों में सतत निगरानी कर किसानों को उनकी मांग अनुसार खाद-बीज की उपलब्धता सुनिश्चित करें। खाद-बीज के वितरण में लापरवाही बरतने वालों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। नकली तथा अमानक स्तर का खाद-बीज किसानों को न मिले, इसके लिये निगरानी की जाए। नकली खाद-बीज का व्यवसाय करने वालों के विरूद्ध कठोरतम कार्रवाई भी की जाए। ग्वालियर चंबल संभाग के लिये डीएपी एवं एनपीके की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। किसी भी जिले में किसानों को उर्वरक की उपलब्धता में कोई कमी नहीं रहेगी। उन्होंने समीक्षा के दौरान यह भी कहा कि किसानों को आधुनिक खेती के संबंध में भी कृषि विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों द्वारा जानकारी दी जाए ताकि किसान अधिक से अधिक उपज लेकर अपनी आर्थिक स्थिति को और मजबूत कर सकें।
    कृषि उत्पादन आयुक्त श्री शैलेन्द्र सिंह ने कहा है कि शासन द्वारा किसानों के हित में अनेक योजनायें संचालित की गई हैं। इन योजनाओं का लाभ किसानों को समय रहते मिले, यह भी सभी जिला कलेक्टर सुनिश्चित करें। किसान क्रेडिट कार्ड हो या अन्य योजनायें किसानों को इसका लाभ समय पर मिलना चाहिए। बैठक में संचालक कृषि श्रीमती प्रीति मैथिल नायक ने कृषि विभाग के माध्यम से रबी कार्यक्रम के लिये प्रदेश स्तर से दिए गए दिशा-निर्देशों के संबंध में जिला कलेक्टरों से विस्तार से चर्चा की।
उद्यानिकी फसलों के लिये करें प्रोत्साहित
    उद्यानिकी विभाग की समीक्षा के दौरान कृषि उत्पादन आयुक्त श्री शैलेन्द्र सिंह ने कहा कि किसानों को खेती-किसानी के साथ-साथ उद्यानिकी फसलों को लेने के लिये भी प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। ग्वालियर-चंबल संभाग में उद्यानिकी का रकबा बढ़े, इसके भी विशेष प्रयास किए जाएं। उद्यानिकी के क्षेत्र में गुना, शिवपुरी सहित अन्य जिलों में अच्छी पैदावार हो रही है। इसको और प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि जिलों में फूड प्रोसेसिंग यूनिट की स्थापना के संबंध में भी विशेष प्रयास करने की आवश्यकता है। समीक्षा बैठक के दौरान उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि वे उद्यानिकी विभाग की विभिन्न योजनाओं से किसानों को अवगत कराएं और उन्हें खेती किसानी के साथ-साथ उद्यानिकी फसलों को लेने के लिये प्रोत्साहित करें।
दुग्ध संघ की समीक्षा
    दुग्ध उत्पादन को बढ़ाने के लिये दुग्ध संघ करे विशेष प्रयास। समीक्षा बैठक में कहा गया कि ग्वालियर-चंबल संभाग में दुग्ध संघ नई समितियों का गठन करने के साथ-साथ नए मिल्क रूट भी स्थापित करे। दुग्ध संघ के माध्यम से न केवल शहरी क्षेत्र में बल्कि ब्लॉक स्तर पर भी दुग्ध और दुग्ध से तैयार किए जाने वाले उत्पाद आम जनों को मिल सकें, ऐसे प्रयास किए जाएं। दुग्ध संघ स्मार्ट मिल्क पार्लर भी शहर के प्रमुख स्थानों पर स्थापित कराएं, ताकि लोगों को दुग्ध संघ के उत्पाद आसानी से उपलब्ध हो सकें।
    बैठक में यह भी कहा गया कि दुग्ध संघ न केवल नगरीय निकायों के माध्यम से बल्कि स्वयं भी अपने स्मार्ट मिल्क पार्लर तैयार कर शहर के प्रमुख स्थानों पर स्थापित करे ताकि दुग्ध संघ का प्रचार-प्रसार भी हो सके।
गौशालाओं का बेहतर उपयोग हो
    कृषि उत्पादन आयुक्त श्री शैलेन्द्र सिंह ने पशुपालन विभाग की समीक्षा के दौरान कहा है कि ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिलों में गौशालाओं का निर्माण किया गया है। इन गौशालाओं का बेहतर उपयोग प्रारंभ किया जाए। निराश्रित पशुओं को गौशालाओं में रखने का अभियान चलाकर कार्य किया जाए। गौशालाओं के संचालन में समाज के विभिन्न वर्गों का सहयोग भी लिया जाए। शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में तैयार की गई गौशालाओं में क्षमता के अनुरूप गायों को रखा जाए। गौशालाओं के संचालन के लिए शासन स्तर से जो अनुदान मिलता है उसके अतिरिक्त समाज को जोड़कर भी सहयोग लिया जाए ताकि गौशाला का संचालन बेहतर तरीके से हो सके।
कुलपति कृषि विश्वविद्यालय डॉ. राव ने समीक्षा बैठक के दौरान अपने महत्वपूर्ण सुझाव भी दिए। इसके साथ ही ग्वालियर-चंबल संभाग के आयुक्त श्री आशीष सक्सेना ने ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिलों में रबी वर्ष 2021-22 के लिये की गई तैयारियों के संबंध में जानकारी दी।

 
(53 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2021जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer