समाचार
|| दीपावली के पूर्व 2.51 लाख आवासहीन परिवारों को मिलेगी अपने आवास की सौगात || किसान संतुलित उर्वरक का उपयोग करें || शुद्धिकरण पखवाड़ा संबंधी बैठक 16 अक्टूबर को || भव्य आतिशबाजी के साथ हुआ रावण दहन || पुलिस लाईन में कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने किया शस्त्र पूजन || अतिथि व्याख्याताओं के चयन हेतु 18 तक आवेदन आमंत्रित || कलेक्टर-एसपी ने देर रात शहर का भ्रमण कर लिया व्यवस्थाओं का जायजा || बरम खेड़ी के मूक बधिर छात्रावास का संचालन सोसायटी स्वयं के खर्च पर करने की इजाजत || शिविर में लैंगिक समानता,कन्या भ्रूण हत्या के बारे में लोगो को दी गई जानकारी || बाढ़ आपदा प्रबंधन के कार्य में कर्मचारियों की लगाई गई ड्यूटी से किया गया भार मुक्त
अन्य ख़बरें
कलेक्टर ने आरबीएस के कार्यक्रम के तहत शिवांश को दी उपचार के लिए 6 लाख 50 हजार रूपये की सहायता राशि "कहानी सच्‍ची है"
-
गुना | 12-अक्तूबर-2021
श्री पवन ओझा अपनी पत्नि ओर दो बच्चों के साथ ब्रजविहार कालोनी, गुना में रहते हैं। उनका बडा़ बेटा 5 वर्ष का है। वह मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण करते है। शिवांश का जन्म उमरी के प्रा.स्वा.केन्द्र में हुआ था। वह जन्म से थोडा कमजोर था। जब वह 18 महीने का हुआ श्री पवन ओझा ने शिवांश को डॉ. प्रीति दुबे शिशु रोग विशेषज्ञ जिला चिकित्सालय गुना को दिखाया। उनके द्वारा बताया गया कि बच्चा अन्य बच्चों की तरह सामान्य नही है और उसकी एम.आर.आई जाँच करायी। एम.आर.आई से पता चला कि बच्चे की सुनने की क्षमता का विकास नही हुआ है और उनके द्वारा बच्चे को डॉ. वीरेन्द्र रघुवंशी नाक, कान, गला रोग विशेषज्ञ जिला चिकित्सालय के पास रेफर किया। डॉ. रघुवंशी ने प्रारंभिक जाँच के बाद बच्चे को डी.ई.आई.सी में जिला शीघ्र हस्तक्षेप प्रबंधक श्रीमति विनीता सोनी के पास राष्ट्रीय बाल स्वा. कार्यक्रम के अंतर्गत निःशुल्‍क उपचार हेतु भेजा। यहां पर ओडियोलोजिस्ट दीपचंद सैनी द्वारा बच्चे की ओडियोमेट्री जाँच की गई। इसके बाद विनीता सोनी द्वारा शिवांश के पिता एवं उसकी माता को समझाया गया कि आपके बच्चे को बिल्कुल भी सुनाई नही देता इसके लिए एक बडी़ जाँच होगी। जिसको बेराटेस्ट बोलते है यह आरबीएस के अंतर्गत मान्यता प्राप्त अस्पतालों इंदौर, भोपाल, ग्वालियर में निःशुल्‍क करायी जाती है। आपको जहां भी सुविधा हो वहां का रेफरल लेटर बना देते है। पवन ओझा को भोपाल में जाना सुविधाजनक लगा। भोपाल के हाजेला हॉस्पिटल में बच्चे की निःशुल्‍क सीटी स्केन, एम.आर.आई, बेराटेस्ट एवं अन्य जाँचें की गई और जाँचो के आधार पर ऑपरेशन के लिए 6 लाख 50 हजार रूपये का स्टीमेट दिया गया।
    राष्ट्रीय बाल स्वा. कार्यक्रम के अंतर्गत मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पी.बुनकर की अध्यक्षता में गठित कमेटी द्वारा बच्चे की कॉक्लियर इम्पालांट सर्जरी हेतु 6 लाख 50 हजार रूपये की स्वीकृति प्रदान की गई। शिवांश के पिता पवन ओझा ने बताया कि इस ऑपरेशन को लेकर उसके मन में बहुत तरह-तरह के विचार आ रहे थे। उसके गांव के लोगों का कहना था कि तुम्हारा बच्चा गूंगा, बहरा है। यह तो भगवान की देन है। यह कभी अच्छा नही हो सकता इसका कोई ईलाज नही है। ऐसी बातें सुनकर उसकी पत्नि और वह अपने बच्चें के ठीक होने की उम्मीद छोड चुके थे। परंतु श्रीमति विनीता सोनी ने उनके मन की शंकाओं को सुना तो उनको बताया कि आपके बच्चे का उपचार संभव है बच्चे का एक छोटा सा ऑपरेशन होता है। जिसमें कान की कॉक्लियरनामक नस के अंदर एक छोटा सा डिवाइस लगाया जाता है जिसे कॉक्लियर इम्पालांट सर्जरी कहते है औ ऑपरेशन के बाद एक प्रोसेसर कान के बाहर लगाया जाता है। जिसकी तरंगों से बच्चा सुनता है। बच्चे की संबंधित चिकित्सा संस्था द्वारा 1 वर्ष तक एवीटी (स्पीच थैरेपी) नि:शुल्‍क की जाती है। इसके बाद डी.ई.आई.सी में ऑडियोलोजिस्ट द्वारा प्रतिदिन स्पीच थैरेपी प्रदान की जाती है। आप अपने बच्चे के साथ जितनी मेहनत करोगें, बच्चा उतनी जल्दी सामान्य बच्चों की तरह बोलने और सुनने लगेगा।
    आज जनसुनवाई में श्री पवन ओझा भावुक होकर बोलते है कि कलेक्टर श्री फ्रेंक नोबल ए. मेरे लिए भगवान के रूप में आये है। जिनके कारण मेरा बच्चा उपचार के बाद बोल औ सुन सकेगा। मैं कलेक्‍टर श्री फ्रेंक नोबल ए. का बहुत-बहुत आभार व्यक्त करता हूं, जिन्होने मेरे बच्चे के उपचार के लिए इतनी बडी राशि की स्वीकृति प्रदान की, जिसकी कल्पना मात्र भी मेरे लिए असंभव थी।

 
(4 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2021नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
27282930123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer