समाचार
|| मतदान एवं मतगणना स्थलों/सामग्री वितरण एवं प्राप्ति स्थल पर निर्बाध विद्युत व्यवस्था के दिये निर्देश "त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022" || दिव्यांग मतदाताओं के लिये नियुक्त किये जायेंगे दिव्यांग मित्रहोगी व्हील चेयर की व्यवस्था " त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022" || सेक्टर हेल्थ रेग्युलेटर नियुक्त करने के निर्देश "त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022" || जेड प्लस श्रेणी के सुरक्षा प्राप्त स्टार प्रचारकों को विश्राम गृह आवंटन हेतु जारी किये दिशा-निर्देश "त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022" || सराय, होटल, लॉज एवं धर्मशाला में ठहरने वाले व्यक्तियों की देना होगी जानकारी "त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन-2022" || राष्‍ट्रीय पशुधन मिशन के उद्यमिता विकास कार्यक्रमों में आवेदन की तिथि बढ़ी || मछुआ कल्याण और मछली पालन के लिए जल्द लाई जाएगी संशोधित मछुआ नीति || स्व-सहायता समूहों को ऋण दिलाने के कार्य को गति दी जाए: पंचायत मंत्री श्री सिसोदिया || मुख्यमंत्री श्री चौहान की मंशा के अनुरूप प्रदेश में नई शिक्षा नीति का प्रभावी क्रियान्वयन किया जाएगा- राज्यमंत्री श्री परमार || हैण्डलूम एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल की सदस्यता लेगा मध्यप्रदेश एच.एस.व्ही.एन
अन्य ख़बरें
एक स्वस्थ एवं नशा मुक्त समाज ही श्रेष्ठ भारत का निर्माण करेगा - न्यायाधीश श्री विष्णु दुबे
सिविल हॉस्पिटल शुजालपुर सिटी में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन
शाजापुर | 23-अक्तूबर-2021
    ‘आजादी का अमृत महोत्सव‘ के अंतर्गत प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश तथा अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री सुरेन्द्र श्रीवास्तव  के मार्गदर्शन में तहसील विधिक सेवा समिति शुजालपुर के तत्वाधान में आज  न्यायाधीश श्री विष्णु दुबे की अध्यक्षता में सिविल हॉस्पिटल शुजालपुर सिटी में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन न्यायाधीश श्री विष्णु दुबे ने गणेशजी की मूर्ति पर दीप प्रज्वलित कर किया।
   न्यायाधीश श्री विष्णु दुबे ने शिविर में उपस्थित स्वास्थ्य विभाग के स्टाफ एवं डॉक्टर्स को कोरोना महामारी में अपनी सेवाएं देने के लिए धन्यवाद व्यक्त किया।उन्होंने कहा कि बाल विवाह निषेध अधिनियम 2006, मानसिक रूप से बीमार व विकलांग व्यक्ति के लिए कानूनी सेवाएं, नशीली दवाओं का दुरूपयोग व उसका उन्मूलन, नारकोटिक ड्रग्स एवं साइकोट्रोपिक सब्सटेंस एक्ट 1985 पर विस्तृत एवं सारगर्भित जानकारी दी।
   न्यायाधीश श्री विष्णु दुबे ने कहा कि हमें बाल विवाह एवं नशा मुक्ति को लेकर जागरूक होना ही है और साथ-साथ हमें अपने आसपास के लोगों को भी जागरूक कर एक स्वस्थ एवं नशा मुक्त समाज बनाने में अपना योगदान देते हुए हमें अपनी नैतिक जिम्मेदारी का पालन करना है। उन्होंने कहा कि नशा ना सिर्फ नशा करने वाले व्यक्ति को बल्कि उसके संपर्क में आने वाले सभी व्यक्तिओं को प्रभावित करता है। नशा हमारे समाज में व्याप्त ऐसा अभिशाप है, जिसके कारण कई परिवार आर्थिक संकट एवं पारिवारिक कलह से जूझ रहे है। इसी तरह बाल विवाह ऐसी कुरीति है जिसके कारण कम उम्र में बच्चों की शादी कर देने से उनके स्वास्थ्य, मानसिक विकास और खुशहाल जीवन पर बुरा असर पड़ता है।
    कार्यक्रम का संचालन श्री उमेश शर्मा ने किया एवं आभार मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. श्री राजेश तिवारी ने व्यक्त किया। उक्त कार्यक्रम में अभिभाषक संघ से अधिवक्ता श्री जितेंद्र गुरेनिया, स्वास्थ्य विभाग का स्टाफ एवं तहसील विधिक सेवा समिति के स्टाफ सहित बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।

 
(46 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2021जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer