समाचार
|| योग को खेल के रूप में शालेय शिक्षा के पाठ्यक्रम में सम्मिलित किया जाएगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान || जनता के कार्यों को तत्परता और प्राथमिकता से पूरा करें : मुख्यमंत्री श्री चौहान || शत- प्रतिशत वैक्सीनेशन कराकर महाअभियान को सफल बनाएँ : मुख्यमंत्री श्री चौहान || मुकुंदपुर टाइगर सफारी विन्ध्य के मनोरम स्थलों में एक है : राज्यपाल श्री पटेल || संरक्षित वन क्षेत्रों से ग्रामों के पुनर्वास के लिए अब प्रति परिवार मुआवजा 10 से बढ़ाकर 15 लाख हुआ || प्रदेश के युवाओं में उद्यमिता के गुण विकसित करना और निवेश के लिए सबसे आकर्षक राज्य बनाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री श्री चौहान || कोरोना की तीसरी लहर से बचाव के लिए सतर्कता आवश्यक- मुख्यमंत्री श्री चौहान || जनता के कार्यों को तत्परता और प्राथमिकता से पूरा करें : मुख्यमंत्री श्री चौहान || संरक्षित वन क्षेत्रों से ग्रामों के पुनर्वास के लिए अब प्रति परिवार || सिविल सर्जन और सीएमएचओ अस्पतालों की जरूरतों का आकलन कर लें
अन्य ख़बरें
महिलाएं कानून का उपयोग ढाल के रूप में करें तलवार के रूप में नहीं: प्रधान जिला न्यायाधीश श्री चंद
-
सीहोर | 23-अक्तूबर-2021
    विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार प्रधान जिला न्यायाधीश श्री आरएन चंद की अध्यक्षता में आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत "पेन इंडिया अवेयरनेस कार्यक्रम के तहत विधिक जागरूकता के उद्देश्य से ग्राम पंचायत बरखेड़ी में विधिक जागरूकता शिविर आयोजित किया गया।
   प्रधान जिला न्यायाधीश श्री चंद ने कहा कि विद्यार्थी हमारे देश का भविष्य हैं, यही हमारे कर्णधार है। विद्यार्थियों में समाज व देश का नेतृत्व करने की क्षमता है, अपनी क्षमता को पहचाने और उसका उपयोग सही दिशा में करें, गलत कामों में समय लगाने से स्वयं के साथ समाज भी पीछे जाएगा। महिलाओं के संबंध में कानूनों की जानकारी देते हुए कहा कि हमारे देश की संस्कृति में नारी को मातृत्व व देवत्व के समान पूजा जाता है, लेकिन वर्तमान में नशा एवं व्यसनों में आकर लोग इस संस्कृति को भूल बैठे हैं, हम आज आजादी के 75 वर्ष पूरे होने की खुशी में आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं, लेकिन इसकी सार्थकता तब होगी जब हम हमारी संस्कृति को पहचानते हुए नारी का आदर करेंगे और गलत कामों में शक्ति न लगाकर सही कामों में लगाकर विश्व शक्ति बनेंगे महिलाओं के संरक्षण एवं सम्मान के लिए कई सख्त कानून बने हैं लेकिन महिलाओं को उनका उपयोग ढाल के रूप में करना चाहिए तलवार के रूप में नहीं, अगर महिलाएं कानून का उपयोग तलवार के रूप में करेंगी तो सामाजिक ढांचा अस्त-व्यस्त हो जाएगा।
     जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री मुकेश कुमार दांगी ने कहा कि प्राधिकरण का मूल उद्देश्य एवं कार्य है कि गरीब एवं निर्धन व्यक्ति को निःशुल्क एवं सुलभ न्याय मिले, प्राधिकरण हर वर्ग को निःशुल्क विधिक परामर्श देने के लिए तत्पर है और उसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए गांव-गांव जाकर आमजन को योजनाओं की जानकारी देकर जागरूक किया जा रहा है।
     व्यवहार न्यायाधीश सुश्री वैशाली बरेडिया ने कहा कि संविधान एवं मूल कर्तव्यों एवं अधिकारों के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि जितने भी कानून बनें हैं वे सब हमें संविधान से प्रदत्त अधिकारों की रक्षा के लिए हैं यदि हमारे अधिकारों में कोई भी अतिक्रमण होता है तो वह अपराध होता है और उसे करने वाला अपराध का भागी और उसके विरूद्ध विधि अनुसार अवश्य कार्यवाही होगी।
     जागरूकता शिविर में जनपद पंचायत सीईओ श्री सिद्धगोपाल वर्मा ने सरकार द्वारा विभाग के माध्यम से चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी दी। महिला बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री प्रफुल खत्री ने महिला बाल विकास विभाग के माध्यम से चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी दी। महिला बाल विकास विभाग द्वारा 04 बच्चियों को प्रधान जिला न्यायाधीश ने लाडली लक्ष्मी योजना से लाभांवित कराया गया। शिविर के पश्चात पौधारोपण भी किया। कार्यक्रम में जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री अनीस उदद्दीन अब्बासी, विधिक सेवा से श्री राजकुमार थावानी उपस्थित थे।
(46 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2021जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer