समाचार
|| इजराइली जल प्रबंधन विशेषज्ञ खजुराहो पहुंचे || राज्यपाल श्री पटेल तीन दिवसीय प्रवास पर आज आएंगे रीवा || तीन चरणों में होंगे पंचायत चुनाव - राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री सिंह || कृषि मंत्री श्री कमल पटेल ने नेमावर में किये नर्मदा मैया के दर्शन || मंत्री डॉ. मिश्रा ने बाबा महाकाल, मंगलनाथ और शनिदेव के किये दर्शन || निःशुल्क चिकित्सा शिविर में दो दिन में लगभग 65 हजार लोग हुए लाभान्वित || तीन चरणों में होंगे पंचायत चुनाव - राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री सिंह || जल जीवन मिशन में प्रशिक्षण और जन-जागरूकता का दौर जारी || राज्यपाल श्री पटेल एवं मुख्यमंत्री श्री चौहान ने चित्र प्रदर्शनी का किया अवलोकन || गरीबों और जनजातीय वर्ग की जिंदगी बदलने का अभियान चलाएँगे - मुख्यमंत्री श्री चौहान
अन्य ख़बरें
डेंगू व चिकुनगुनिया से बचाव के लिए मच्छरों पर नियंत्रण आवश्यक
-
पन्ना | 19-अक्तूबर-2021
   मच्छर से फैलने वाले डेंगू, चिकुनगुनिया जैसी बीमारियों से सुरक्षा के लिए मच्छरों से बचाव व नियंत्रण हेतु जनभागीदारी व जनजाग्रति का होना आवश्यक है। वर्षाकाल में जगह-जगह पानी इकटठा हो जाने से उनमें मच्छरों की उत्पत्ति व वृद्धि होती है। ये मच्छर रोगी व्यक्ति को काटने पर संक्रमित हो जाते हैं व इन संक्रमित मच्छर के काटने से डेंगू, चिकुनगुनिया, रोग का प्रसार होता है। इस बीमारी से ग्रसित रोगी को बुखार, सिरदर्द, बदनदर्द, उल्टी आना, ठंड लगना जैसे लक्षण होते हैं जिनका त्वरित उपचार आवश्यक है।
   डेंगू व चिकुनगुनिया रोग सफेद चकत्ते वाले ,डीज मच्छर के काटने से फैेलता है। यह मच्छर दिन में सक्रिय रहता है। बीमारी फैलाने वाले मच्छर घरों में नमी वाले अंधेरे स्थान में विश्राम करते हैं एवं साफ व रूके पानी में पनपते हैं जो कि हमारे घरों में व आस-पास पानी से भरे पात्र जैसे-गमले, टंकी, टायर, मटके, कूलर, टूटा-फूटा कबाड़ में भरे पानी, नल, हैण्डपंप व कुएं के आस-पास भरे पानी में मच्छर अपने अण्डे देते हैं व 7 से 12 दिन में अंडे से मच्छर बनने का जीवनचक्र पूर्ण हो जाता है। अतः पानी से भरे बर्तन, टंकियों आदि का पानी सप्ताह में अवशय बदलते रहें व कुएं, हैण्डपंप, नल के आस-पास पानी इकट्ठा न होने दें उन्हें मिट्टी से भराव करायें या पानी की निकासी कराकर मच्छरों कीे उत्पत्ति स्थल को नष्ट करें, व मच्छरों के लार्वा नहीं पनपने दें। मच्छरों से बचाव करें। मच्छरों से बचाव के लिए सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें, पूरे आस्तीन के कपडे़ पहनंे, मच्छर भगाने वाली क्रीम या क्वाइल का उपयोग करंे, नीम की पत्ती का धुंआ करें।
    डेंगू के लक्षण जैसे तीव्र बुखार, सिरदर्द ,मांसपेशियों में दर्द ,जी मचलना ,उलटी होना, गंभीर मामलों में नाक, मुंह, मसूड़ों से खून आना, आँखों के पीछे दर्द होना ,त्वचा पर लाल चकत्ते होना, डेंगू के लक्षणण् दिखने पर तुरंत चिकित्सक से सलाह ले, डेंगू की जाँच जिला चिकित्सालय पन्ना में निःशुल्क की जाती है। मध्यप्रदेश नगरपालिका अधिनियम 1961 की उपविधि-11 के अंतर्गत नगरी निकायों को यह अधिकार प्राप्त है की यदि किसी व्यक्ति या प्रतिष्ठान या कार्यालय में मच्छर के लार्वा पाए जाते हैं तो अधिकतम 500 रूपये तक का जुर्माना सम्बंधित व्यक्ति के ऊपर किया जा सकता है। पन्ना शहरी क्षेत्र में जिला मलेरिया कार्यालय टीम द्वारा कुल 21770 घरों का लार्वा सर्वे, कुल 405 घरों में लार्वा पाए गए कुल 11005 कंटेनर सर्वेक्षित किए गए, कुल 2314 कंटेनर में लार्वा पाए गए, वार्ड न-17,11,09,15,16,20,08,09 इंडोर फोगिंग तथा पम्पलेट वितरित कर प्रचार प्रसार किया गया।
(47 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2021जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer